loader

लाउडस्पीकर विवाद: महाराष्ट्र में सुरक्षा कड़ी, अलर्ट पर है पुलिस

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे के द्वारा मस्जिदों में अजान होने पर लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाने के एलान के कारण पूरे महाराष्ट्र में सुरक्षा व्यवस्था बेहद चुस्त है। बुधवार सुबह मुंबई में चारकोप मस्जिद के सामने हनुमान चालीसा का पाठ किया गया है। 

मनसे के हजारों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने नोटिस भेजा है और राज ठाकरे के खिलाफ भी शिकंजा कसते हुए औरंगाबाद रैली में दिए गए उनके भाषण को लेकर एफआईआर दर्ज की गई है। मनसे के कार्यकर्ताओं ने कहा है कि वह पुलिस के सामने नहीं झुकेंगे।

पुलिस तैनात

हालात को देखते हुए पूरे महाराष्ट्र में पुलिस सतर्क है और गृह मंत्रालय ने राज्य भर में पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं। पुलिस की कई बटालियनों को राज्य के अलग-अलग हिस्सों में तैनात किया गया है और तीस हजार से ज्यादा होमगार्ड को ड्यूटी पर लगाया गया है।

ताज़ा ख़बरें

राज ठाकरे का पत्र

मंगलवार रात को भी राज ठाकरे ने देशवासियों को लिखे पत्र में लाउडस्पीकर के मुद्दे को उठाया और कहा कि लाउडस्पीकर को हटाने के लिए महाराष्ट्र के लोग सभी राजनीतिक दलों से बाहर निकल कर आगे आएं और देश की सभी सरकारों पर लाउडस्पीकर बंद करने के लिए दबाव डालें। राज ठाकरे ने सरकारों को हिंदुओं की ताकत क्या है यह दिखाने के लिए और इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट का आदेश का पालन कराने के लिए दबाव बनाने का आह्वान किया है।

Raj Thackeray Deadline on Loudspeaker Row - Satya Hindi
राज ठाकरे ने औरंगाबाद की रैली में भी उद्धव ठाकरे सरकार को चेताया था कि महाराष्ट्र की सभी मस्जिदों से 3 मई तक लाउडस्पीकर हट जाने चाहिए और अगर ऐसा नहीं होता है तो उनकी पार्टी के कार्यकर्ता मस्जिदों के आगे दोगुनी आवाज में हनुमान चालीसा बजाएंगे।
महाराष्ट्र से और खबरें

मंगलवार को कानून और व्यवस्था के बारे में जानने के लिए राज्य के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने महाराष्ट्र पुलिस के डीजीपी और तमाम आला अफसरों के साथ बैठक की थी।

कुल मिलाकर मुंबई में लाउडस्पीकर पर जबरदस्त घमासान चल रहा है और अब दूसरे प्रदेशों में भी धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। उत्तर प्रदेश में सभी धार्मिक स्थलों से पुलिस ने हजारों की संख्या में लाउडस्पीकर हटा दिए हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें