loader

कोविड रिपोर्ट नहीं तो महाराष्ट्र में 4 राज्यों के लोगों की एंट्री नहीं

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए महाराष्ट्र ने दिल्ली-एनसीआर, गुजरात, राजस्थान और गोवा यानी चार राज्यों के लोगों के लिए कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट ज़रूरी कर दिया है। इसका मतलब है कि उन राज्यों के लोग बिना कोरोना टेस्ट के प्रमाण पत्र के महाराष्ट्र में नहीं आ सकेंगे। महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना संक्रमण को लेकर विस्तृत गाइडलाइंस जारी की है। 

देश में सबसे ज़्यादा बुरी तरह प्रभावित रहे महाराष्ट्र में फ़िलहाल कोरोना का संक्रमण कम हो रहा है और इसी के मद्देनज़र राज्य सरकार अतिरिक्त एहतियात बरत रही है। यह एहतियात ख़ासकर उन राज्यों के लोगों के लिए है जहाँ कोरोना संक्रमण ज़्यादा फैला है। ये एहतियात ऐसे समय में बरते जा रहे हैं जब दुनिया के कई देशों में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर आई है। 

ख़ास ख़बरें

सरकार की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है कि मुम्बई सहित महाराष्ट्र के हर एयरपोर्ट पर बाहर से आने वाले मुसाफिरों का पूरा डेटा और रिकॉर्ड रखा जाएगा। सड़क मार्ग से दूसरे राज्य से आने वाले लोगों के लिए भी ऐसे ही निर्देश जारी किए गए हैं। 

मुसाफिरों के लिए जारी दिशा-निर्देश

  • हर मुसाफिर को RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट साथ में लेकर चलना ज़रूरी। 
  • जिनकी टेस्ट रिपोर्ट नहीं उन्हें एयरपोर्ट पर उतरने के बाद टेस्ट करवाना होगा।  
  • टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर कोरोना प्रोटोकॉल के तहत इलाज कराना होगा। 
  • ट्रेन के मुसाफिरों के लिए भी कोरोना RT-PCR टेस्ट करवा कर रिपोर्ट साथ रखना ज़रूरी।

सड़क यातायात के लिए नियम

महाराष्ट्र की सीमा से सटे बॉर्डर क्षेत्र के कलेक्टरों को आदेश दिया गया है कि वे बाहर से आने वाली गाड़ियों के अंदर बैठे लोगों की थर्मल चेकिंग करवायें और जिनका तापमान सही है उन्हें ही राज्य की सीमा के अंदर आने की इजाज़त दी जाए।

साथ ही यह भी निर्देश दिया गया है कि जिनको कोरोना लक्षण है या बुखार है या कोई और फ्लू की शिकायत है उन्हें राज्य की सीमा में न आने दिया जाए और कोरोना पॉजिटिव कोई पाया जाए तो उसे कोरोना सेंटर इलाज के लिए भेजा जाए। 

प्रधानमंत्री-मुख्यमंत्रियों की बैठक कल 

देश में तेज़ी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक लेंगे। यह बैठक वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग से होगी और इसमें हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, गुजरात, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल और केरल के मुख्यमंत्री भाग लेंगे। कोरोना संक्रमण से निपटने के उपायों पर चर्चा होगी। 

maharashtra makes covid-negative report mandatory for passengers from 4 states - Satya Hindi
देश भर में कोरोना संक्रमण के मामले फिर से तेज़ी से बढ़ने लगे हैं और ये ताज़ा फ़ैसले तब लिए जा रहे हैं जब सुप्रीम कोर्ट ने आज ही राज्यों को कोरोना पर नियंत्रण के लिए तैयारी के निर्देश दिए हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यदि राज्य तैयार नहीं होंगे तो दिसंबर में बहुत ख़राब हालत होगी। कोर्ट ने तो दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र और असम से दो दिनों में स्टेटस रिपोर्ट भी तलब की है। इन राज्यों में कोरोना संक्रमण के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं। साथ ही सभी राज्यों से पूरी तैयारी रखने को कहा गया है।

हाल के दिनों में जिस तरह से कई राज्यों में संक्रमण के मामले बढ़े हैं, सरकार की चौकसी बढ़ी है, सुप्रीम कोर्ट तक को दखल देना पड़ा है उससे सवाल खड़ा होने लगा है कि क्या भारत में भी कोरोना की दूसरी लहर आने वाली है? कोरोना की दूसरी लहर से दुनिया के कई देश जूझ रहे हैं। जिन देशों में दूसरी लहर आई है वहाँ यह पहले से ज़्यादा आक्रामक है और अधिकतर देशों में तो यह पहले से दोगुनी तेज़ी से बढ़ रहा है।

वीडियो में देखिए, क्या कोरोना से जान बचा सकता है स्टेराइड?

इन राज्यों से भी बढ़ी चिंता

भारत में चिंता बढ़ने का एक कारण यह भी है कि जिन राज्यों में कोरोना संक्रमण के कुल मामले अब तक कम रहे हैं वहाँ संक्रमण बढ़ने लगा है। हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों में संक्रमण के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं। हालाँकि, सबसे ज़्यादा प्रभावित राज्यों में से एक उत्तर प्रदेश में भी संक्रमण के मामले ज़्यादा आने लगे हैं। राजस्थान में रिकॉर्ड 3000 से ज़्यादा संक्रमण के मामले आने लगे हैं। हिमाचल प्रदेश में भी इस महीने सक्रिय संक्रमण के मामले दोगुने हो गए हैं। 

कई राज्यों में संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं, इसी को देखते हुए केंद्र सरकार ने कई राज्यों में उच्चस्तरीय टीमें भेजी हैं। पहले राजस्थान, गुजरात, हरियाणा और छत्तीसगढ़ में ये टीमें भेजी गई थीं और फिर उत्तर प्रदेश, पंजाब और हिमाचल प्रदेश में भी भेजी गई हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें