loader

राउत बोले- कभी नहीं कहा कि सोनिया की जगह पवार बनें यूपीए प्रमुख

यूपीए के चेयरपर्सन पद के लिए कई बार एनसीपी प्रमुख शरद पवार की हिमायत कर चुके शिव सेना सांसद संजय राउत अब अपने पुराने बयानों से पीछे हटते दिख रहे हैं। राउत ने गुरूवार को कहा कि उन्होंने कभी भी ऐसा नहीं कहा कि सोनिया गांधी की जगह पवार को यूपीए का चेयरपर्सन बनाया जाना चाहिए। राउत ने सफाई दी कि उन्होंने सिर्फ़ यूपीए को मजबूत करने की बात कही थी। 

राउत ने एक टेलीविजन चैनल से बातचीत में कहा कि उन्होंने कभी भी सोनिया या राहुल गांधी की आलोचना नहीं की है बल्कि जब भी राजनीतिक विरोधियों ने उन पर हमले किए, वे उनके साथ खड़े रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें
परमबीर सिंह के प्रकरण के बाद से ही महा विकास अघाडी में शामिल दलों के रिश्ते ठीक नहीं दिख रहे हैं। शिव सेना ने अपने मुखपत्र सामना में गृह मंत्री अनिल देशमुख को एक्सीडेंटल होम मिनिस्टर लिखा तो एनसीपी नेता और उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने इसे लेकर सख़्त नाराज़गी जताई और राउत को इशारों-इशारों में खेल बिगाड़ने वाला व्यक्ति कहा था। 
upa chief sharad pawar controversy - Satya Hindi

राउत ने देशमुख को एक्सीडेंटल होम मिनिस्टर कहे जाने पर सफाई दी कि दुर्घटना से कुछ घटित होने की बात कहना एक मुहावरा है। उन्होंने इस बयान पर अजित पवार की नाराजगी को लेकर कहा कि जिन लोगों ने तड़के शपथ ले ली थी, वे खेल बिगाड़ने वाले लोग हैं। 

याद दिला दें कि 2019 में अजित पवार और देवेंद्र फडणवीस ने सुबह ही शपथ ले ली थी। अजित पवार उप मुख्यमंत्री और देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री बने थे। लेकिन अजित पवार की यह बग़ावत सफल नहीं हुई थी और उनके साथ गए एनसीपी के विधायक कुछ दिन के भीतर ही वापस लौट आए थे। 

राउत ने कहा था कि कांग्रेस की क्षमता सीमित है और क्षेत्रीय और राष्ट्रीय दल शरद पवार को अपना नेता मानते हैं। शिव सेना सांसद ने कहा था कि उन्हें नहीं लगता कि पवार के क़द का कोई और नेता विपक्ष में है और यूपीए में कई क्षेत्रीय दल कांग्रेस के नेतृत्व में काम करना नहीं चाहते। उन्होंने ऐसा कहते हुए मोदी सरकार के ख़िलाफ़ गठबंधन बनाने के लिए यूपीए के पुनर्गठन की पैरवी की थी। 
महाराष्ट्र से और ख़बरें

पटोले ने किया था विरोध 

राउत द्वारा पवार की यूपीए चेयरपर्सन पद के लिए हिमायत किए जाने का महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने जोरदार विरोध किया था। उन्होंने कहा था कि शिव सेना तो यूपीए का हिस्सा भी नहीं है। पटोले ने कहा था कि कांग्रेस इसे लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सामने नाराजगी दर्ज कराएगी। माना जा रहा है कि हालात को बिगड़ते देख ठाकरे ने राउत को ऐसे बयानों से बचने के लिए कहा हो और उसके बाद ही राउत को सफाई देने के लिए सामने आना पड़ा हो। 

हाल ही में शरद पवार और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मुलाक़ात होने की ख़बर भी आई लेकिन एनसीपी और शिव सेना ने ऐसी किसी मुलाक़ात का खंडन किया है। इसे लेकर भी महाराष्ट्र की सियास गर्म है। बहरहाल, संजय राउत के इस बयान के बाद माना जा रहा है कि यूपीए के चेयरपर्सन पद के लिए सोनिया गांधी को अब चुनौती नहीं मिलेगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें