loader

मिज़ोरम : सत्ता विरोधी लहर के कारण चुनाव हारी कांग्रेस

दस साल की कांग्रेस सरकार को उखाड़ फेंक मिज़ो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ़) मिज़ोरम में सरकार बनाएगी। उसे पूर्ण बहुमत मिला है। कांग्रेस की बुरी हालत है। उसे सिर्फ़ 5 सीटों पर संतोष करना पड़ा है। एमएनएफ़ को 26, भाजपा को 1 और निर्दलीय व अन्य को 8 सीटें मिली है। मुख्यमंत्री ललथनहवला ने दो सीटों से चुनाव लड़ा था और दोनों सीटों सरछिप और दक्षिण चंपाई से चुनाव हार गए। इससे पता चलता है कि सत्ताविरोधी लहर अधिक थी।

जोरामाथांगा भी हारे थे दो सीटों से चुनाव

वर्ष 2008 में भी सत्ताविरोधी लहर के चलते एमएनएफ़ के अध्यक्ष जोरामाथांगा को भी दो सीटों से चुनाव हारना पड़ा था। इस बार के चुनाव में भाजपा को 1 सीट मिली है। उसने मिज़ोरम में पहली बार खाता खोला है। पर इसमें भाजपा के बजाय कांग्रेस की अंदरुनी कलह ज़्यादा काम कर गई। कांग्रेस के वरिष्ठ मंत्री डॉ .बी. डी. चकमा को टिकट नहीं मिला तो उन्होंने भाजपा का दामन थामा। भाजपा ने डॉ. चकमा को टिकट दिया और वे अपनी विधानसभा सीट टिवचांग से चुनाव जीत गए। वैसे एमएनएफ़ भाजपा के नेतृत्व वाली नॉर्थ ईस्ट डिमोक्रेटिक अलांयस (नेडा) में शामिल है लेकिन अब नेडा के प्रति क्या रुख होगा, यह एमएनएफ़ की बैठक में तय होगा।आज जीतने के बाद उन्होंने कहा कि वे फ़िलहाल नेडा यानी राजग में हैं। उन्होंने कहा कि पहला काम राज्य में शराबबंदी लागू करने का होगा। एमएनएफ के अध्यक्ष होने के नाते जोरामाथांगा ही राज्य के अगले मुख्यमंत्री होंगे। मिज़ोरम के राजनीतिक टीकाकार प्र. जे डोंगल ने कहा कि भाजपा को एक सीट मिलना उसकी सफलता नहीं बल्कि डॉ. चकमा की अपनी सफलता है।

पूर्वोत्तर हुआ कांग्रेस-मुक्त

भाजपा का पूर्वोत्तर को कांग्रेस-मुक्त करने का सपना मिज़ोरम में एमएनएफ़ की जीत से पूरा हो गया है। नेडा के समन्वयक डॉ. हिमंत विश्वशर्मा ने कहा कि पिछले तीन साल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हमने इसके लिए कार्य किया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिज़ोरम में एक-एक चुनावी सभा को संबोधित किया था, पर दोनों अपनी पार्टी को बेहतर प्रदर्शन कराने में सफल नहीं हो सके। एमएनएफ़ के सलाहकार लालस्वामजुआला ने कहा कि कांग्रेस के खिलाफ सत्ताविरोधी लहर थी। शराब से राज्य का हाल बेहाल है। सड़कें ख़स्ताहाल है। इन सब वजहों से लोगों ने कांग्रेस का सफ़ाया कर दिया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मिज़ोरम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें