loader

मनसे की धमकी के बाद बढ़ाई गई औरंगजेब के मकबरे की सुरक्षा

राज ठाकरे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना यानी मनसे की धमकी के बाद औरंगजेब के मकबरे की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। मनसे के कार्यकर्ताओं ने औरंगाबाद में स्थित औरंगजेब के मकबरे को तहस-नहस करने की धमकी दी थी।

कुछ दिन पहले ही एआईएमआईएम के नेता अकबरुद्दीन ओवैसी महाराष्ट्र के दौरे पर आए थे और इस दौरान वह औरंगजेब के मकबरे पर भी गए थे। 

ओवैसी के औरंगजेब के मकबरे पर जाने के कदम की शिवसेना के सांसद संजय राउत और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने तीखी आलोचना की थी।

ताज़ा ख़बरें

मनसे के नेता गजानन काले ने कहा था कि शिवाजी की धरती पर मुगल शासक के मकबरे की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा था कि अगर इस मकबरे को ध्वस्त कर दिया जाता है तो औरंगजेब के वंशज उस स्थान पर श्रद्धांजलि देने नहीं जाएंगे।

गजानन काले ने दावा किया था कि शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे चाहते थे कि औरंगजेब के मकबरे को गिरा दिया जाए। काले ने शिवसेना से पूछा था कि क्या वे बालासाहेब ठाकरे ने जो कहा था उस पर अमल करना चाहते हैं।  

औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर 

काले ने कहा था कि शिवसेना औरंगाबाद का नाम बदलने को लेकर भी अपने स्टैंड से पलट चुकी है। बता दें कि औरंगाबाद का नाम बदलने को लेकर भी महाराष्ट्र में अच्छी खासी सियासत हो चुकी है। शिवसेना लंबे वक्त से मांग करती रही है कि औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर रखा जाए लेकिन सत्ता में आने के बाद वह इस पर आगे नहीं बढ़ सकी है। क्योंकि कांग्रेस ने इसका विरोध किया था।

महाराष्ट्र से और खबरें

कुछ दिन पहले ही राज ठाकरे ने औरंगाबाद में एक बड़ी रैली की थी। 

हिंदुत्व के नए चेहरे

राज ठाकरे इन दिनों हिंदुत्व के नए चेहरे बनकर उभरे हैं और बीजेपी ने भी लाउड स्पीकर हटाए जाने के मामले में उनका समर्थन किया है। ऐसे में शिवसेना को भी राज ठाकरे के हिंदुत्व के इस नए अवतार से चुनौती मिलती दिखाई दे रही है। 

मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाए जाने की मांग को लेकर मनसे पहले ही उद्धव ठाकरे सरकार को चेतावनी दे चुकी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें