loader

परमबीर सिंह- एसीपी संजय पाटिल में वॉट्सऐप पर क्या हुई थी बात?

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र सरकार पर ज़ोरदार हमला करते हुए राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार के जो आरोप लगाए हैं, उससे जुड़ा वॉट्सऐप मैसेज भी सार्वजनिक कर दिया है। 

उन्होंने चिट्ठी में एसीपी संजय पाटिल के साथ हुई वॉट्सऐप चैट का भी जिक्र किया है, जिसमें संजय पाटिल ने भी माना है कि अनिल देशमुख ने उन्हें अपने सरकारी आवास पर बुलाया था और उनको रेस्टोरेंट बार से 40 से 50 करोड़ हफ्ता के तौर पर इकट्ठे करने के लिए कहा था। 

क्या है वॉट्सऐप चैट में?

सत्य हिन्दी को परमबीर सिंह की लिखी चिट्ठी मिली है। इसमें ही उन्होंने संजय पाटिल के साथ हुए वॉट्सऐप चैट का हवाला दिया है। प्रस्तुत है अंग्रेजी में हुए उस चैट का अनुवाद। 

मैं यानी परमबीर सिंह (16 फरवरी) : पाटिल, जब आपने फरवरी में उनसे मुलाकात की थी तो एचएम (होम मिनिस्टर यानी गृह मंत्री) सर और पलान्डे ने बार और दूसरे संस्थानों के बारे में क्या कहा था। और उन्होंने कुल कितनी रकम उगाहने की बात कही थी।

मैं : अर्जेन्ट प्लीज़। 

एसीपी पाटिल : मुंबई के 1750 बार और दूसरे प्रतिष्ठान। हर प्रतिष्ठान से तीन लाख। उनकी जानकारी के मुताबिक हर महीने कुल 50 करोड़ रुपए की वसूली। एसीपी पाटिल : मिस्टर पलान्डे ने 4 मार्च को डीसीपी भुजबल एनफ़ोर्समेंट के सामने यह कहा था। 

मैं : और इसक पहले आपने एचएम सर से कब मुलाकात की थी।

एसीपी पाटिल : हुक्का ब्रीफ़िंग के चार दिन पहले। 

मैं : और किस तारीख को वाजे ने एचएम सर से मुलाकात की थी। 

एसीपी पाटिल : सर, मुझे तारीख ठीक से याद नहीं है। 

मैं : आपने कहा था कि आपकी मुलाकात के कुछ दिन पहले की बात है। 

एसीपी पाटिल : हाँ सर, यह फरवरी के अंत की बात है। 

मैं : पाटिल, मुझे कुछ और जानकारियाँ चाहिए। 

मैं (19 फरवरी) : क्या वाजे ने एचएम सर से मुलाकात के बाद आपसे मुलाकात की थी। 

एसीपी पाटिल : हाँ सर, वाजे ने एचएम सर से मिलने के बाद मुझसे मुलाकात की थी। 

मैं : क्या उन्होंने आपसे इस पर कुछ कहा था कि एचएम सर ने उन्हें क्यों बुलाया था। 

एसीपी पाटिल : इस मीटिंग का उद्येश्य यह था, जैसा कि उसने मुझे कहा था, मुंबई में 1750 प्रतिष्ठान हैं और वह हरेक से तीन लाख रुपए वसूले, यह 40 से 50 करोड़ के बीच होगा। 

मैं : एचएम सर ने आपसे भी यही बात कही थी। 

एसीपी पाटिल : 4 मार्च को उनके पीएस पलान्डे ने मुझसे यही बात कही थी। 

मैं : अरे हाँ, आपने पलान्डे से 4 मार्च को मुलाकात की थी। 

एसीपी पाटिल : हाँ सर, मुझे बुलाया गया था। 

whatsapp chat between parambir singh and sanjay patil - Satya Hindi
whatsapp chat between parambir singh and sanjay patil - Satya Hindi
बता दें कि परमबीर सिंह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखी चिट्ठी में कहा है कि राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने फरवरी में क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट के तत्कालीन इंचार्ज सचिन वाजे को अपने सरकारी निवास ज्ञानेश्वरी बंगले पर बुलाया था और उन पर मुंबई के बार, रेस्टोरेंट्स और हुक्का पार्लर से हर महीने 100 करोड़ रुपए हफ़्ते का टारगेट दिया था।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें