loader

पैगंबर पर टिप्पणीः क्या बीजेपी ने सचमुच कोई गाइडलाइन बनाई है?

क्या बीजेपी ने अपने प्रवक्ताओं और टीवी पैनलिस्ट के लिए नई गाइडलाइंस तय की हैं। भारतीय मीडिया ने मंगलवार को सूत्रों के हवाले से एक खबर चलाई कि बीजेपी ने इस तरह की कुछ शर्तें और नियम अपने प्रवक्ताओं और पैनलिस्टों को बताएं हैं। अगर यह खबर सही है तो बीजेपी को आधिकारिक रूप से इसे बताना चाहिए, ताकी टीवी चैनल वाले भी कुछ सीख सकें और अगर यह खबर गलत है तो बीजेपी को इसका खंडन करना चाहिए। कुल मिलाकर बीजेपी की अपने प्रवक्ताओं और पैनलिस्टों के लिए की गई कवायद से कम से उस नुकसान की भरपाई नहीं हो सकेगी, जो अब तक नूपुर शर्मा और नवीन जिन्दल की टिप्पणियों से हो चुकी है।
बहरहाल, सूत्रों के मुताबिक सत्तारूढ़ बीजेपी ने अपने प्रवक्ताओं और नेताओं के टीवी बहस में शामिल होने के लिए नई सीमाएं तय की हैं। बीजेपी सूत्रों का कहना है कि केवल अधिकृत प्रवक्ता और पैनलिस्ट ही टीवी डिबेट में भाग लेंगे और उन्हें चैनल मीडिया सेल के जरिए संपर्क साधेंगे।

ताजा ख़बरें
प्रवक्ताओं को किसी भी धर्म, उसके प्रतीकों या धार्मिक शख्सियतों की आलोचना करने के खिलाफ चेतावनी दी गई है। गरमागरम बहसों के दौरान बीजेपी के पैनलिस्टों को सीमा पार करने से मना किया गया है। सूत्रों का कहना है कि उनसे अपनी भाषा को संयमित रखने और उत्तेजित न होने का आग्रह किया गया है। उन्होंने कहा कि बिना उकसावे के वे पार्टी की विचारधारा या आदर्शों का उल्लंघन नहीं कर सकते।

बीजेपी ने अपने प्रवक्ताओं को आदेश दिया है कि किसी भी चैनल पर आने से पहले पहले टीवी पर चर्चा के विषय की जांच करें, उसकी तैयारी करें और उस पर पार्टी की लाइन का पता लगाएं।

सूत्रों ने कहा, पार्टी के प्रवक्ता और पैनलिस्ट को एजेंडे पर रहना चाहिए। उन्हें किसी जाल में नहीं फंसना चाहिए। बीजेपी यह भी चाहती है कि उसके प्रवक्ता सरकार के समाज कल्याण कार्यों पर ध्यान दें।
बीजेपी के दो नेताओं नूपुर शर्मा और नवीन जिन्दल की टिप्पणियों की कम से कम 15 देशों से निंदा के बाद बीजेपी और केंद्र सरकार संकट में घिर गई है। नूपुर शर्मा ने लगभग 10 दिन पहले एक टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर मोहम्मद साहब के विवाह के संबंध में गलत टिप्पणी की थी। बाद में उन्होंने ट्विटर पर कहा कि उनकी टिप्पणी भगवान शिव के खिलाफ किए गए कथित "अपमान" के जवाब में थी। एक अन्य पार्टी नेता, नवीन जिंदल को पैगंबर के बारे में एक ट्वीट पोस्ट करने के लिए निष्कासित कर दिया गया है, जिसे बाद में उन्होंने हटा दिया था। सरकार ने टिप्पणियों को "फ्रिंज तत्वों के विचार" बता कर खुद को दूर कर लिया। बाद में दोनों पर एक्शन लिया गया। 
राजनीति से और खबरें

बीजेपी को सफाई भी देनी पड़ी। रविवार को उसने कहा कि वह किसी भी संप्रदाय या धर्म का अपमान या अपमान करने वाली किसी भी विचारधारा के खिलाफ है। वह ऐसे लोगों या दर्शन को बढ़ावा नहीं देती है। लेकिन इस बयान से बात नहीं बनी। कई मुस्लिम देशों ने भारत के दूतों को तलब किया और भारत से माफी की मांग की है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें