loader

राउत ने फिर इशारों में बागी विधायकों को अनपढ़ और चलती-फिरती लाशें बताया

शिवसेना के वरिष्ठ नेता और सांसद संजय राउत ने इमाम अली के कोट का सहारा लेते हुए अंसतुष्ट विधायकों को चलती-फिरती लाशें बताया है। राउत ने शिया मुसलमानों के पहले इमाम और सुन्नी मुसलमानों के चौथे खलीफा हजरत अली के कोट को शेयर किया है, जिसमें लिखा है - अनपढ़ता (जेहालत) एक तरह की मौत जैसी है और जाहिल लोग (अनपढ़ लोग) चलती-फिरती लाशों की तरह हैं। 
राउत ने इमाम अली का यह कोट नहजुल ब्लागा नामक पुस्तक से लिया है। लेकिन दरअसल, उन्होंने इस सुप्रसिद्ध कोट के जरिए गुवाहाटी में डेरा जमाए बागी विधायकों पर निशाना साधा है।
राउत ने यह भी कहा है कि बागी विधायकों के संबंध में सुप्रीम कोर्ट का जो निर्देश सोमवार को आया है, उसके मुताबिक अब इन बागी विधायकों के पास कम से कम महाराष्ट्र में कोई काम नहीं है। वे होटल में आराम करें।

ताजा ख़बरें
इससे पहले राउत ने कहा था कि गुवाहाटी में 40 बागी विधायक जिंदा लाश की तरह हैं और उनकी आत्माएं मर चुकी हैं। शिवसेना नेता ने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, "उनके वापस आने पर उनके शवों को पोस्टमार्टम के लिए सीधे विधानसभा भेजा जाएगा। वे जानते हैं कि यहां लगी आग में क्या हो सकता है। इस बयान पर काफी विवाद हुआ था।

राउत कई तरह के विवादों में घिरते जा रहे हैं। उन्हें ईडी ने भी तलब कर रखा है। अधिकारियों के मुताबिक, राउत का यह ताजा मामला ईडी द्वारा मुंबई की एक 'चॉल' के पुनर्विकास और उनकी पत्नी और दोस्तों से जुड़ा वित्तीय लेनदेन का मामला है। राउत ने सोमवार को ट्वीट किया था कि मुझे अभी पता चला है कि ईडी ने तलब किया है। अच्छा! महाराष्ट्र में बड़े राजनीतिक घटनाक्रम हैं। हम, बालासाहेब के शिवसैनिक एक बड़ी लड़ाई लड़ रहे हैं। यह मुझे रोकने की साजिश है। भले ही आप मेरा सिर काट दें, लेकिन मैं गुवाहाटी का रास्ता नहीं अपनाऊंगा।

महाराष्ट्र से और खबरें
शिवसेना इस समय बड़े संकट का सामना कर रही है। एकनाथ शिंदे का दावा है कि शिवसेना के 40 विधायकों ने बगावत कर दी है। उसकी वजह से महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। शिंदे इन बागी विधायकों के साथ गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं, जिनमें नौ मंत्री भी शामिल हैं। इन मंत्रियों के विभाग सोमवार को वापस ले लिए गए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें