loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

कोरोना: आयुर्वेद के घरेलू नुस्खों, आसन-प्राणायाम पर जोर दें सरकारें

यह ठीक है कि कोरोना वायरस का पक्का इलाज आयुर्वेद के घरेलू नुस्खों, आसन-प्राणायाम और हमारी परंपरागत चिकित्सा पद्धति के पास नहीं है लेकिन यह एलोपैथी के पास भी नहीं है। एलोपैथी के उपकरणों, अस्पतालों और दवाओं पर अरबों रुपये लुटाने के साथ-साथ यदि भारत सरकार अपनी परंपरागत चिकित्सा पद्धति पर थोड़ा भी ध्यान देती तो दूसरे राष्ट्रों को भी इस वायरस से लड़ने में बड़ी मदद मिलती। 
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

कोरोना-युद्ध में केंद्र और दिल्ली की सरकार को उसी सख्ती का परिचय देना चाहिए था, जो इंदिरा गांधी ने 1984 में पंजाब में दिया था। दो हफ्ते तक मरकज़े-तब्लीग़ी जमात के जमावड़े को वह क्यों बर्दाश्त करती रही? अब उसका नतीजा सारा देश भुगत रहा है। मेरा अनुमान था कि देश की यह तालाबंदी दो हफ्ते से ज्यादा नहीं चलेगी। भारत में कोरोना वायरस के पिट जाने के कई कारण मैं गिनाता रहा हूं। अब भी कोरोना का हमला भारत में उतना विध्वंसक नहीं हुआ है, जितना कि यह यूरोप और अमेरिका में हो गया है। 

ताज़ा ख़बरें
तब्लीग़ी जमावड़े पर हमारी सरकारों का मौन तो आश्चर्यजनक है ही, उससे भी ज्यादा हैरतअंगेज हमारे नेताओं, अफ़सरों और डॉक्टरों की मानसिक गुलामी है। क्या वजह है कि हमारे देश के टीवी चैनल कोरोना से लड़ने के लिए आयुर्वेद के घरेलू नुस्खों, आसन-प्राणायाम और रोजमर्रा के परहेजों का जिक्र तक नहीं कर रहे हैं? इन्हीं की वजह से तो भारत में कोरोना लंगड़ा रहा है। हम कितने दयनीय हैं कि अपनी छिपी हुई ताक़त को ही नहीं पहचान रहे हैं। 

मुझे खुशी है कि मानव-शरीर की प्रतिरोध-शक्ति बढ़ाने वाले इन नुस्खों और आसन-प्राणायाम का प्रचार देश के कुछ प्रमुख हिंदी अख़बार कर रहे हैं। लेकिन अपने आपको राष्ट्रवादी कहने वाले हमारे नेता अपनी इस राष्ट्रीय धरोहर के बारे में मौन क्यों साधे हुए हैं? उनमें आत्मविश्वास की इस कमी को देखकर मुझे उन पर तरस आता है। उन्होंने क्या देखा नहीं कि उनकी ‘नमस्ते’ सारी दुनिया में कैसे लोकप्रिय हो गई? यह सुनहरा मौक़ा था, जबकि वे सारी दुनिया को भारत की इस महान चिकित्सा-पद्धति से लाभान्वित करते! 

विचार से और ख़बरें
यह ठीक है कि कोरोना वायरस का पक्का इलाज इस पद्धति के पास नहीं है लेकिन वह एलोपैथी के पास भी नहीं है। एलोपैथी के उपकरणों, अस्पतालों और दवाओं पर अरबों रुपये लुटाने के साथ-साथ यदि भारत सरकार अपनी ‘परंपरागत पैथी’ पर थोड़ा भी ध्यान देती तो दक्षिण और मध्य एशिया के दर्जन भर राष्ट्रों के डेढ़ अरब लोगों को कोरोना वायरस से लड़ने में बड़ी मदद मिलती। प्रधानमंत्री चाहें तो अपने राष्ट्रीय संबोधन में अब भी इस पर जोर दे सकते हैं। मैं राष्ट्रपति, राज्यपालों और सभी मुख्यमंत्रियों से आशा करता हूं कि कम से कम वे इस मुद्दे पर ध्यान देंगे। 

(डॉ. वेद प्रताप वैदिक के ब्लॉग www.drvaidik.inसे साभार)

Satya Hindi Logo लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा! गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए 'सत्य हिन्दी' के साथ आइए। नीचे दी गयी कोई भी रक़म जो आप चुनना चाहें, उस पर क्लिक करें। यह पूरी तरह स्वैच्छिक है। आप द्वारा दी गयी राशि आपकी ओर से स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) होगा, जिसकी जीएसटी रसीद हम आपको भेजेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें