loader

पवार : बग़ैर चर्चा, बहुमत के बल पर पारित हुए कृषि क़ानून

किसानों के आंदोलन का दायरा अब बढ़ता जा रहा है। हजारों की संख्या में किसान नाशिक से चलते हुये मुंबई पहुँचे हैं। इन किसानों ने दिल्ली में बैठे किसानों को समर्थन देने का ऐलान किया है। मुंबई में इन किसानों को संबोधित करते हुये पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार ने नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला है। 

उन्होंने कहा है कि यदि सरकार सिर्फ बहुमत के आधार पर बग़ैर राय मशविरा के क़ानून पारित करेगी, तो किसान उसे ख़त्म कर देंगे। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि इसकी शुरुआत हो चुकी है। 

दिल्ली किसान आन्दोलन को समर्थन

शरद पवार ने मुंबई के आज़ाद मैदान में जमा हज़ारों किसानों को संबोधित करते हुए सरकार को यह चेतावनी दी। कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ दिल्ली के पास दो महीने से चल रहे किसान आन्दोलन को समर्थन देने के लिए मुंबई में यह सभा हो रही है।

ख़ास ख़बरें

महाराष्ट्र के नाशिक से 23 जनवरी को ही किसानों का जत्था रवाना हुआ, जिसकी अगुआई अखिल भारतीय किसान सभा कर रही थी। इसमें एनसीपी और दूसरे दलों के किसान संगठनों से जुड़े लोग भी शामिल होते गए। रविवार को वे सब मुंबई के आज़ाद मैदान पहुँच गए। 

आज़ाद मैदान में शरद पवार ने कहा कि सरकार ने बगैर राय मशविरा या तैयारी के ही लोकसभा से कृषि क़ानूनों को पारित करा लिया, जिसमें संविधान का उल्लंघन हुआ है, यह संविधान के साथ मजाक है।

राज्यपाल पर तंज

पवार ने महाराष्ट्र के राज्यपाल पर तंज करते हुए कहा कि वे अभिनेत्री कंगना रनौत से मिल लेते हैं, पर किसानों से मिलने के लिए उनके पास समय नहीं है। 

आज़ाद मैदान की सभा के बाद 23 किसानों का प्रतिनिधिमंडल राजभवन जाएगा और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपेगा।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किसानों का समर्थन किया है। उन्होंने एक मैसेज में कहा है कि कोरोना महामारी की वजह से वे ख़ुद आज़ाद मैदान नहीं जाएंगे, पर वे किसानों की माँगों का समर्थन करते हैं। समझा जाता है कि शिवसेना का कोई बड़ा नेता आज़ाद मैदान जाएगा।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि कुछ लोग किसानों को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि 2006 में एनसीपी की सरकार ने कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग की अनुमति दे दी थी, अब वही बात केंद्र की ओर से पारित कृषि क़ानून में कही गई है तो उसका विरोध किया जा रहा है। 

दिल्ली में ट्रैक्टर परेड

मुंबई में यह किसान रैली ऐसे समय हो रही है जब दिल्ली के पास चल रहे किसान आन्दोलन के संयोजकों को गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर परेड की अनुमति मिल गई है। पुलिस ने कहा है कि किसान दिल्ली में घुस तो सकेंगे, लेकिन गणतंत्र दिवस परेड में बाधा नहीं डाल सकेंगे। किसानों की रैली गणतंत्र दिवस परेड ख़त्म होने पर दोपहर बाद ही निकाली जा सकेगी। तय रूटों पर ही ट्रैक्टर रैली निकालने की छूट होगी।

sharad pawar : farm laws 2020 cleared without consultation - Satya Hindi

पुलिस ने रविवार को प्रेस कॉन्फ़्रेंस में साफ़ तौर पर कहा है कि उसने इस रैली को मंजूरी सिर्फ़ किसानों की माँगों के प्रति सम्मान दिखाने के लिए दी है। पुलिस ने कहा है कि किसान कुछ किलोमीटर तक दिल्ली में प्रवेश कर सकते हैं और फिर तय स्थानों पर निकल सकते हैं।

हालाँकि भाग लेने वाले ट्रैक्टरों की संख्या अभी तय नहीं की गई है, लेकिन मार्ग को इस तरह से तय किया गया है कि ठीक से सुरक्षा प्रबंध किया जा सके। सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं। समझा जाता है कि इस परेड में एक लाख से ज़्यादा ट्रैक्टर भाग लेंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें