loader

राम विलास पासवान को लालू यादव 'मौसम वैज्ञानिक' क्यों मानते थे?

भारत की दलित राजनीति के सबसे महत्वपूर्ण चेहरों में शामिल राम विलास पासवान ने 1983 में दलित सेना भी बनायी थी जिसके वे आजीवन अध्यक्ष रहे। वे न्याय चक्र के नाम से एक पत्रिका भी निकालते थे। पासवान कभी दलित-अल्पसंख्यक राजनीति में नाम पैदा नहीं कर सके लेकिन वे इंटरनेशनल दलित व माइनाॅरिटी फ्रंट के भी अध्यक्ष थे।
समी अहमद

बिहार के खगड़िया जिले के अलौली प्रखंड के शहरबन्नी गांव का एक टोला है, जिसका नाम मंत्री जी का टोला है। राम विलास पासवान के मंत्री बनने के बाद उस टोले का यह नाम पड़ा था। अपने बेटे को खोने पर आज यह टोला सबसे अधिक उदास होगा। 

शतरंज खेलने के शौकीन राम विलास पासवान के पास 23 साल की उम्र में डीएसपी और एमएलए दोनों बनने का अवसर आया तो उन्होंने एमएलए बनने को प्राथमिकता दी। 

1975 में इमरजेंसी के दौरान गिरफ्तार हुए मगर उसी साल उन्होंने हाजीपुर से लोकसभा का चुनाव रिकाॅर्ड 4,24,545 वोटों से जीता। तब से 2014 तक वे नौ बार लोकसभा के सांसद रहे और इसके बाद राज्यसभा के सदस्य भी बने। यूपीए और एनडीए दोनों के शासन काल में मंत्री बनने को उनकी राजनीतिक पकड़ की पहचान माना जाता है।

ताज़ा ख़बरें

बिहार की राजनीति की तिकड़ी, जिसके दो अन्य सदस्य लालू प्रसाद और नीतीश कुमार हैं, के सदस्य के रूप में उन्होंने राजनीति में सही समय पर सही फैसला लेने में नाम पैदा किया। राजनीति को भांपने की उनकी इस समझ के कारण ही लालू प्रसाद उन्हें मौसम वैज्ञानिक मानते थे।

किसी को नहीं दिया था समर्थन

सन 2005 पासवान के राजनीतिक जीवन का एक और महत्वपूर्ण साल था, जब उनकी महज पांच साल पुरानी पार्टी ने अकेले दम पर बिहार विधानसभा का चुनाव लड़ा था और उसे 29 सीट मिली थी। तब पासवान कहते थे कि सत्ता की चाबी तो उनके पास है। उनकी पार्टी ने किसी को समर्थन नहीं देने का निर्णय लिया जिसके कारण बिहार में राष्ट्रपति शासन लागू हुआ था।

उस समय उन्होंने कुछ बाहुबलियों को भी टिकट दिये थे। जब उनसे इसके बारे में सवाल किया गया तो उनका जवाब बहुत ही दिलचस्प था। उन्होंने कहा था कि सिर का घाव ठीक करने के लिए पांव के घाव पर ध्यान नहीं दिया जाता।

इस मौसम वैज्ञानिक को शायद अपने आने वाले दिनों का भान हो चुका था और शायद इसी वजह से साल 2000 में स्थापित लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) की कमान उन्होंने अपने पुत्र चिराग पासवान को दे दी थी। वैसे, 2014 के बाद से ही एलजेपी का लगभग हर महत्वपूर्ण निर्णय चिराग पासवान ही ले रहे थे।

एमए और एलएलबी की डिग्री रखने वाले राम विलास पासवान कसरत करने और खाने-खिलाने के शौकीन आदमी थे। आप उनके साथ खाने पर बैठ जाएं तो भूख से ज्यादा खिला देना उनके बाएं हाथ का खेल था।

दलित सेना भी बनायी 

भारत की दलित राजनीति के सबसे महत्वपूर्ण चेहरों में शामिल राम विलास पासवान ने 1983 में दलित सेना भी बनायी थी जिसके वे आजीवन अध्यक्ष रहे। वे न्याय चक्र के नाम से एक पत्रिका भी निकालते थे। पासवान कभी दलित-अल्पसंख्यक राजनीति में नाम पैदा नहीं कर सके लेकिन वे इंटरनेशनल दलित व माइनाॅरिटी फ्रंट के भी अध्यक्ष थे।

श्रद्धांजलि से और ख़बरें
उनके राजनीतिक जीवन में 1970 में एक महत्वपूर्ण मोड़ आया जब वे संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी की बिहार शाखा के सचिव बनाये गये। 1974 में वे लोकदल से जुड़े और 1985-86 में इसके राष्ट्रीय महासचिव रहे। 1987-88 में वे जनता पार्टी में रहे। 1988-90 तक जनता दल में रहे। इस दौरान वे नेशनल फ्रंट के सचिव भी बने। उनके इस समय चले जाने के कारण बिहार की राजनीति में फिर परिवर्तन आ सकता है मगर राजनीति का दूसरा मौसम वैज्ञानिक शायद इतनी आसानी से नहीं मिले।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
समी अहमद
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें