loader

जिन्हें राम जन्मभूमि संघर्ष में एक खरोंच नहीं आई वे बढ़-चढ़कर फ़ैसले ले रहे: संजय राउत

प्रधानमंत्री मोदी अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल हुए, लेकिन इस बीच मंदिर आंदोलन से जुड़े लोगों को नहीं बुलाने का आरोप लगाकर शिवसेना के नेता संजय राउत ने निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि जिन्हें राम जन्मभूमि संघर्ष में एक खरोंच नहीं आई वे बढ़-चढ़कर फ़ैसले ले रहे हैं। हालाँकि राउत ने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन समझा जाता है कि उनके निशाने पर प्रधानमंत्री मोदी हैं। हाल के दिनों में विपक्षी दलों के नेताओं ने इस पर सवाल खड़े किए हैं कि प्रधानमंत्री मोदी राम मंदिर आंदोलन से सीधे तौर पर जुड़े नहीं रहे हैं और वह इतने समय तक अयोध्या भी नहीं गए, लेकिन भूमि पूजन कार्यक्रम कर वाहवाही लूट रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

कुछ ऐसा ही आरोप शिवसेना के नेता संजय राउत ने भी लगाया है। उन्होंने 'न्यूज़18' से कहा, 'भगवान के नाम पर राजनीति हो रही है। क्या किया जा सकता है? यदि इस पर राजनीति नहीं होती तो लोग प्रभु राम के नाम पर वोट नहीं माँगते। लेकिन उन्होंने ऐसा किया।' इस सवाल पर कि शिवसेना प्रमुख को क्यों आमंत्रित नहीं किया गया, संजय राउत ने कहा कि जिन्होंने भी संघर्ष में हिस्सा लिया था वे अतिथियों की सूची में शामिल नहीं थे। उन्होंने कहा, 'कल्याण सिंह, एल के आडवाणी, नरसिम्हा राव, अटल बिहारी वाजपेयी जी, सभी ने आंदोलन में काफ़ी भूमिका निभाई। आयोजकों ने कहा कि अतिथि सूची इसलिए छोटी रखी गई है क्योंकि कोरोना का ख़तरा है।'

बता दें कि बाबरी मसजिद विध्वंस के मुक़दमे में अभियुक्तों की सूची में पहला नाम तत्कालीन यूपी शिवसेना के अध्यक्ष पवन पांडे का है जबकि आडवाणी, जोशी सहित अन्य का नाम साज़िश रचने वालों में हैं। पवन पांडे यूपी में पहली और अब तक आखिरी बार शिवसेना के टिकट से जीतने वाले विधायक रहे हैं। राम मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम में उन्हें बुलाया तक नहीं गया है। पांडे के साथ दूसरे जो लोग भी ढाँचा गिराने के आरोपी हैं और मुक़दमे का सामना कर रहे हैं उन्हें नहीं बुलाया गया है।

महाराष्ट्र से और ख़बरें
शिवसेना के मुखपत्र सामना में इस पर एक संपादकीय लिखा गया। इसमें कहा गया है कि 'लोग जानते हैं कि संघर्ष में शिवसेना थी। बीजेपी ने ख़ुद के शामिल होने से इनकार किया था। उनका आधिकारिक बयान यह था कि उन्होंने यह नहीं किया है। उस समय बाला साहेब थे जिन्होंने कहा था कि उन्हें शिवसैनिकों पर गर्व है। हम अभी भी कोर्ट में केस का सामना कर रहे हैं। लोग यह जानते हैं।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें