loader

उद्धव के पूर्व सलाहकार के फ़्लैट की ख़रीद पर आयकर विभाग की नज़र 

महाराष्ट्र की सियासत में बीजेपी और महा विकास आघाडी सरकार के बीच जंग नेताओं की बयानबाज़ी के अलावा जांच एजेंसियों के जरिये भी लड़ी जा रही है। ताज़ा मामले में आयकर विभाग की नज़र मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के पूर्व प्रधान सलाहकार अजोय मेहता के एक फ़्लैट की ख़रीद में हुए लेन-देन पर जाकर टिक गई है। मेहता महाराष्ट्र रियल स्टेट रेग्युलेटरी अथॉरिटी (महारेरा) के चेयरमैन भी हैं। 

मेहता ने अक्टूबर, 2020 में नरीमन प्वाइंट इलाक़े में स्थित समता को-ऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी में एक फ़्लैट ख़रीदा था। फ़्लैट की क़ीमत 5.33 करोड़ थी और उन्होंने इसे अनामित्रा प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड से ख़रीदा था। 

7 जुलाई को आयकर विभाग ने अनामित्रा प्रॉपर्टीज को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। नोटिस में कहा गया है कि इस फ़्लैट को ख़रीदने के लिए मई, 2009 में अनामित्रा प्रॉपर्टीज ने 4 करोड़ रुपये का जो लेन-देन किया, वह बेनामी है। 

ताज़ा ख़बरें

आयकर विभाग अपने नोटिस में कहता है कि अनामित्रा प्रॉपर्टीज के एक शेयरहोल्डर जिनका नाम कमलेश नथूनी सिंह है, वह मुंबई के पश्चिमी उपनगर की एक चॉल में रहते हैं और इस शख़्स के पास अनामित्रा प्रॉपर्टीज की 99 फ़ीसदी हिस्सेदारी है। जबकि दीपेश रविंद्र सिंह नाम के दूसरे शेयरहोल्डर ने साल 2020-21 में अपनी कुल आय मात्र 1.71 लाख दिखाई है। 

आयकर विभाग को दिए गए बयान में कमलेश नथूनी सिंह और दीपेश रविंद्र सिंह ने कहा है कि उन्हें इस बारे में पता ही नहीं है कि अनामित्रा प्रॉपर्टीज के कोई शेयर ख़रीदे गए हैं और उनके पास अनामित्रा प्रॉपर्टीज का कोई मालिकाना हक़ या स्वामित्व नहीं है। 

आयकर विभाग के मुताबिक़, इससे ये बात साफ होती है कि किसी और ने इनके नामों का इस्तेमाल इस फ़्लैट के लेन-देन में किया है। नोटिस में अनामित्रा प्रॉपर्टीज से पूछा गया है कि ऐसे में क्यों न इस फ़्लैट को बेनामी संपत्ति घोषित कर दिया जाए। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

फर्जी कंपनी बताया 

नोटिस में कहा गया है कि कंपनी की माली हालत को देखकर पता चलता है कि वह कोई व्यवसाय नहीं कर रही है और यह कहा जा सकता है कि यह एक फर्जी कंपनी है। नोटिस के मुताबिक़ यह कंपनी सिर्फ़ बेनामी संपत्तियों को रखने के लिए बनाई गई है और इस तरह अनामित्रा प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड एक बेनामीदार कंपनी है। 

नियमों का पालन किया 

लेकिन मेहता ने इस बारे में ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि उन्होंने यह फ़्लैट सभी नियमों का पालन करते हुए ख़रीदा है और इसके लिए बाज़ार की क़ीमत के हिसाब से पैसे चुकाए हैं। उन्होंने कहा कि वह टैक्स देते हैं और नहीं जानते कि इस तरह की बातें कहां से आ रही हैं। 

अजोय मेहता जुलाई, 2020 से इस साल फ़रवरी तक उद्धव ठाकरे के प्रधान सलाहकार थे और इसके बाद ही उन्हें महारेरा का चेयरमैन बनाया गया था। वह मुंबई के नगर आयुक्त भी रहे हैं और उद्धव ठाकरे के बेहद भरोसेमंद माने जाते हैं।

चार नेता निशाने पर 

बता दें कि महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार में शामिल एनसीपी के चार बड़े नेता और उनके रिश्तेदार इन दिनों जांच एजेंसी ईडी के रडार पर हैं। इनमें एकनाथ खडसे और उनके दामाद गिरीश चौधरी, महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक के दामाद समीर ख़ान, पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख और महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार शामिल हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें