loader

संघ के गढ़ नागपुर में बीजेपी को झटका, जिला परिषद चुनाव में जीती कांग्रेस

महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में नागपुर की 12 में से 6 सीटें जीतकर कांग्रेस ने जैसा प्रदर्शन किया था, उसे उसने जिला परिषद के चुनावों में भी बरकरार रखकर भारतीय जनता पार्टी को बड़ा झटका दिया है। नागपुर में ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का मुख्यालय है और इस इलाक़े को बीजेपी का गढ़ माना जाता है। लेकिन कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए नागपुर के जिला परिषद के चुनाव में आधी से ज़्यादा सीटें जीत ली हैं। जिला परिषद की 58 में से 30 सीटें कांग्रेस और 10 सीटें उसकी सहयोगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को मिली हैं। यहां 12 साल से लगातार बीजेपी का कब्जा था लेकिन अब वह यहां से बेदख़ल हो गई है। 

नागपुर में बीजेपी की हार कितनी बड़ी है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और फडणवीस सरकार में मंत्री रहे चंद्रशेखर बावनकुले अपने-अपने गांव की सीट नहीं बचा पाए। इन तीनों सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशी विजयी रहे।
बुधवार को 6 जिला परिषदों के चुनाव परिणाम आये और उनमें से पांच बीजेपी के ख़िलाफ़ गए। इन चुनावों में महाराष्ट्र की सत्ता में बैठी तीनों पार्टियां शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने गठबंधन कर चुनाव नहीं लड़ा था लेकिन यह संकेत उन्होंने दे दिया है कि प्रदेश स्तर का यह गठबंधन जिला और ग्राम स्तर पर बीजेपी को भारी पड़ने वाला है। 
ताज़ा ख़बरें

चार जिला परिषदों में कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना मिलकर सत्ता बनाएंगी जबकि एक में त्रिशंकु की स्थिति है। इन जिलों में जिला परिषद के चुनाव इसलिए भी अहम बताये जा रहे हैं क्योंकि यहां पर चुनाव पिछले साल ही होने चाहिए थे लेकिन फडणवीस सरकार बार-बार इसकी तारीख़ आगे बढ़ा रही थी। इस तरह इन सभी जिला परिषदों में पांच के बजाय छठे साल में चुनाव हुए हैं। 

जिला परिषदों के पिछले चुनाव 2013 में जब प्रदेश में कांग्रेस-एनसीपी की सरकार थी उस समय जितनी सीटें बीजेपी ने जीती थीं, उसके मुक़ाबले उसका प्रदर्शन बहुत सुधरा है। इसके पीछे एक कारण यह भी बताया जा रहा है कि पिछले पांच साल में बीजेपी ने बड़ी संख्या में कांग्रेस-एनसीपी के नेताओं को तोड़कर अपनी पार्टी में शामिल कर लिया था। 

नंदुरबार में जहां बीजेपी ने कांग्रेस के बराबर सीटें हासिल की हैं, वहां की कहानी भी दल-बदल से ही जुड़ी है। यहां की सत्ता के केंद्र में वर्षों से गावित परिवार रहा और लोकसभा से लेकर जिला परिषद तक के चुनाव में इसी परिवार के नेतृत्व में कांग्रेस जीत दर्ज करती रही थी। लेकिन बीजेपी ने गावित परिवार में सेंध लगाई और लोकसभा की जो सीट कांग्रेस कभी नहीं हारती थी वहां उसे हराकर इस आदिवासी इलाक़े में अपनी स्थिति मजबूत करनी शुरू कर दी थी। नंदुरबार जिले में कांग्रेस और बीजेपी को बराबर 23 -23 सीटें मिली हैं, यहां कांग्रेस और एनसीपी मिलकर सत्ता बनाएंगे। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

धुले जिला परिषद के चुनाव में बीजेपी ने पहले से बेहतर प्रदर्शन करते हुए 13 सीटों के मुक़ाबले 39 सीटों पर जीत दर्ज की है। जबकि यहां कांग्रेस को बड़ा नुकसान हुआ है। पिछली बार कांग्रेस को जिला परिषद के चुनाव में कुल 30 सीटें मिली थीं लेकिन इस बार कांग्रेस के हाथ महज 7 सीटें आई हैं। अकोला जिला परिषद में प्रकाश आंबेडकर की पार्टी वांछित अघाडी अपनी सत्ता बचाने में सफल नहीं हुई लेकिन सबसे बड़े दल के रूप में वही उभर कर आयी है। 

नागपुर के बाद बीजेपी को दूसरा बड़ा झटका ठाणे से सटे जिले पालघर में लगा है। यहां पर शिवसेना सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है और वह एनसीपी के सहयोग से अपनी सत्ता स्थापित करेगी। 6 जिला परिषदों का संयुक्त चुनाव परिणाम देखें तो कुछ 332 सीटों में से 102 सीटें जीतकर बीजेपी ने अपना प्रदर्शन पिछली बार से बहुत बहुत बेहतर किया है। पिछली बार उसे 56 सीटें मिली थीं। कांग्रेस को 70 सीटों पर जीत मिली है जबकि एनसीपी को 46, शिवसेना को 49, 14 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार तथा अन्य के खाते में 47 सीटें गयी हैं। 

नागपुर जिला परिषद चुनाव परिणाम 

कुल सीटें - 58 

बीजेपी - 15 

काँग्रेस - 30 

एनसीपी - 10 

शिवसेना -1 

अन्य - 2 

पालघर जिला परिषद चुनाव परिणाम 

कुल सीटें - 57 

बीजेपी - 12 

माकपा - 5 

काँग्रेस - 1 

एनसीपी - 14 

शिवसेना - 18 

वंचित आघाडी - 4 

निर्दलीय - 3   

वाशिम जिला परिषद चुनाव परिणाम 

कुल सीटें - 52 

बीजेपी - 7 

काँग्रेस - 9 

एनसीपी - 12 

शिवसेना - 6 

अन्य - 15 

निर्दलीय - 3 

नंदुरबार जिला परिषद चुनाव परिणाम 

कुल सीटें - 56 

बीजेपी - 26 

काँग्रेस - 20 

एनसीपी - 3 

शिवसेना - 7   

अकोला जिला परिषद चुनाव परिणाम 

कुल सीटें - 53 

बीजेपी  - 7 

काँग्रेस - 3 

राष्ट्रवादी - 4 

शिवसेना -13 

निर्दलीय  - 4 

अन्य - 22  (वंचित अघाडी को मिलाकर)

धुले जिला परिषद चुनाव परिणाम 

कुल सीटें - 56 

बीजेपी - 39 

काँग्रेस - 7 

राष्ट्रवादी - 3 

शिवसेना - 4 

निर्दलीय - 3  

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें