loader

बागियों पर राउत का तंज- 'कब तक छिपोगे गुवाहाटी में...'

शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने बागियों को आज एक और चुनौती के अंदाज में तंज कसा है। उन्होंने डिप्टी स्पीकर द्वारा जारी नोटिस का हवाला देते हुए बागियों के पास अब बहुत कम समय होने की ओर इशारा किया है। उन्होंने यह भी कहा है कि आख़िरकार उन्हें लौटकर महाराष्ट्र में आना तो पड़ेगा ही।

राउत ने बीजेपी शासित असम में डेरा डाले बागियों की ओर इशारा करते हुए ट्वीट किया, 'आप कब तक छिपे रहेंगे गुवाहाटी में... आना ही पड़ेगा चौपाटी में।'

राउत ने जो ट्वीट किया है उसमें उन्होंने एक तसवीर भी साझा की है जो डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल की है। यह वही डिप्टी स्पीकर हैं जिन्होंने शिवसेना की अयोग्यता याचिका पर शनिवार को 16 बागी विधायकों को नोटिस जारी किया है। सभी विधायकों को उनका लिखित जवाब दाखिल करने के लिए 27 जून शाम 5.30 बजे तक का वक्त दिया गया है।

उधर, शिवसेना ने भी पार्टी से बगावत करने वाले 16 विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है। यह नोटिस पार्टी के व्हिप सुनील प्रभु की ओर से बुलाई गई बैठक से गैरहाजिर रहने के लिए जारी किया गया है। सभी विधायकों से कहा गया है कि वह अपने समर्थन में जो भी दस्तावेज हैं उन्हें 27 जून शाम 5 बजे तक जमा करा दें।

ताज़ा ख़बरें

शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे दावा कर रहे हैं कि 40 से ज़्यादा बागी विधायक उनके साथ हैं। वे गुवाहाटी के एक पांच सितारा होटल में रुके हैं। उनका दावा है कि असम में ठहरे विधायक उनका समर्थन कर रहे हैं। लेकिन बढ़ते घटनाक्रमों के बीच एकनाथ शिंदे गुट ने अपनी नई पार्टी बनाने का एलान कर दिया है। बताया जा रहा है कि इस पार्टी का नाम बालासाहेब शिवसेना रखा जाएगा। 

लेकिन शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुंबई में हुई शिवसेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कहा कि कोई और बालासाहेब ठाकरे के नाम का इस्तेमाल नहीं कर सकता। इस मामले में शिवसेना ने चुनाव आयोग जाने की भी बात कही है।

shiv sena sanjay raut taunts rebel mlas staying in guwahati - Satya Hindi
बहरहाल, इन घटनाक्रमों के बीच ही शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे और बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस के बीच मुलाक़ात की ख़बरें हैं। मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि एकनाथ शिंदे ने शुक्रवार रात को गुजरात का दौरा किया था। रिपोर्टों के अनुसार वह वडोदरा पहुँचे थे और शुक्रवार रात को ही बीजेपी के नेता देवेंद्र फडणवीस भी उसी शहर में थे। एक अन्य रिपोर्ट में तो यह भी कहा गया है कि गृह मंत्री अमित शाह भी शुक्रवार रात वडोदरा में ही थे।
महाराष्ट्र से और ख़बरें

एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि शिंदे ने कल रात गुजरात के वडोदरा में फडणवीस से मुलाक़ात की और महाराष्ट्र में संभावित सरकार गठन पर चर्चा की। इंडिया टुडे ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह शुक्रवार रात 10 बजे से शनिवार सुबह तक गुजरात के वडोदरा में थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि शिंदे और देवेंद्र फडणवीस अमित शाह से मिले या नहीं, इस पर अभी कोई स्पष्टता नहीं है।

एनडीटीवी ने रिपोर्ट दी है कि शिंदे शुक्रवार रात असम के गुवाहाटी से एक विशेष विमान से वडोदरा पहुँचे थे। फडणवीस के साथ बातचीत के बाद शिंदे फिर से असम लौट गए।

बता दें कि शिंदे कांग्रेस और एनसीपी के साथ शिवसेना के गठबंधन को बेमेल गठबंधन क़रार दे रहे हैं और कह रहे हैं कि महाराष्ट्र के हित में इससे निकलना ज़रूरी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें