loader

महाराष्ट्र : पुलिस ने अश्लील डांस के लिए लड़कियों को किया मज़बूर

महाराष्ट्र के जलगाँव की इस घटना ने पूरे पुलिस महकमे को शर्मसार कर दिया है। जलगाँव पुलिस पर महिला हॉस्टल की लड़कियों से ज़बरन कपड़े उतरवाने और उनसे अश्लील नृत्य करवाने का आरोप लगा है। बताया जा रहा है कि आशादीप महिला हॉस्टल में रहने वाली लड़कियों से कपड़े उतरवाए गए और उनसे नृत्य करवाया गया। एक ग़ैरसरकारी संगठन की शिकायत पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।

झूठे मामले में फँसाने की धमकी

दरअसल, एक सामाजिक संस्था ने इस शर्मनाक घटना का पर्दाफाश करते हुए जलगाँव के कलेक्टर से इसकी शिकायत की थी। शिकायत करते समय इस संस्था ने सुबूत के तौर पर इस घटना से जुड़ा एक वीडियो भी कलेक्टर को दिया, जिसके बाद कलेक्टर अभिजीत राऊत ने इस मामले की निष्पक्ष जाँच करने के आदेश दिए हैं।

ख़ास ख़बरें

घटना 1 मार्च की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि जाँच के नाम पर कुछ पुलिस कर्मचारी और कुछ अन्य लोग हॉस्टल में दाखिल हुए और उन्होंने लड़कियों को कपड़े उतरवाकर डांस करने पर मजबूर किया। जब लड़कियों ने ऐसा करने से इनकार किया तो उन्हें झूठे मामलों में फँसाने की धमकी दी गई।

विधानसभा में उठा मुद्दा

जलगाँव से बीजेपी विधायक श्वेता महाले ने विधानसभा में जब जलगाँव हॉस्टल कांड का मुद्दा उठाया तो महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए फौरन जाँच के आदेश दे दिए और 4 सदस्यों की एक कमेटी का गठन कर दिया। यह कमेटी 2 दिन में अपनी प्राथमिक रिपोर्ट गृह मंत्रालय को सौंपेगी। विधायक श्वेता महाले का कहना है कि पहले जलगाँव पुलिस इस मुद्दे पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही थी, लेकिन सामाजिक संस्था ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया।

पर्दा डालने की कोशिश

उधर सामाजिक महिला एवं बाल विकास कल्याण मंत्री यशोमती ठाकुर ने कहा की महिलाओं की सुरक्षा के साथ किसी भी कीमत पर समझौता नहीं किया जाएगा। यशोमती ने कहा कि उन्होंने जलगाँव के कलेक्टर से इस पूरे मामले की रिपोर्ट तलब की है और इस घटना में शामिल पाए गए लोगों पर कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया है। इसके अलावा यशोमती ठाकुर ने महाराष्ट्र के अन्य महिला हॉस्टल की सुरक्षा कड़ी करने के आदेश भी दिए हैं।

गौरतलब है कि महिला और बालकल्याण विभाग की ओर से इस हॉस्टल में बेसहारा, प्रताड़ित और पीड़ित महिलाओं व लड़कियों के रहने-खाने का इंतजाम किया जाता है। इस मामले की शिकायत करने वाली सामाजिक संस्था को शिकायत मिली थी कि हॉस्टल में कुछ अनैतिक काम हो रहा है।

इसका पता लगने के लिए सामाजिक संस्था के लोग हॉस्टल पहुँचे, लेकिन हॉस्टल के सुरक्षा अधिकारियों ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया गया। इसके बाद हॉस्टल की लड़कियों ने खिड़कियों से चिल्ला कर पूरी घटना के बारे में बताया।  फिलहाल इस मामले की जाँच राज्य सरकार द्वारा गठित चार सदस्यों की टीम ने करनी शुरू कर दी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सोमदत्त शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें