loader

कोरोना संकट में भी हिंदू-मुसलमान कौन ढूँढ रहा है?

क्या ऐसे राष्ट्रीय संकट के समय में भी हम लोग एकता का परिचय नहीं दे सकते? ऐसे संकट-काल में ये निराधार अफवाहें सबसे ज़्यादा नुक़सान किसका करती हैं? ग़रीबों का, कम पढ़े-लिखे लोगों का, बेज़ुबान लोगों का, कमज़ोर लोगों का! इसीलिए यह ज़रूरी है कि वे किसी के बहकावे में न आएँ।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

इससे ज़्यादा शर्मनाक बात क्या हो सकती है कि कोरोना के मसले को भी हिंदू-मुसलमान का रंग दिया जा रहा है। इंदौर और मुरादाबाद में डाॅक्टरों और नर्सों पर जो हमले किए गए हैं, उनकी जितनी निंदा की जाए, कम है। क्या कोई कल्पना भी कर सकता है कि जो लोग अपनी जान ख़तरे में डालकर आपकी जान बचाने आए हैं, आप उन्हीं पर पत्थर बरसा रहे हैं। यह किसी इंसान का काम तो नहीं हो सकता। यह तो शुद्ध जानवरपना है। ऐसा क्यों हो रहा है?

इसका कारण अफवाहें हैं। ग़लतफहमियाँ हैं। भीड़ भरे मोहल्लों और झोपड़पट्टियों में ऐसी ग़लतफहमियाँ फैला दी गई हैं कि ये डाॅक्टर तुम्हारे इलाज के लिए नहीं, तुम्हारी गिरफ्तारी के लिए आ रहे हैं। ये तुम्हें पहले पकड़वाएँगे और फिर इलाज के बहाने ऐसी सुई लगा देंगे, जो या तो तुम्हें नपुंसक बना देगी या मौत के घाट उतार देगी। ये अफ़वाहें फैलानेवाले लोग कौन हैं? ये सब लोग जमाती नहीं हैं। उनमें से कुछ हैं। 

ताज़ा ख़बरें

जमाते-तब्लीग़ी ने देश के मुसलमानों के बीच कोरोना किस रफ्तार से फैलाया, यह सबको पता है। उन्होंने जाने-अनजाने ही देश के मुसलमानों को भयंकर नुक़सान तो किया ही, इसलाम की बदनामी भी की। कुछ मुसलिम नेताओं और कुछ प्रसिद्ध मुसलमानों ने दबी ज़ुबान से इन तब्लीग़ियों की आलोचना तो की लेकिन उन्होंने कड़ी भर्त्सना नहीं की। यह संतोष का विषय है कि भाजपा की सरकार ने इस सारे मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश नहीं की।

मैं देश के मुसलिम नेताओं, मौलानाओं, काज़ियों, कलाकारों, लेखकों, बुद्धिजीवियों आदि सभी से अनुरोध करता हूँ कि इंदौर के सलीम भाई के बेटे और प्रसिद्ध फ़िल्मी-सितारे सलमान ख़ान की तरह वे हिम्मत करें और दो-टूक बयान जारी करें। जब कोरोना बिना भेद-भाव के सबके प्राण लेने पर उतारू है, तब हम इंसान लोग हिंदू-मुसलमान, ऊँच-नीच, ग़रीब-अमीर का भेदभाव क्यों कर रहे हैं?

विचार से ख़ास
क्या ऐसे राष्ट्रीय संकट के समय में भी हम लोग एकता का परिचय नहीं दे सकते? ऐसे संकट-काल में ये निराधार अफवाहें सबसे ज़्यादा नुक़सान किसका करती हैं? ग़रीबों का, कम पढ़े-लिखे लोगों का, बेज़ुबान लोगों का, कमज़ोर लोगों का! इसीलिए यह ज़रूरी है कि वे किसी के बहकावे में न आएँ। अपनी बुद्धि से काम करें। अपनी जाँच और इलाज के लिए ख़ुद आगे आएँ। कोरोना से हम सब मिलकर लड़ें।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें