loader

पुरानी है नारायण राणे और उद्धव ठाकरे की सियासी अदावत

महाराष्ट्र की सियासत के दो बड़े सूरमा आमने-सामने हैं। इनके नाम हैं- नारायण राणे और उद्धव ठाकरे। राणे बीजेपी में हैं और केंद्र सरकार में मंत्री हैं जबकि ठाकरे शिव सेना के प्रमुख हैं और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद पर हैं। दोनों के बीच पुरानी सियासी अदावत रही है। इस अदावत को जानने के लिए पीछे चलना होगा। 

69 साल के राणे ने अपना राजनीतिक करियर शिव सेना से ही शुरू किया था। वह शिव सेना के संस्थापक बाला साहेब ठाकरे के बेहद करीबियों में शुमार होते थे। 1990 में पहली बार शिव सेना के टिकट पर विधायक बने थे। 

ताज़ा ख़बरें

उद्धव का किया था विरोध 

राणे शिव सेना में शाखा प्रमुख जैसे शुरुआती दायित्व से चलकर बाला साहेब के आशीर्वाद से 1999 में मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंच गए। लेकिन 2003 में जब उद्धव ठाकरे को शिव सेना का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया तो राणे ने इसका पुरजोर विरोध किया और उनका विरोध जारी रहने के बाद 2005 में बाला साहेब ठाकरे ने राणे को पार्टी से बाहर कर दिया। 

Narayan Rane Uddhav Thackeray CONTROVERSY - Satya Hindi

कांग्रेस भी छोड़ी 

राणे की राजनीतिक महत्वाकांक्षाएं किसी से छिपी नहीं हैं। शिव सेना छोड़ने के बाद वे कांग्रेस में आए लेकिन 2017 में कांग्रेस छोड़ दी। उन्होंने पार्टी पर आरोप लगाया कि उसने उन्हें मुख्यमंत्री बनाने का वादा पूरा नहीं किया। इसके बाद उन्होंने अपनी पार्टी महाराष्ट्र स्वाभिमान पक्ष बनाई और फिर उसका बीजेपी में विलय कर दिया। राणे के बेटे नितेश राणे भी विधायक हैं। 

2019 में राणे को बीजेपी ने राज्यसभा में भेजा। इसके बाद राणे ने ठाकरे परिवार पर चुन-चुनकर हमले किए और जो उनका ताज़ा बयान है, जिसे लेकर इतना विवाद हुआ है, यह उसी दिशा में एक और बयान है। 

राणे के सियासी क़द का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि मोदी कैबिनेट के हालिया विस्तार में उन्हें पहले नंबर पर शपथ दिलाई गई थी।

बीएमसी चुनाव पर नज़र 

बीजेपी की नज़र फरवरी, 2022 में होने वाले बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के चुनाव पर है। महा विकास अघाडी के तीनों दल मिलकर बीएमसी का चुनाव लड़ेंगे तो निश्चित रूप से बीजेपी के लिए मुसीबत खड़ी होगी, इसलिए बीजेपी चाहती है कि राणे के प्रभाव का इस्तेमाल बीएमसी चुनाव में किया जाए। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

राणे की जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान भी बीजेपी ने बीएमसी चुनाव को लेकर माहौल बनाने की कोशिश की। जन आशीर्वाद यात्रा पर मुंबई पुलिस काफ़ी सख़्त रही और उसने इसके आयोजकों और बीजेपी नेताओं के ख़िलाफ़ धड़ाधड़ एफ़आईआर दर्ज कर दीं। 

राणे और उद्धव के बीच यह सियासी अदावत आने वाले दिनों में और बढ़ सकती है क्योंकि राणे उन्हें गिरफ़्तार किए जाने के मामले में इतनी आसानी से चुप नहीं बैठेंगे। राणे अगर क़दम उठाएंगे तो निश्चित तौर पर उद्धव भी उसका जवाब देंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें