loader

कारोबारी मुकेश अंबानी को मिली जान से मारने की धमकी

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और देश के नामी कारोबारी मुकेश अंबानी और उनके परिवार को जान से मारने की धमकी मिली है। यह धमकी स्वतंत्रता दिवस वाले दिन रिलायंस फाउंडेशन के हरकिशनदास अस्पताल के लैंडलाइन नंबर पर कॉल करके दी गई है। इस मामले में मुंबई पुलिस ने अफजल नाम के एक शख्स को हिरासत में लिया है और बताया है कि उसने ही अस्पताल के लैंडलाइन नंबर पर फोन कर धमकी दी थी। 

एनडीटीवी के मुताबिक, शुरुआती जांच में पता चला है कि अफजल की दिमागी हालत ठीक नहीं है। मामले की जांच कर रहे अफसरों ने बताया कि रिलायंस फाउंडेशन की ओर से इस बारे में डीबी मार्ग पुलिस थाने में शिकायत दी गई है। बताया गया है कि लैंडलाइन नंबर पर फोन कर 3 से ज्यादा बार धमकी दी गई। 

एंटीलिया के बाहर मिला था विस्फोटक

फरवरी, 2021 में मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्फोटक मिलने को लेकर खासा हंगामा मचा था। एंटीलिया के बाहर खड़ी एक स्कॉर्पियो कार से जिलेटिन की छड़ें बरामद हुई थीं। 

ताज़ा ख़बरें

स्कॉर्पियो कार के मालिक मनसुख हिरेन कार लेकर ठाणे से मुंबई आ रहे थे लेकिन रास्ते में उनकी कार खराब हो गई थी और वह कार को हाईवे पर ही पार्क कर ओला कार से मुंबई आए थे। 

लेकिन कुछ दिन बाद मनसुख हिरेन का शव ठाणे के पास एक खाड़ी से मिला था। इस मामले की जांच एनआईए को सौंपी गई थी। 

महाराष्ट्र से और खबरें

एनआईए ने अपनी चार्जशीट में कहा था कि मुंबई पुलिस की क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट के पूर्व हेड सचिन वाजे ने हिरेन की हत्या की सुपारी पूर्व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा को दी थी। इसके बाद शर्मा ने मनसुख हिरेन की हत्या करवा दी थी। 

जबकि मुंबई पुलिस के तत्कालीन कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा था कि मनसुख हिरेन ने आत्महत्या की थी। लेकिन बाद में पता चला कि हिरेन की हत्या की गई है। इस पूरे प्रकरण के बाद उद्योगपति मुकेश अंबानी की सुरक्षा को और पुख्ता कर दिया गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें