loader

2024 में राहुल गांधी होंगे विपक्ष के पीएम उम्मीदवार: कमलनाथ

मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे। पीटीआई को दिए एक इंटरव्यू में कमलनाथ ने कहा कि राहुल गांधी सत्ता के लिए राजनीति नहीं कर रहे हैं बल्कि वह आम आदमी के लिए राजनीति कर रहे हैं। 

पिछले महीने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी कहा था कि राहुल गांधी 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष का नेतृत्व करेंगे। बता दें कि अब जब लोकसभा चुनाव में सवा साल का वक्त बचा है ऐसे में विपक्ष का चेहरा कौन होगा, इसे लेकर भी तमाम सवाल उठ रहे हैं। 

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपनी बात को और साफ करते हुए कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी न सिर्फ विपक्ष के चेहरे होंगे बल्कि प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार भी होंगे। खड़गे और कमलनाथ के बयानों से यह साफ समझा जा सकता है कि कांग्रेस ने विपक्षी गठबंधन में प्रधानमंत्री पद के चेहरे को लेकर अपना दावा पुरजोर ढंग से सामने रखा है। 

ताज़ा ख़बरें

भारत जोड़ो यात्रा 

कमलनाथ ने कहा कि इतिहास में कभी भी किसी ने इतनी लंबी पदयात्रा नहीं की है। बता दें कि भारत जोड़ो यात्रा तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा का सफर तय करते हुए बीते दिनों दिल्ली पहुंची थी। इन दिनों यात्रा रुकी हुई है। भारत जोड़ो यात्रा कुल 3570 किमी. की है। यात्रा 3000 किलोमीटर का सफर तय कर चुकी है। भारत जोड़ो यात्रा में 24 दिसंबर के बाद 9 दिनों का ब्रेक है और अब यह 3 जनवरी 2023 को फिर से शुरू होगी। 

आने वाले दिनों में इस यात्रा को उत्तर प्रदेश से होते हुए हरियाणा और पंजाब के बाद कश्मीर तक जाना है। 

मध्य प्रदेश में साल 2023 के अंत में विधानसभा के चुनाव होने हैं और इसे लेकर कमलनाथ और मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी तैयारियों में जुटे हुए हैं। पिछले महीने जब भारत जोड़ो यात्रा मध्य प्रदेश में पहुंची थी तो प्रदेश कांग्रेस ने इसका जोरदार स्वागत किया था। 

2024 Lok Sabha elections Rahul Gandhi opposition prime minister candidate - Satya Hindi

कांग्रेस मुक्त भारत संभव नहीं 

कुछ दिन पहले ही एनसीपी के मुखिया शरद पवार ने कहा था कि कांग्रेस मुक्त भारत संभव नहीं है और देश के लिए कांग्रेस की विचारधारा और उसकी योगदान को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।

कांग्रेस ने भारत जोड़ो यात्रा के दौरान तमाम सहयोगी और विपक्षी दलों को भी साथ लाने की कोशिश की है। भारत जोड़ो यात्रा जब महाराष्ट्र में थी तो एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले और शिवसेना उद्धव गुट के नेता आदित्य ठाकरे यात्रा में राहुल गांधी के साथ चले थे जबकि यात्रा के हरियाणा पहुंचने पर डीएमके की सांसद कनिमोझी भी यात्रा में राहुल गांधी के साथ नज़र आई थीं। 

2024 Lok Sabha elections Rahul Gandhi opposition prime minister candidate - Satya Hindi

कमलनाथ का यह बयान इसलिए अहम है क्योंकि साल 2024 का लोकसभा चुनाव नजदीक है। उससे पहले 2023 में 10 राज्यों में विधानसभा के चुनाव भी होने हैं। एनडीए को चुनौती देने के लिए विपक्षी दलों के एक बड़े फ्रंट की जरूरत की बात बार-बार कही जा रही है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के एनडीए छोड़कर महागठबंधन के साथ आने के बाद इस चर्चा ने जोर पकड़ा है। नीतीश कुमार कह चुके हैं कि कोई थर्ड फ्रंट नहीं बनेगा बल्कि एक मेन फ्रंट बनेगा और तभी बीजेपी व एनडीए को हराया जा सकता है। 

नीतीश ने कहा था कि अगर अधिकतर विपक्षी पार्टियां एकजुट हो जाएंगी तो 2024 में हमें भारी बहुमत से जीत मिलेगी। 

2024 Lok Sabha elections Rahul Gandhi opposition prime minister candidate - Satya Hindi

पिछले 8 सालों में कांग्रेस का प्रदर्शन भले ही कई राज्यों और लगातार दो लोकसभा चुनावों में ख़राब रहा हो लेकिन विपक्षी दलों में कांग्रेस ही एक ऐसी पार्टी है जिसका सभी राज्यों में मज़बूत संगठन है और तीन राज्यों में अपने दम पर सरकार भी। इसलिए कांग्रेस को 2023 के चुनावी राज्यों में बेहतर प्रदर्शन करने के साथ ही 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी दलों का मजबूत फ्रंट भी बनाना होगा तभी वह एनडीए को चुनौती दे पाएगी। 

कांग्रेस नेताओं के राहुल गांधी के 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार होने के दावे के बाद सवाल यह भी है कि क्या पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक सहित अन्य विपक्षी दल क्या इसके लिए तैयार होंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें