loader

'ज्ञानवापी' के बीच पुणे के दो मंदिरों का मुद्दा क्यों उठा रहे मनसे नेता?

वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मसजिद विवाद की तरह ही अब महाराष्ट्र के पुणे में भी ऐसा ही एक विवाद उठने की आशंका है। वहाँ दो दरगाहों को लेकर अब कई हिंदू संगठनों और राजनीतिक दलों ने मुद्दा बनाना शुरू कर दिया है। दावा किया जा रहा है कि वहाँ पहले मंदिर थे और मुगल शासन के दौरान उन मंदिरों को तोड़कर दरगाह बनाई गई थी। अब राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना यानी एमएनएस ने मुद्दा बनाने की कोशिश की है।

हाल के कुछ हफ़्तों में उत्तर भारत में कई जगहों पर ऐसे मुद्दों को उछाला गया है। ख़ासकर, ज्ञानवापी मसजिद विवाद और मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि विवाद के बाद तो कई राज्यों में ऐसे मुद्दे उठाए गए। यहाँ तक कि दिल्ली की जामा मसजिद को लेकर बयान दिया गया।

ताज़ा ख़बरें

अब ताज़ा मामला पुणे का है। इस मामले को मनसे ने उठाया है। इसने पुनेश्वर और नारायणेश्वर मंदिरों के मुद्दे को उठाना शुरू कर दिया है जिन्हें कथित तौर पर मुगल शासन के दौरान गिरा दिया गया था। ईटी की रिपोर्ट के अनुसार, पुणे के एक मनसे नेता अजय शिंदे ने कहा, 'तीन प्रसिद्ध मंदिर थे- नागेशर, पुनेश्वर और नारायणेश्वर। मुगलों ने पुनेश्वर और नारायणेश्वर मंदिर को ध्वस्त कर दिया जबकि नागेश्वर मंदिर बच गया। हमने राज्य सरकार, केंद्र और एएसआई से भूखंड को अपने कब्जे में लेने के लिए कहा है क्योंकि मुगलों द्वारा मंदिरों को तोड़ा गया था और उन पर दरगाह बनाई गई थी।'

मनसे नेता ने कहा है, 'पांडुरंग बालकवड़े जैसे इतिहासकारों ने अपने लेखन में दो मंदिरों का उल्लेख किया है, एएसआई ने पहले भी पुनेश्वर स्थल से कई मूर्तियों की खोज की थी। औरंगजेब के भतीजे को वहां दफनाए जाने के बाद पुनेश्वर मंदिर स्थल को दरगाह में बदल दिया गया था।'

महाराष्ट्र से और ख़बरें

रिपोर्ट के अनुसार, शिंदे ने कहा कि पुनेश्वर मंदिर परिसर में एक दरगाह थी जिसे मसजिद में बदल दिया गया है जबकि नारायणेश्वर मंदिर के स्थान पर अभी भी एक दरगाह है। 'ईटी' ने रिपोर्ट दी है कि पुणे में जमीयत ए उलेमा ए हिंद के एक स्थानीय नेता से संपर्क करने पर उन्होंने कहा कि उन्हें इस मुद्दे की जानकारी नहीं है। 

राज ठाकरे पिछले कुछ सालों से शिथिल पड़े हुए लग रहे थे, लेकिन अब अचानक आक्रामक दक्षिणपंथी मुद्दों को उठाकर वह कट्टर हिंदुत्व की छवि में दिख रहे हैं। उन्होंने हाल के महीनों में मसजिदों में लाउडस्पीकर के इस्तेमाल किए जाने के मसले को उठाया था।

हालाँकि, पुणे के पुनेश्वर और नारायणेश्वर मंदिरों का यह मुद्दा अभी तक हिंदू संगठनों और राजनेताओं के बयानों में ही उठा है।

वैसे, वाराणसी का काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मसजिद विवाद अब नेताओं की बयानबाज़ी से आगे बढ़कर अदालत तक जा पहुँचा है। आज ही वाराणसी की ज़िला अदालत इस मामले में फ़ैसले सुनाने वाली है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को जिला जज को ट्रांसफर किया था। माना जा रहा है कि इस मामले पर फ़ैसले का असर अन्य जगहों पर ऐसे मुद्दों पर पड़ सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें