loader

विधानसभा चुनाव: क्या अनुच्छेद 370 हटाने को नकार दिया जनता ने?

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के नतीजों ने एक बात स्पष्ट कर दी है कि देश की जनता का जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने को लेकर क्या रुख है। इन दोनों ही प्रदेशों में जनता ने भारतीय जनता पार्टी के प्रति अपनी नाराजगी व्यक्त की है। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनुच्छेद 370 को हटाने को प्रमुख मुद्दा बनाया था। प्रधानमंत्री ने तो यह तक कहा था कि जो अनुच्छेद 370 का समर्थन नहीं कर सकते उन्हें डूबकर मर जाना चाहिए। 
ताज़ा ख़बरें

मोदी ने कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेताओं को चुनौती देते हुए कहा था कि यदि उनमें दम है तो वे अपने घोषणा पत्रों में इस बात का उल्लेख करें कि चुनाव जीतने के बाद अनुच्छेद 370 को फिर से लागू कर देंगे। यही नहीं उन्होंने महाराष्ट्र से सेना में भर्ती होने वाले सैनिकों की कश्मीर या सीमा पर शहादत को अनुच्छेद 370 से जोड़ते हुए कहा था कि जब महाराष्ट्र का कोई जवान शहीद होता है तो उसका इससे नाता क्यों नहीं हो सकता? 

चुनावी रैलियों में अमित शाह ने कहा था कि महाराष्ट्र और हरियाणा के चुनावी नतीजे यह बता देंगे कि देश की जनता अनुच्छेद 370 को हटाने के मुद्दे के साथ है या नहीं! लेकिन शायद अब भारतीय जनता पार्टी का कोई भी प्रवक्ता और नेता इसका जवाब देना पसंद नहीं करेगा। और ना ही वह अमित शाह के बयान के आधार पर इस बात का आकलन करने की कोशिश करेगा कि अगर जनता अनुच्छेद 370 को हटाने के पक्ष में है तो उन्हें इतना कम समर्थन क्यों मिला?

महाराष्ट्र से और ख़बरें

विधानसभा चुनाव के साथ में महाराष्ट्र में लोकसभा की एक सीट पर उपचुनाव भी था और वह भी बीजेपी बड़े अंतर से हार गयी है। यहां से बीजेपी ने छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज उदयन भौसले को मैदान में उतारा था। भौसले चार महीने पहले ही राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के टिकट पर इस सीट से चुनाव जीते थे और प्रदेश में बीजेपी द्वारा प्रोत्साहित की गयी दल-बदल की आंधी में सांसद पद से इस्तीफ़ा देकर बीजेपी में शामिल हो गए थे। 

मराठा आरक्षण के साथ-साथ, मराठा मतों को अपनी तरफ़ आकर्षित करने के लिए बीजेपी ने छत्रपति शिवाजी का कार्ड खेला लेकिन जनता ने उसे नकार सा दिया। उल्लेखनीय है कि उदयन भौसले के इस फ़ैसले ने शरद पवार को काफी विचलित कर दिया था और उन्होंने उन्हें हराने का बीड़ा ही उठा लिया था। इसी सातारा लोकसभा में प्रचार सभा के दौरान भरी बारिश में पवार ने अपना भाषण जारी रखा था जिसकी काफी चर्चा हुई थी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें