loader

अंतहीन दर्द झेलते प्रवासी मज़दूरों की मदद: वे अकेले ही चले थे, कारवाँ बनता गया...

श्रमिकों ने सोचा कि सड़कों पर मारे-मारे फिरे तो सचमुच कोरोना से मर जाएँगे। किसी तरह घर पहुँच गए तो शायद ज़िंदा रह जाएँ अन्यथा मरण तो पक्का है। दोनों सूरतों में अगर मरना ही है तो क्यों न अपनी माटी में जाकर मिट्टी में मिल जाएँ। पूर्वजों के आसपास अंतिम संस्कार होगा तो आत्मा को शान्ति मिलेगी। श्मशान तक ले जाने वाले चार कंधे भी मिल जाएँगे।
राजेश बादल

कोरोना काल का अधिकांश समय दिल्ली में बीता। चंद रोज़ पहले आवागमन कुछ आसान हुआ तो पत्रकार साथी और मित्र जे पी दीवान के साथ दिल्ली से सड़क मार्ग के ज़रिए भोपाल रवाना हो गया। ई पास ने रास्ते की अड़चनें आसान कर दी थीं। ग्वालियर आते आते हम लोग महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात, राजस्थान और उत्तर प्रदेश से आ-जा रहे श्रमिकों की दर्दनाक कथाएँ अपनी आँखों से देख चुके थे। मन उदास, बोझिल और अवसाद भरा था। बचपन में गाँव के मेलों में कई किलोमीटर पैदल चलते थे। उत्साह से भरे रहते थे। रास्ते में कहीं खाना खा लिया, कहीं पेड़ के नीचे सो लिए तो कहीं किसी चाय की गुमटी पर गरमागरम चुस्कियाँ लीं। जेब में एक दो रुपए भी होते तो अपने को राजा समझते थे। क्या विरोधाभास था कि एक तरफ़ बचपन की यादों की फ़िल्म चल रही थी तो दूसरी तरफ़ नंगे पाँव, भूखे-प्यासे सर पर गठरियाँ लादे, छोटे बच्चों को साथ लिए पलायन का भयावह मंज़र। 

ताज़ा ख़बरें

बँटवारे के दौर की कहानियों के पन्ने भी एक एक कर दिमाग़ में फड़फड़ा रहे थे। पाकिस्तान जाने वाले लोग तो ख़ुशी-ख़ुशी अपने नए मुल्क का बाशिंदा बनने के लिए गए थे। वे दुखी भाव से हिन्दुस्तान छोड़कर नहीं गए थे। लेकिन ये बेचारे तो आफ़त के मारे थे। जहाँ दो जून की रोटी कमा रहे थे, वहाँ काम बंद हो गया। मकान मालिक ने किराया नहीं देने के कारण घर से निकाल दिया। बचत के पैसे चुक गए। एक दिन भूखों मरने की नौबत आ गई। श्रमिकों ने सोचा कि सड़कों पर मारे-मारे फिरे तो सचमुच कोरोना से मर जाएँगे। किसी तरह घर पहुँच गए तो शायद ज़िंदा रह जाएँ अन्यथा मरण तो पक्का है। दोनों सूरतों में अगर मरना ही है तो क्यों न अपनी माटी में जाकर मिट्टी में मिल जाएँ। पूर्वजों के आसपास अंतिम संस्कार होगा तो आत्मा को शान्ति मिलेगी। श्मशान तक ले जाने वाले चार कंधे भी मिल जाएँगे।

सरोकारों के सिपाही 

वेदना के इस अहसास को भुगतते हुए हम लोग ग्वालियर से डबरा के रास्ते पर थे। हमारे लोकप्रिय जुझारू पत्रकार साथी और समाजसेवी डॉक्टर राकेश पाठक से फ़ोन पर बात हुई। जैसे ही हमने उन्हें ग्वालियर के निकट होने की जानकारी दी, उन्होंने कहा कि हम उनके मिशन -इंसानियत के सिपाही का भोजन चखते हुए जाएँ। हमारे पास अपना भोजन था, इसलिए हम तनिक हिचके। लेकिन उन्हें लगा कि कोरोना के कारण शायद हम बचना चाह रहे हैं। यह देखकर मना नहीं कर सके और इस भव्य ढाबे पर जा पहुँचे। राकेश को मैं क़रीब तीस-पैंतीस बरस से जानता हूँ। मेरे बाद की पीढ़ी में जिन पत्रकारों ने अपने सरोकारों को ज़िंदा रखा है, उनमें वे शिखर पर हैं। हक़ के लिए किसी भी हद तक जाकर संघर्ष करने से वह नहीं झिझकते। अंदर - बाहर आपको एक ही राकेश दिखाई देता है। दो राकेश नज़र नहीं आते। यही पारदर्शिता, ईमानदारी और सचाई उनकी यश - पूँजी है।

निजी ज़िंदगी के तमाम झंझावातों को ताक में रखकर जब सड़क पर उतरते हैं तो फिर पीछे नहीं हटते। ग्वालियर की माटी से यही उनका रिश्ता है। बहरहाल! इसे राकेश का तारीफ़नामा न समझा जाए, पर जो काम उन्होंने सड़क से जा रहे श्रमिकों के लिए किया है, वह वास्तव में उन्हें और उनकी टीम को सर पर बिठाने के लिए पर्याप्त है।

helping troubled migrant workers walking back home on foot - Satya Hindi

उम्दा भोजन 

खाने पर इन श्रमिकों के लिए क्या भोजन उस दिन मेन्यू में था, आप जानकर दंग रह जाएँगे। हम तो अचानक जा टपके थे, लेकिन सबके लिए तैयार थे स्वादिष्ट मालपुए, आलू की तरीदार सब्ज़ी, एक सूखी सब्ज़ी, देसी घी की पूड़ियाँ और मट्ठा। बाद में शुद्ध - साफ़ घड़े की सौंधी महक वाला ठंडा ठंडा पानी। पियो तो पीते ही चले जाओ। राकेश ने भोजन पर अपनी पूरी टीम से भी मिलवाया। असल में राकेश से पहले यह काम एडवोकेट सुश्री अमी प्रबल, वरिष्ठ पुलिसकर्मी अर्चना कंसाना और सचिन कंसाना ने अपने सीमित संसाधनों से शहर के अनेक ठिकानों पर शुरू कर दिया था। इसके बाद डॉक्टर अरविन्द दुबे, जैनेन्द्र गुर्जर और प्रदीप यादव आकर मिले। फिर राकेश पाठक इससे जुड़े। इसके बाद तो इस पुनीत यज्ञ में ढेरों लोग अपनी अपनी आहुति डालने लगे। लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया। जिस राजमार्ग पर ये बेबस और लाचार ज़िंदा लाशों की तरह कंधे पर अपनी सलीब ढोए सबसे ज़्यादा नज़र आए, संयोग से उसी मार्ग पर विरासत ए पंजाब नाम से शानदार ढाबा नया बनकर तैयार हुआ था। उसके मालिक गोपाल सिंह ने उसकी चाबी इंसानियत के इन सिपाहियों को सौंप दी। इसके बाद तो सिलसिला चल निकला।

विचार से ख़ास

इंसानियत के फ़रिश्ते

समाज से एक-एक करके मददग़ारों की फौज़ खड़ी हो गई। कोई इन श्रमिकों के लिए फलों का इंतज़ाम करता तो कोई दवाओं का, कोई चरण पादुकाएँ भरकर ले आता तो कोई मास्क और सेनिटाइज़र। इन लाचारों के लिए ढाबे में पंखे की हवा उपलब्ध थी। वे वहाँ मनमर्जी सो सकते थे। अर्चना कंसाना बताते बताते भाव विह्वल हो जाती हैं। प्रवासी महिलाओं की वेदना गाथाएँ सुनकर हम भी अपने को नहीं रोक सके। अमी प्रबल का भी यही हाल था। उन्होंने इन मज़दूरों और उनके परिवारों ख़ासकर बच्चों के बारे में बताया तो सभी सिहर गए। राकेश ने बताया कि अनेक श्रमिक बीमार थे। उनके लिए डॉक्टर को बुलाकर इलाज़ और दवाएँ भी मुहैया कराईं। जिनके लिए संभव था, कुछ नकद रुपए भी हाथ में रख दिए। कई श्रमिकों से हमारी बात हुई। 

जेठ की चिलचिलाती गरमी में आसमान से बरसती आग तले सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलना आसान नहीं था। महाराष्ट्र और गुजरात से आए इन मज़दूरों ने जो हाल बयान किया, उसे यहाँ लिखने का भी साहस मेरे पास नहीं है। वे कह रहे थे, ‘यहाँ आकर पता चल रहा है कि हम वाक़ई जीवित हैं। भगवान इन फ़रिश्तों  को लंबी उमर दे।’ इसके बाद लिखने को क्या रह जाता है। 

चूँकि हमारा सफ़र भी लंबा था। इसलिए इन देवदूतों को सलाम करके हम निकल पड़े। रास्ते भर हमारी चर्चा के केंद्र बिंदु इंसानियत के यही सिपाही थे। ईश्वर कभी दुश्मनों को भी प्रवासी श्रमिकों जैसा दुर्भाग्य न दे।

(राजेश बादल के फ़ेसबुक वाल से।)

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
राजेश बादल
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें