loader

कोरोना: प्रधानमंत्री जी, आपने बहुत निराश किया!

प्रधानमंत्री ने देशवासियों को जितना डराना संभव था, डरा दिया। यह भी कह दिया कि इससे बचने का एक ही तरीक़ा है कि घरों में बंद रहा जाए और इसके लिए लक्ष्मण रेखा का अच्छा उदाहरण दिया पर उसके अंदर रहने में सहायता का कोई आश्वासन नहीं दिया। यह तो बताया कि 21 दिन की अवधि लंबी है पर यह नहीं बताया कि इस दौरान जानी-अनजानी दूसरी मुसीबत से निपटने के लिए क्या करना है। उल्टे उन्होंने मीडिया से लेकर पुलिस और स्वास्थ्यकर्मियों का ख्याल रखने की भी ज़िम्मेदारी जनता पर ही डाल दी। यह ज़रूर कहा कि आवश्यक चीजों की कमी नहीं होने दी जाएगी पर जब उत्पादन हो ही नहीं रहा है, डिलीवरी होगी नहीं तो कमी कैसे नहीं होगी, यह नहीं बताया। इन सब कारणों से यह किसी प्रधानसेवक का संदेश कम, एक मजबूर और लाचार संदेशवाहक का संदेश ज़्यादा लगा। 

जनता कर्फ्यू और थाली-ताली बजाने के आग्रह को पूरा करने के लिए धन्यवाद देने के साथ उन्होंने यह नहीं बताया कि पिछली बार की ही तरह देश के बाक़ी शहरों में भी (देश भर में) कंपलीट लॉकडाउन की सूचना अचानक दी गई है। उस सूचना के बाद अचानक ट्रेन बंद कर दी गई थी। उनकी सूचना के बाद विमान सेवाएँ बंद हो गईं। इसपर कोई शब्द नहीं, कोई सहानुभूति नहीं। जो लोग दूसरी जगहों पर फँस गए हैं उनके लिए कोई योजना नहीं, कोई सहायता नहीं है। कोरोना के अलावा जो दूसरे मरीज हैं उन्हें कैसे अस्पताल जाना हैं, दवाइयों की व्यवस्था कैसे करनी है। इसपर भी क़रीब पौने 29 मिनट के संदेश में कुछ नहीं था।

15,000 करोड़ रुपए संसाधनों के लिए आवंटित किए जाने की सूचना ज़रूर थी पर उससे तुरंत क्या लाभ मिलेगा, यह भी नहीं बताया गया। मुश्किल में पड़े लोगों की सहायता की जाएगी पर कौन करेंगे और अगर आप कुछ करना चाहें तो कैसे क्या करें इसपर भी संदेश में कुछ नहीं था। संक्षेप में यह नोटबंदी की घोषणा से अलग नहीं था।

ताज़ा ख़बरें

दुनिया भर में फैली महामारी की स्थिति में, देश भर में पहली बार लॉकडाउन की घोषणा ऐसे चलताऊ अंदाज़ में नहीं की जा सकती थी। इसमें जो गंभीरता थी वह बोलने में ही थी तथ्यों में ऐसा कुछ नहीं था। मुख्य संदेश में कुछ नहीं और उसके बाद ट्वीट करने से भी समझ में आता है कि उन्हें ग़लती का अहसास है। मैंने तो अपील की है कि, मोदी जी, ज़िद छोड़िए, एक ढंग का संचार सलाहकार, मीडिया एडवाइजर, भाषण लिखने वाला कोई तो रख लीजिए। कई संघी पत्रकार हैं, किसी की तो सलाह ले लिया कीजिए। किसी भी पेशेवर का लिखा या अनुभवी प्रधानमंत्री का संदेश ऐसा नहीं होता। संदेश ऐसा ही था कि लोग घबरा जाएँ।

प्रधानमंत्री की राजनीति, उनकी कार्यशैली, उनकी प्राथमिकताओं और सबसे बड़ी बात, उनके दल से मुझे घोर शिकायत है। इसलिए उनके संबोधन या संदेश में मुझे कमी लगी तो मैंने उसे सामान्य ही माना पर जब यह पता चला कि लोग राशन की दुकानों पर पहुँचने लगे, ट्रैफिक जाम हो गया और फिर ट्वीट आया तो मुझे यक़ीन हो गया कि संदेश आधा-अधूरा था। मैनेजमेंट के एक पुराने जानकार ने ट्वीट किया कि मोदी जी को प्रशासन का क्रैश कोर्स करने की ज़रूरत है। क़ायदे से प्रधानमंत्री को ऐसे कोर्स की ज़रूरत नहीं होनी चाहिए क्योंकि उनके नीचे बहुत सारे लोग इसमें माहिर होते हैं।

समस्या यह है कि प्रधानमंत्री के कार्यालय में उनके चुने हुए लोग हैं और उनकी भी सहायता या सलाह प्रधानमंत्री लेते हैं, ऐसा नहीं लगता है। नोटबंदी - एक गंभीर निर्णय था और तब ही यह साफ़ हो गया था कि उन्होंने किसी की सलाह नहीं ली थी और रोज़ नियम बदलने पड़े थे।

अफ़सोस यह है कि उन्होंने उससे कोई सीख नहीं ली। इसका कारण उनका वह बयान है, ‘घर में शादी है, पैसे नहीं हैं, हा हा हा …’। यह बहुत दुखद स्थिति थी। देश के आम नागरिकों का इस स्थिति में होना बेहद दुखद और तकलीफदेह था। पर यह और ज़्यादा तकलीफदेह था कि यह स्थिति उनके कारण थी और इससे बचा जा सकता था। लेकिन वह इस पर हँस रहे थे। उनके प्रशंसकों को कोई शिकायत नहीं थी। मेरा मानना है कि वह ऐसे ही हैं और चूँकि प्रशंसकों को कोई शिकायत नहीं है इसलिए वह ज़्यादा सोचते भी नहीं हैं। वरना कोरोना वायरस की समस्या बहुत गंभीर है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 30 जनवरी को ही इसे अंतरराष्ट्रीय चिन्ता वाली विश्व स्वास्थ्य इमरजेंसी घोषित किया था। इसी दिन भारत में कोरोना वायरस का पहला मामला मिला था। क़ायदे से यह सतर्क हो जाने का दिन था पर भारत ने एक महीने से ज़्यादा समय तक कुछ नहीं किया।

मैं नहीं कहता कि यह काम प्रधानमंत्री को ही करना था पर विश्व स्वास्थ्य इमरजेंसी घोषित किए जाने के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय और उसके कुछ अधिकारियों को सतर्क हो जाना चाहिए था और पूरी स्थिति पर नज़र रखते हुए देश के लिए एक योजना बना कर उसे क़ायदे से लागू किया जाना चाहिए था। अगर कोई ग़रीब परिवार रोज़ राशन खरीदने जाए या दवा लाने ही जाए तो? इससे कैसे निपटा जाए। किसी ग़रीब में लक्षण दिखे तो क्या करे – यह सब भी बताया जाना चाहिए था। पर ख़बरें मिल रही हैं कि अस्पतालों में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए भी आवश्यक चीजें नहीं हैं। और भारत में बनने वाली ज़रूरी चीजें अभी हाल तक निर्यात हो रही थीं। भारत सिर्फ़ सैनिटाइजर और मास्क के मामले में गंभीर था पर अस्पतालों में यह भी पूरा नहीं है।

कुल मिलाकर, प्रधानमंत्री ने बहुत निराश किया। 19 मार्च को प्रधानमंत्री ने राष्ट्र को संबोधित किया था और तब भी किसी योजना या तैयारी की चर्चा करने की बजाय देशवासियों से आग्रह किया कि जनता की सेवा करने वालों के सम्मान में ताली-थाली बजाई जाए। यह कार्यक्रम अगले ही दिन क्यों नहीं रखा गया उसपर सवाल हैं। लेकिन 22 तारीख़ को थाली बजाने से पहले यह पता चलने लगा था कि इस बीमारी से निपटने के लिए अस्पतालों में आवश्यक किट नहीं हैं।

विचार से ख़ास

कोरोना ख़तरे के बीच मध्य प्रदेश में सियासत

सबने देखा कि केंद्र सरकार के लिए मध्य प्रदेश में डबल इंजन की सरकार बनाना ज़्यादा ज़रूरी था। लॉकडाउन और भोपाल में बाग़ी विधायकों को ख़तरा होने के बावजूद मध्य प्रदेश के बीजेपी नेताओं और कांग्रेस के बाग़ियों के लिए कुछ सामान्य रहा। शपथ ग्रहण और विश्वास मत जीतते ही शाहीनबाग़ का धरना हटा दिया गया और देश को दोबारा संबोधित करने की ज़रूरत महसूस हो गई। 

पूर्व वित्त और गृह मंत्री तथा कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने इसी इतवार को प्रकाशित अपने कॉलम, ‘कोविड 19 से मुक़ाबला और उसके आगे’ में लिखा था, ‘मुझे पक्के तौर पर यक़ीन है कि अगले कुछ दिनों में प्रधानमंत्री कड़े सामाजिक और आर्थिक प्रतिबंधों के साथ वापसी करने को बाध्य होंगे।’ और तथ्य यह है कि इस बार उन्होंने यह नहीं बताया कि जो दफ्तर बंद हैं वे वेतन और दूसरे भुगतान कैसे करेंगे? करेंगे कि नहीं?

सम्बंधित ख़बरें

वही हुआ। चिदंबरम ने लिखा था, ‘विश्व स्वास्थ्य संगठन, इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च और कई महामारी विशेषज्ञ पर्याप्त चेतावनियाँ दे चुके थे और दे रहे हैं। सारी चेतावनियों का इशारा एक और सिर्फ़ एक ही नतीजे की ओर रहा कि अगर हमने कठोर, तकलीफदेह और अलोकप्रिय क़दम नहीं उठाए तो संक्रमित लोगों की संख्या नाटकीय रूप से बढ़ जाएगी।’ 

लॉकडाउन है – घर में रहना होगा। जिनके पास पैसा है उनके लिए फ्रोजन फूड है। वेज, नॉनवेज सब। जिनके पास नहीं है उनके लिए प्याज, अचार, चना और बेसन जैसी चीजें होंगी या मिल जाएँगी। झेलना है तो झेल लेंगे पर सरकार किसलिए होती है?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय कुमार सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें