loader

अर्णब ने 'लाखों' की घूस पूर्व रेटिंग एजेंसी प्रमुख को दी: पुलिस

मुंबई पुलिस ने टीआरपी स्कैम में कथित तौर पर सीधे अर्णब गोस्वामी का हाथ होने का पहली बार सबूत होने का दावा किया है। पुलिस ने अदालत में सोमवार को रिमांड रिपोर्ट पेश की है। इसमें इसने कहा है कि रिपब्लिक टीवी के प्रमुख संपादक अर्णब गोस्वामी ने रिपब्लिक न्यूज़ के दो चैनलों की रेटिंग बढ़ाने के लिए ब्रॉडकास्ट ऑडिएंस रिसर्च काउंसिल यानी बार्क के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता को लाखों रुपये का भुगतान किया था। 

ख़ास ख़बरें

पार्थो दासगुप्ता को पिछले हफ़्ते ही गिरफ़्तार किया गया था। इससे पहले टीआरपी स्कैम के मामले में ही रिपब्लिक टीवी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विकास खानचंदानी को मुंबई पुलिस गिरफ़्तार कर चुकी थी। टीआरपी स्कैम के मामले में अब तक 15 गिरफ़्तारी हो चुकी है। लेकिन अब तक सीधे अर्णब गोस्वामी का नाम नहीं आया था। 

लेकिन अब मुंबई पुलिस ने सीधे अर्णब का हाथ होने का आरोप लगाया है। हालाँकि इस रिमांड रिपोर्ट में भी आरोपियों के रूप में 'रिपब्लिक के मालिक' का नाम है, लेकिन विशेष रूप से अर्णब गोस्वामी के नाम का ज़िक्र नहीं है। 

रिमांड रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि अर्णब गोस्वामी ने दासगुप्ता और बार्क के एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी - पूर्व सीओओ रोमिल रामगढ़िया को भुगतान किया।

रामगढ़िया पर रिपब्लिक टीवी के अंग्रेजी और हिंदी चैनलों की टीआरपी में हेरफेर करने के लिए 'कुछ चैनलों को गुप्त और गोपनीय जानकारी देने' का आरोप है। 

देखिए वीडियो में, टीवी चैनल कैसे करते हैं फर्जीवाड़ा?
पुलिस ने दासगुप्ता की रिमांड की मांग करते हुए मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत को बताया, '...जब दासगुप्ता ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल या बार्क के सीईओ थे, अर्णब गोस्वामी और मामले के अन्य आरोपियों ने रिपब्लिक भारत हिंदी न्यूज चैनल और रिपब्लिक टीवी इंग्लिश न्यूज चैनल की टीआरपी को अवैध रूप से बढ़ाने की साज़िश रची थी। ऐसा करने के लिए गोस्वामी ने कई अवसरों पर दासगुप्ता को लाखों रुपये का भुगतान किया, यह जाँच में पाया गया है।'
पुलिस की रिपोर्ट के अनुसार दासगुप्ता ने पैसे का इस्तेमाल आभूषण और अन्य क़ीमती सामान खरीदने के लिए किया जो उनकी गिरफ़्तारी के समय उनके आवास से जब्त किए गए थे।

पुलिस ने कहा, 'उस खरीद में लगभग 1 लाख रुपये की एक Tag Heuer घड़ी और 2.22 लाख रुपये के नकली आभूषण और पत्थर शामिल हैं।'

बता दें कि टीआरपी में गड़बड़ी का यह मामला 8 अक्टूबर को तब सामने आया जब मुंबई पुलिस ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस की थी। 6 अक्टूबर को केस दर्ज किया गया था। मुंबई पुलिस का दावा है कि कुछ टीवी चैनल पैसे देकर अपनी टीआरपी बढ़ाया करते थे। इस मामले में रिपब्लिक टीवी पर भी गंभीर आरोप लगे हैं।

mumbai police alleges arnab goswami bribed to fudge ratings in trp scam case - Satya Hindi

टीआरपी स्कैम में रिपब्लिक टीवी सहित तीन चैनलों के नाम सामने आए। मुंबई पुलिस ने दावा किया था कि विज्ञापन की ऊँची क़ीमतें वसूलने के लिए ये चैनल रेटिंग से छेड़छाड़ करा रहे थे जो कि धोखाधड़ी की श्रेणी में आती है। तीन में से दो चैनलों के मालिकों को पहले ही गिरफ़्तार किया जा चुका था। इसके बाद दिसंबर महीने में  रिपब्लिक टीवी के सीईओ विकास खानचंदानी को गिरफ़्तार किया गया था। इससे पहले 10 अक्टूबर को रिपब्लिक टीवी के सीईओ विकास, सीएफ़ओ शिव सुब्रह्मण्यम सुंदरम सहित छह लोगों को समन भेजा गया था। 

बता दें कि जब अक्टूबर महीने में पहली बार यह मामला आया था तब रिपब्लिक भारत टीवी अप्रत्याशित रूप से पिछले छह हफ़्तों से नंबर एक चैनल बन गया था। तब यह कहा गया कि सुशांत सिंह पर इकतरफ़ा कवरेज से उसे ज़्यादा दर्शकों ने देखा और उसकी लोकप्रियता बढ़ी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें