loader

बीजेपी-शिंदे सरकार ने विपक्ष के कई नेताओं की सुरक्षा हटाई

महाराष्ट्र की बीजेपी-एकनाथ शिंदे सरकार ने विपक्षी दलों के 25 नेताओं की सुरक्षा हटा दी है। इन नेताओं में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के उद्धव ठाकरे गुट के नेता शामिल हैं। जिन नेताओं की सुरक्षा हटाई गई है उनमें अनिल देशमुख, छगन भुजबल, बालासाहेब थोराट, नितिन राउत, नाना पटोले, जयंत पाटिल, संजय राउत, विजय वडेट्टीवार, धनंजय मुंडे, नवाब मलिक, नरहरि झिरवल, सुनील केदार, असलम शेख, अनिल परब और अन्य के नाम शामिल हैं। 

एनसीपी के नेता और राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री अजीत पवार और पूर्व गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल की सुरक्षा को जेड कैटेगरी से घटाकर वाई प्लस कर दिया गया है। 

हालांकि एनसीपी के मुखिया शरद पवार, उनकी बेटी और बारामती लोकसभा सीट से सांसद सुप्रिया सुले सहित उनके परिवार की सुरक्षा बरकरार रखी गई है।

ताज़ा ख़बरें
दिलचस्प बात यह है कि उद्धव ठाकरे के निजी सचिव मिलिंद नार्वेकर को 'वाई-प्लस-एस्कॉर्ट' कवर दिया गया है। कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्रियों अशोक चव्हाण और पृथ्वीराज चव्हाण को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है। सरकार का कहना है कि सुरक्षा कवर के बारे में सभी फैसले नेताओं की सुरक्षा को खतरे के मद्देनजर लिए जाते हैं और सुरक्षा हटाने या घटाने के कदम का राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है।
Maharashtra Government Removes Security Of Opposition Leaders - Satya Hindi

नया सियासी समीकरण

महाराष्ट्र में नवंबर 2019 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद जब शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने मिलकर महा विकास आघाडी सरकार बनाई थी तो एक नए समीकरण का उदय हुआ था। इससे पहले महाराष्ट्र में कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना-बीजेपी का गठबंधन होता था लेकिन महा विकास आघाडी के नए गठबंधन के बाद बीजेपी अलग-थलग पड़ गई थी। जून में शिवसेना में हुई बगावत के बाद बीजेपी को राज्य की सत्ता में वापसी करने का मौका मिला है। 

सामने हैं बीएमसी चुनाव 

महाराष्ट्र में आने वाले दिनों में बृहन्मुंबई महानगरपालिका यानी बीएमसी के चुनाव होने हैं। बीएमसी के चुनाव बेहद अहम होते हैं और इस चुनाव में बीजेपी और शिवसेना का शिंदे गुट एक तरफ होंगे जबकि शिवसेना का उद्धव ठाकरे गुट, कांग्रेस और एनसीपी मिलकर चुनाव लड़ेंगे। 

महाराष्ट्र से और खबरें

शिवसेना के एकनाथ शिंदे और उद्धव ठाकरे गुट के बीच चल रहे घमासान को देखते हुए चुनाव आयोग ने शिवसेना के आधिकारिक चुनाव चिन्ह धनुष और बाण को फ्रीज कर दिया था। इसके बाद दोनों गुटों को अलग-अलग नाम आवंटित किए हैं और साथ ही अलग-अलग चुनाव चिन्ह भी दिए गए हैं। शिवसेना के उद्धव ठाकरे गुट को शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे का नाम दिया गया है और इस गुट को मशाल का चुनाव चिन्ह मिला है जबकि एकनाथ शिंदे गुट को बालासाहेबची शिवसेना का नाम मिला है और एक ढाल और दो तलवार का चुनाव चिन्ह दिया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें