loader

पार्श्व गायक एसपी बालासुब्रमण्यम नहीं रहे, 74 की उम्र में निधन

बॉलीवुड और दक्षिण भारतीय फ़िल्म इंडस्ट्री के मशहूर पार्श्व गायक एसपी बालासुब्रमण्यम का निधन हो गया। वह 74 वर्ष के थे। उन्होंने चेन्नई के एमजीएम हेल्थकेयर में अंतिम साँस ली। बालासुब्रमण्यम की हालत नाजुक होने के कारण गुरुवार को उन्हें लाइफ़ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था। इसकी जानकारी उनके बेटे ने ट्वीट के ज़रिये दी थी। पिछले महीने 5 अगस्त को कोरोना रिपोर्ट पॉज़िटिव आने के बाद बालासुब्रमण्यम को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने एक वीडियो भी जारी किया था जिसमें उन्होंने बताया था कि उनको हल्के लक्षण ही हैं।

ताज़ा ख़बरें

एसपी बालासुब्रमण्यम का पूरा नाम श्रीपति पंडितराध्युला बालासुब्रमण्यम था और उन्होंने 16 भारतीय भाषाओं में क़रीब 40 हज़ार से ज़्यादा गाने रिकॉर्ड किये थे और इसी वजह से सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का नाम गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स में भी दर्ज है। उन्हें साल 2001 में पद्मश्री अवॉर्ड और साल 2011 में पद्म भूषण अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। उन्हें 4 भाषाओं, तेलुगू, तमिल, कन्नड़ और हिंदी गानों के लिए 6 बार सर्वश्रेष्ठ गायक के तौर पर राष्ट्रीय पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है।

निधन की ख़बर सुनकर सलमान ख़ान ने 'एसपी बालासुब्रमण्यम सर के बारे में सुनकर दिल टूट गया... आप हमेशा के लिए संगीत की अपनी निर्विवाद विरासत में रहेंगे! परिवार के प्रति संवेदना। भगवान आत्मा को शांति दें।'

इससे पहले जब उनकी हालत नाजुक होने की ख़बर मिली थी तब भी सलमान ख़ान ने लिखा था, “बालासुब्रमण्यम सर, आप जल्द ठीक हों इसके लिए दिल की गहराइयों से पूरी ताक़त और दुआएँ देता हूँ। आपने जो भी गाना मेरे लिए गाया उसे ख़ास बनाने के लिए धन्यवाद, 'साथिया तू ने ये क्या किया', आपका दिल दीवाना हीरो प्रेम, लव यू सर।" 

पार्श्व गायक बालासुब्रमण्यम ने सलमान ख़ान की फ़िल्मों के लिए इतने ज़्यादा गाने गाए कि बालासुब्रमण्यम की आवाज़ को लोग सलमान की आवाज़ मानने लगे थे। उन्होंने सलमान के कई हिट गाने गाये हैं। इसके साथ ही अभिनेता कमल हासन, रजनीकांत से लेकर सलमान और शाहरुख़ तक पूरे भारत के सुपरस्टार्स के लिए एसपी बालासुब्रामण्यम ने गाना गाया है।

playback singer sp balasubramaniam passed away - Satya Hindi

एसपी बालासुब्रमण्यम के निधन पर गृह मंत्री अमित शाह ने लिखा, ‘प्रसिद्ध संगीतकार और प्लेबैक सिंगर पद्म भूषण एसपी बालासुब्रह्मण्यम जी के निधन से गहरा दुःख हुआ। वह हमेशा अपनी मधुर आवाज़ और अद्वितीय संगीत रचनाओं के माध्यम से हमारी यादों में बने रहेंगे। मेरी संवेदना उनके परिवार और अनुयायियों के साथ है। ओम शांति।'

अभिनेता अक्षय कुमार ने लिखा, ‘बालासुब्रमण्यम जी के निधन की ख़बर सुनकर बहुत दुखी हूँ। लॉकडाउन के दौरान वर्चुअल कॉन्सर्ट में उनसे बात हुई थी। उस वक़्त वो पूरी तरह स्वस्थ और प्रसन्न थे। जीवन वाकई अनप्रेडिक्टेबल है। परिवार के लिए मेरी संवेदनाएँ।’

एसपी बालासुब्रमण्यम हमेशा ही अपनी मधुर आवाज़ के ज़रिये सभी के दिलों में ज़िंदा रहेंगे। फ़िल्मी हस्तियाँ और उनके चाहने वाले सोशल मीडिया के माध्यम से उन्हें श्रद्धाजंलि दे रहे हैं। 

श्रद्धांजलि से और ख़बरें

इन हिट गानों से थी अलग पहचान

यूँ तो एसपी बालासुब्रमण्यम ने हज़ारों गानों में अपनी आवाज़ दी थी लेकिन उनके कुछ गाने ऐसे भी थे जिनसे उनकी एक अलग पहचान बनी हुई थी। ये गाने आज भी लोगों की ज़ुबान पर रहते हैं। इनमें, 'आजा शाम होने आई', 'हम बने तुम बने एक दूजे के लिए', 'तेरे मेरे बीच में कैसा है ये बंधन अंजाना', 'पहला पहला प्यार है', 'सच मेरे यार है', 'बस यही प्यार है' और 'हम तुम दोनों जब मिल जाएँगे' जैसे हिट गाने शामिल हैं।

एसपी बालासुब्रमण्यम का आख़िरी हिंदी गाना सुपरस्टार शाहरुख ख़ान और एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण की फ़िल्म 'चेन्नई एक्सप्रेस' का टाइटल सॉन्ग था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें