loader

कोश्यारी ने किया संविधान का उल्लंघन, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा

महाराष्ट्र मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले से राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की भारी फ़जीहत हो रही है। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस पी. बी. सावंत ने उनकी तीखी आलोचना करते हुए कहा है कि महाराष्ट्र के राज्यपाल ने ‘संविधान और संसदीय लोकतंत्र का उल्लंघन किया है।’  

उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा, ‘महाराष्ट्र में जो कुछ हुआ, वह बहुत ही असंवैधानिक है। मुख्य मंत्री और उप मुख्य मंत्री की नियुक्ति और सरकार बनाने का यह संवैधानिक तरीका नहीं है। विधानसभा का कार्यकाल ख़त्म होने के बाद भी मुख्य मंत्री को नियुक्त करना भी संवैधानिक नहीं था।’ 

सम्बंधित खबरें
सुप्रीम कोर्ट के इस पूर्व जज ने कहा : 

राज्यपाल को असंवैधानिक कामकाज का हिस्सा नहीं बनना चाहिए था। पहले विधायक शपथ लेते हैं, उसके बाद ही विधानसभा अस्तित्व में आता है और उसके बाद ही सरकार का गठन होना चाहिए। महाराष्ट्र के राज्यपाल इस महान संवैधानिक पद की गरिमा बरक़रार रखने में नाकाम रहे।


पी. बी. सावंत, रिटायर्ड जज, सुप्रीम कोर्ट

जस्टिस सावंत ने कोश्यारी पर बेहद तीखा हमला बोलते हुए कहा कि ‘वह सरकार के हाथ की कठपुतली बन कर रह गए। राज्यपाल राज्य का प्रमुख होता है और वह सत्तारूढ़ दल के नेता की तरह व्यवहार नहीं कर सकता।’

उन्होंने इसी तरह एनसीपी नेता अजीत पवार के बारे में भी महत्वपूर्ण बात कही। उन्होंने कहा कि अजीत पवार को पार्टी विधायक दल के नेता पद से हटा दिया गया है, अब वह व्हिप जारी नहीं कर सकते। ऐसा करना असंवैधानिक होगा। 

बता दें कि पिछले शनिवार को शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की सरकार बनने की चर्चाओं के बीच राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और एनसीपी नेता अजीत पवार को डिप्टी सीएम के पद की शपथ दिला दी। 
बीजेपी-एनसीपी की सरकार बनने से राजनीतिक जानकारों को ख़ासी हैरानी ज़रूर हुई थी क्योंकि कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के बीच सरकार गठन को लेकर बातचीत पूरी हो चुकी थी और यह माना जा रहा था कि शनिवार को तीनों दल मिलकर एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस करेंगे और इसमें सरकार बनने की जानकारी देंगे। लेकिन उससे पहले ही यह सियासी उलटफेर हो गया था। 
विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 105 और शिवसेना को 56 सीटें मिली थीं और ये दोनों ही दल आसानी से राज्य में सरकार बना सकते थे। लेकिन शिवसेना के मुख्यमंत्री पद की कुर्सी को लेकर अड़ जाने को लेकर दोनों दलों के बीच मतभेद पैदा हो गए थे। शिवसेना का कहना था कि 50:50 के फ़ॉर्मूले के तहत उसे राज्य में ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री की कुर्सी चाहिए लेकिन बीजेपी मुख्यमंत्री पद के बंटवारे के लिए तैयार नहीं थी। इस मुद्दे पर शिवसेना ने बीजेपी और एनडीए से नाता तोड़ लिया था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें