loader

अमर सिंह न अमर थे, न रहेंगे 

पूंजीवाद के लिए चाशनी में लिप्त 'कॉरपोरेट' शब्द आ गया और दलाली 'लायज़ाँ' कहलाने लगी। जब सब कुछ नंगा हो गया तो पूंजीपतियों के इर्द-गिर्द घूमने वाले छुटभैये दलाल भी गले में खुले आम दलाली का बिल्ला लटकाये घूमने लगे और पत्रकारिता में छुप-छुप कर दलाली करने वाले बड़े गर्व से किसी ख़ास उद्योग समूह के हितों की 'प्रेस विज्ञप्तियों' को बेशर्मी से 'स्टोरी' बताकर छापने लग गए।
अनिल शुक्ल

अमर सिंह के गुज़र जाने पर हिंदी के राष्ट्रीय स्तर पर जाने गए पत्रकारों से लेकर ज़िला स्तर तक के पत्रकारों की टिप्पणियों को पढ़ना ख़ासा दिलचस्प अनुभव था। वीरेंद्र सेंगर, शकील अख़्तर और कुछेक इक्का-दुक्का पत्रकारों को छोड़कर ज़्यादातर भाई लोगों (जो उनसे गाहे-बगाहे उपकृत हुए वे सभी और जो नहीं हुए वे भी) ने उनके जाने का शोक मनाया।

वीरेंद्र सेंगर पैदायशी शालीन पत्रकार हैं। बहरहाल उन्होंने अमर सिंह की हँसते-मुस्कराते टांग भी खींची है तो चलते-चलते उनके कुछ-कुछ निहायत घटिया चाल चरित्र का महिमामंडन भी कर दिया है। अपने व्यक्तित्व के अनुरूप 'मुझे ग़लत न समझना' की हाइपोथीसिस वाले सेंगर जी अमर सिंह के 'बाबूजी' को भी कहीं से ढूंढ लाये और उनका बेख़ौफ़ महिमामंडन कर डाला है।

विचार से और खबरें

अमर सिंह होने का मतलब?

अमर सिंह नब्बे के दशक के भारतीय समाज की ख़ास पैदायश थे। उन्हें नब्बे के दशक में ही पैदा होना था, उससे पहले नहीं। सवाल यह है कि वह नब्बे के दशक की शुरुआत में ही क्यों नमूदार हुए?
भारतीय राजनीति को भारतीय कॉरपोरेट से और भारतीय कॉरपोरेट को भारतीय राजनीति से कनेक्ट करवाने वाले वह ऐसे शख़्स थे, जिन्हें अपनी कॉर्पोरेटी नंगई और राजनीतिक 'बेशर्मी' पर न तो कभी शर्म आई और न उन्होंने 'कपड़े पहनने' की कोई ज़रूरत ही समझी।
सवाल उठता है कि इस प्रकार की 'नंगई' और इस क़िस्म की 'बेशर्मी' का सूत्रपात नब्बे के दशक में ही क्यों हुआ, इससे पहले क्यों नहीं?

राजनीति-कॉरपोरेट रिश्ते

भारतीय राजनीति और कॉरपोरेट जगत का याराना कोई नई बात नहीं। यह आज़ादी के पहले से ही स्थापित था और आज़ादी के बाद तक बना रहा।
गांधी अकेले अपवाद हैं जिन्होंने बिड़ला परिवार के साथ अपनी आत्मीयता को कभी किसी से छिपाया नहीं, क्योंकि उन्होंने निजी कारणों के लिए बिड़ला का कोई उपयोग नहीं किया था।
आज़ादी के बाद के लम्बे दौर में राजनेता और पूँजीपति 'अपने-अपने ऊँट निहुरे-निहुरे चराते रहे' थे। मंत्री और प्रधानमंत्री अंदरखाने से पूंजीपतियों के हित में 'आर्डर' पास करते रहे और पूंजीपति बाएं हाथ से उनके यहां लक्ष्मी भिजवाते रहे। विपक्ष के नेता भी कोई धुले-पुँछे नहीं थे। विधानसभाओं में पेश होने वाले 'अविश्वास प्रस्ताव' कैसे और किसके कहने पर 'विश्वास प्रस्ताव' में तब्दील हो जाते थे, इसे आम नागरिक भले ही न जान पाए, लेकिन सियासत वाले और सियासत को 'कवर' करने वाले पत्रकार बख़ूबी जानते रहे हैं।

कॉरपोरेट के यार पत्रकार

नई पीढ़ी को इस बात की बेशक समझ न हो, लेकिन हम लोगों की या हमसे पहले की पीढ़ी को खूब याद है कि 'कॉरपोरेट' के साथ राजनेताओं की यारी कभी खुल कर नहीं की गयी। समाज में (यानि वोटर की निगाह में) इसे 'अच्छी' नज़रों से नहीं देखा जाता था। अस्सी के दशक में पोल खुल जाने पर वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी मुंह ढक के घूमते रहे और उधर धीरूभाई अम्बानी के 'रिलायंस' का 'पीआर' डिपार्टमेंट अपनी सफाईयाँ पेश करता रहा था।

खुला खेल फ़र्रुख़ाबादी

लेकिन 90 के दशक के 'उदारीकरण' गान ने पूंजीपतियों और पूंजीवाद के खुले महिमामंडन को सामाजिक स्वीकृति दिलाने का अभियान छेड़ दिया। समाज और राजनीति-दोनों में पूंजीवाद अपना 'खुला खेल फ़र्रुख़ाबादी' खेलने लगा।
पूंजीवाद के लिए चाशनी में लिप्त 'कॉरपोरेट' शब्द आ गया और दलाली 'लायज़ाँ' कहलाने लगी। जब सब कुछ नंगा हो गया तो पूंजीपतियों के इर्द-गिर्द घूमने वाले छुटभैये दलाल भी गले में खुले आम दलाली का बिल्ला लटकाये घूमने लगे और पत्रकारिता में छुप-छुप कर दलाली करने वाले बड़े गर्व से किसी ख़ास उद्योग समूह के हितों की 'प्रेस विज्ञप्तियों' को बेशर्मी से 'स्टोरी' बताकर छापने लग गए। सम्पादक के ज़्यादातर पदों पर 'जनसम्पर्क अधिकारियों' का क़ब्ज़ा हो गया। 

संसद कैसे पहुँचे पत्रकार?

ये जनसम्पर्क अधिकारी अपने मालिकानों की राजनेताओं से ट्यूनिंग करवाते और धीमे से दूसरे पूंजीपतियों की दलाली-बट्टा भी कर डालते। इनमें से कई दलाल लोक सभा और राज्य सभा के 'माननीय' भी बन गए। कांग्रेस से लेकर बीजेपी तक इनकी लाइन खासी लम्बी है। 
कुछ आगे चलकर इतने 'कद्दावर' हो गए कि मंत्रियों के पदों की बंदरबांट में भरी हिस्सेदारी करवाने लगे। यूपीए-2 के दौर में संचार मंत्री ए. राजा का 2 जी घोटाला 'एक्सपोज़' होने पर जिस तरह नीरा राडिया की 'लायज़ाँ' कम्पनी और नामचीन पत्रकारों के नाम जगज़ाहिर हुए, उसे न्यायपालिका भले ही विस्मृत कर दे, लोग अभी नहीं भूले है।

दलाली की पावन बेला में अमर सिंह का जन्म

नब्बे के दशक की दलाली की ऐसी ही पावन बेला में अमर सिंह का जन्म होता है। तेज़ आदमी थे। पूंजीपति 'मोदी' के यहाँ से शुरू करके बड़ी जल्दी 'बिड़लाज़' के भीतर तक पहुँच गये। माधवराव सिंधिया की 'संगत' में कांग्रेस की 'एआईसीसी' के मेम्बर हो गये। मैंने सबसे पहले अमरसिंह को माधवराव सिंधिया के यहाँ ही देखा था।
'बाबरी मसजिद विध्वंस' के तत्काल बाद हम पत्रकारों का समूह दिल्ली के सामाजिक-राजनीतिक लोगों से 'विरोध प्रदर्शित' करने के आह्वान को लेकर मिल रहा था। मैं, जावेद (रायटर), आनंदस्वरूप वर्मा सहित कोई दर्जन भर लोग इस प्रतिनिधिमंडल में थे।
जब हम माधवराव सिंधिया के यहां पहुंचे तो उनके रेज़िडेंस वाले ऑफिस में उनकी कुर्सी के पीछे 'अर्दली' की मुद्रा में जो शख्स बिलकुल चुपचाप खड़ा था, जावेद उसको जानते थे। बाद में जावेद ने बताया कि वह बिड़लाज़ का पीआर वाला अमर सिंह है। कुछ दिनों बाद मैंने उसे सूरजकुंड में हुए 'एआईसीसी' के सेशन में भी कांग्रेस के कुछेक शीर्ष नेताओं की लल्लो-चप्पो करते देखा।
उसी के बाद नई एआईसीसी' गठित किये जाने की एक लंबी सूची हम पत्रकारों को दी गयी, भाई का नाम उसमें मौजूद था। 

मुलायम के क़रीब

वह कब और कैसे मुलायम सिंह यादव के चरणों में जा बैठे, पता नहीं। मुलायम सिंह यादव के व्यक्तित्व की ट्रैजेडी यह रही कि उन्हें कभी अंदाज़ ही नहीं हुआ कि उनका क़द कितना बड़ा हो सकता है। वह 'सैफई नरेश' बन जाने को ही अपना चरम मानने लग गए थे और तभी मुझे समाजवादी पार्टी के एक राष्ट्रीय महासचिव की इस बात में सच्चाई नज़र आने लगी थी कि 'एक बार अमर सिंह ने उनको कहीं से 2 सौ करोड़ रुपये का चन्दा दिलवा दिया और 'नेताजी' उसी में हमेशा के लिया चित्त-पट्ट हो गए।'
अमर सिंह का ऐसा जलवा-जलाल भी लोगों को मालूम है कि रात के एक बजे श्रीमान ने दिल्ली में अपने टाइपिस्ट को घर से बुलवाया, समाजवादी पार्टी के लेटर हेड पर पार्टी अध्यक्ष की ओर से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पार्टी से निष्कासित किये जाने की चिट्ठी टाइप करवा ली और उस पर पार्टी अध्यक्ष के दस्तख्वत भी करवा लिए।
अखिलेश यादव भारी गले से 'पार्टी' के सभी सीनियर और जूनियर के आगे यही दुखड़ा रोते रहे कि 'नेताजी को यह सब करने की क्या ज़रूरत थी? उन्होंने ही हमें इस कुर्सी पर बैठाया था, वही बुलाते और कह देते कि नीचे उतरो तो क्या एक भी सेकेण्ड लगाने की हमारी औक़ात थी?' उनके इस वाक्य ने सभी को जीत लिया।  

बीजेपी की गोद में?

बाद में मुलायम सिंह यादव का अपनी ही पार्टी में जो हश्र हुआ, सभी को मालूम है। अमर सिंह 'हम तो डूबेंगे सनम, तुमको भी ले डूबेंगे' साबित हुए।
यदि सपा से मुलायम और अमर दोनों नहीं निकाल फेंके गए होते तो कब अमर सिंह मुलायम सिंह यादव के साथ सपा को बीजेपी की गोद में ले जाकर बैठा देते इसे कोई नहीं जानता।

मुलायम सिंह में इतनी समझ भी नहीं बची थी कि वह याद रख पाते कि बीजेपी विरोध ही तो उनकी पार्टी का 'डीएनए' है। अमर सिंह का समयगत मूल्यांकन करने वाला एक ही शख्स निकला और उसका नाम है- अमिताभ बच्चन।         

बहरहाल, अमर सिंह न अमर थे, न हैं, न रहेंगे।  

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अनिल शुक्ल
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें