loader

कांग्रेस नेता अहमद पटेल का निधन, मोदी-राहुल ने जताया शोक

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल का बुधवार तड़के निधन हो गया। वह 71 साल के थे। उनके बेटे फ़ैसल पटेल ने यह जानकारी दी। पटेल को कुछ वक़्त पहले कोरोना हुआ था। उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी समेत कई बड़े नेताओं ने शोक जताया है। 

तीन दिन के भीतर ही कांग्रेस के दूसरे बड़े नेता की मौत हुई है। इससे पहले असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई का भी निधन हो गया था। उन्हें भी कोरोना हुआ था। 

ताज़ा ख़बरें

फ़ैसल पटेल ने बताया है कि उनके पिता की मौत सुबह 3.30 बजे हुई। कोरोना के बाद उन्हें मल्टीपल ऑर्गन फ़ेल्योर हुआ, जिसकी वजह से उनकी तबीयत ज़्यादा बिगड़ गई। उन्होंने शुभचिंतकों से कहा है कि कोरोना की वजह से ज़्यादा संख्या में इकट्ठे न हों और सभी जगह सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि कांग्रेस को मजबूत बनाने में पटेल के योगदान को हमेशा याद किया जाता रहेगा। उन्होंने समाज की लंबे वक़्त तक सेवा की। 

राहुल गांधी ने कहा है कि पटेल कांग्रेस पार्टी के स्तंभ थे और कठिन वक़्त में भी पार्टी के साथ खड़े रहे। 

पटेल के निधन पर वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह, कमलनाथ, अभिषेक मनु सिंघवी सहित कई लोगों ने दुख जताया है। 

सोनिया के सलाहकार रहे पटेल

अहमद पटेल लंबे वक़्त तक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार रहे। उन्हें सोनिया के सबसे भरोसेमंद लोगों में शुमार किया जाता था। पटेल आठ बार गुजरात से सांसद रहे। उन्होंने तीन बार लोकसभा का चुनाव जीता जबकि पांच बार वह राज्यसभा के लिए चुने गए। 

श्रद्धांजलि से और ख़बरें

पटेल ने अपना राजनीतिक करियर 1976 में गुजरात के भरूच जिले से शुरू किया था। राज्य कांग्रेस में कई पदों पर रहने के बाद 1985 में वह राजीव गांधी के संसदीय सचिव बने। वह जवाहर भवन ट्रस्ट के सचिव भी रहे। पटेल को ऐसे नेता के तौर पर जाना जाता था, जो पर्दे के पीछे से काम करता था और मीडिया से दूरी बनाए रखता था। 

पटेल को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का कोषाध्यक्ष भी बनाया गया था। 2017 में उनके राज्यसभा सदस्य के चुनाव के दौरान काफी विवाद हुआ था। यूपीए सरकार के कार्यकाल (2004-2014) के दौरान पटेल कांग्रेस पार्टी के संकटमोचक के तौर पर काम करते रहे। वह सरकार और संगठन के बीच तालमेल बनाने में जुटे रहे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें