loader

महाराष्ट्र में 47 हज़ार 827 केस; ऐसी स्थिति रही तो लॉकडाउन संभव: उद्धव

महाराष्ट्र में फिर से लॉकडाउन लगाया जा सकता है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि यदि कोरोना की मौजूदा स्थिति ऐसी ही बनी रही तो लॉकडाउन लगाने से इनकार नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा है कि कोरोना को नियंत्रित करने के लिए हर रोज़ ढाई लाक आरटी पीसीआर टेस्ट करने का लक्ष्य रखा गया है। इस बीच राज्य में शुक्रवार को 47 हज़ार 827 संक्रमण के मामले रिकॉर्ड किए गए हैं। राज्य में यह अब तक का सबसे ज़्यादा आँकड़ा है। 24 घंटे में 202 लोगों की मौत हो गई है। अब तक राज्य में 29 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 55 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

उद्धव ठाकरे का यह बयान तब आया है जब उन्होंने शुक्रवार को ही राज्य में कोरोना की स्थिति को लेकर समीक्षा बैठक की और देर शाम को राज्य के लोगों को उन्होंने संबोधित किया।

ताज़ा ख़बरें

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की स्थिति बिगड़ने पर स्वास्थ्य सेवाओं के बुनियादी ढांचे की कमी पड़ सकती है। उन्होंने कहा, 'कुछ दिनों में कोरोना पर अंकुश लगाने के लिए सख्त प्रतिबंध जारी किए जाएँगे। अगर पॉजिटिव केसों की संख्या बढ़ती रहती है तो अगले 15-20 दिनों में हेल्थकेयर इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमी हो सकती है।' 

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, 'लेकिन मैं आपको यह भी बताना चाहता हूँ कि मैं कई और लोगों से बात करूँगा। मैं चाहता हूँ कि इस चेन को कैसे तोड़ा जाए। मैं लॉकडाउन नहीं चाहता, लेकिन इसका क्या समाधान है?'

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर पहले से काफ़ी ज़्यादा गंभीर है। ऐसा इसलिए कि जब पहली लहर आई थी तो एक दिन में सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले पिछले साल 11 सितंबर को आए थे और तब 24 हज़ार 886 संक्रमण के मामले रिकॉर्ड किए गए थे। अब जब दूसरी लहर आई है तो शुक्रवार को क़रीब 48 हज़ार संक्रमण के मामले आए हैं। यानी इस बार क़रीब दो गुना ज़्यादा मामले आ चुके हैं।

मुंबई शहर में 8646 पॉजिटिव केस आए जो एक दिन में अब तक के सबसे ज़्यादा हैं। महाराष्ट्र के ही शहर पुणे में भी कोरोना के एक दिन में अब तक सबसे ज़्यादा मामले आने लगे हैं।

पुणे में कल से रात का कर्फ्यू

कोरोना मामलों में ख़तरनाक स्तर की बढ़ोतरी होने के साथ महाराष्ट्र के पुणे में अधिकारियों ने कम से कम एक सप्ताह की अवधि के लिए शाम छह बजे से सुबह छह बजे तक के कर्फ्यू की घोषणा की है। 12 घंटे का यह कर्फ्यू का आदेश कल से लागू होगा और अगले शुक्रवार तक रहेगा। पुणे संभाग के आयुक्त सौरभ राव ने शुक्रवार दोपहर कहा कि धार्मिक स्थान, होटल और बार, शॉपिंग मॉल और मूवी थियेटर सभी अगले सात दिनों तक बंद रहेंगे। इस दौरान केवल भोजन, दवाओं और अन्य आवश्यक सेवाओं की होम डिलीवरी की अनुमति होगी। बता दें कि पुणें में गुरुवार को 8 हज़ार से ज़्यादा मामले आए थे। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

बता दें कि अब तक कई ज़िलों और शहरों में काफ़ी सख्ती की गई है। कुछ जगहों पर लॉकडाउन भी लगाया गया है। राज्य में 28 मार्च से ही रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है। सार्वजनिक सभाओं पर भी प्रतिबंध लगाया जा चुका है। 

महाराष्ट्र में संक्रमण के मामलों को देखते हुए सरकार ने सोशल डिस्टेंसिंग जैसे सुरक्षा के उपायों के लिए सख्ती बढ़ाई है। इसके अलावा लोगों की जाँच तक पहुँच बढ़ाने के लिए आरटी पीसीआर टेस्ट की क़ीमतें 1000 रुपये से कम कर 500 रुपये कर दी है। 

maharashtra records 47827 corona cases as uddhav thackeray says lockdown can not be ruled out - Satya Hindi

दिल्ली में लॉकडाउन नहीं: केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने साफ़ कहा है कि दिल्ली में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा। वह भी तब जब एक दिन में 3500 से ज़्यादा संक्रमण के मामले आए हैं। केजरीवाल ने ही कहा है कि दिल्ली में कोरोना की चौथी लहर है। दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से संक्रमण के मामले बेतहाशा बढ़ रहे हैं। 

यहाँ एक दिन पहले ही संक्रमण के 2790 मामले दर्ज किए गए थे। यह इस साल एक दिन में सबसे ज़्यादा था। बुधवार को 1819 संक्रमण के मामले दर्ज किए गए थे। यानी दो दिन में ही संक्रमण के मामले क़रीब दोगुने हो गए। 

देश में एक दिन में 81 हज़ार संक्रमण के केस

देश में कोरोना का संक्रमण भयावह होता जा रहा है। बीते 24 घंटों में संक्रमण के 81,466 नए मामले सामने आए हैं और यह पिछले छह महीने में सबसे बड़ा आंकड़ा है। बीते दिन कोरोना संक्रमण ने 72 हज़ार का आंकड़ा पार किया था। इससे साफ है कि संक्रमण बेहद तेज़ रफ़्तार के साथ फैल रहा है। बीते 24 घंटों में 469 लोगों की मौत हुई है जबकि पिछले दिन यह संख्या 459 थी। भारत में अब तक कुल 1,23,03,131 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं जबकि 1,63,396 लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या 6,14,696 हो गई है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें