loader
असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा

झारखंडः सरमा ने कहा - कांग्रेस के पुराने मित्र संपर्क में रहते हैं

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने रविवार को कहा कि कांग्रेस में लंबे समय तक रहने की वजह से उस पार्टी के पुराने मित्र लगातार संपर्क में रहते हैं। झारखंड में जेएमएम-कांग्रेस सरकार गिराने के आरोपों को नजरन्दाज करते हुए सरमा ने यह बात कही। कांग्रेस ने सरमा पर झारखंड सरकार को गिराने की कोशिश का आरोप लगाया है। सरमा ने कहा कि कांग्रेस नेता उनके पुराने दोस्त हैं और इसमें इससे ज्यादा पढ़ने के लिए ज्यादा कुछ नहीं है।
उन्होंने संवाददाताओं से कहा, कांग्रेस नेता मुझसे पुरानी दोस्ती की वजह से संपर्क में रहते हैं। मैं उस पार्टी में 20 साल से अधिक समय से था। अगर वे यहां आते हैं तो वे मुझसे मिलते हैं और मैं उनसे नई दिल्ली में भी मिलता हूं।

ताजा ख़बरें
सरमा, जिन्होंने 2015 में बीजेपी में प्रवेश किया, ने यह बयान तब दिया जब कांग्रेस ने दावा किया कि पश्चिम बंगाल के हावड़ा में नकदी की बरामदगी में गिरफ्तार झारखंड के तीन विधायक असम के मुख्यमंत्री के संपर्क में थे। 
इसके बाद झारखंड के कांग्रेस विधायक अनूप सिंह ने सरकार को पत्र लिखकर आरोप लगाया कि उन तीन विधायकों ने उन्हें कोलकाता आने और वहां से गुवाहाटी जाकर हिमंत बिस्वा सरमा से मुलाकात कराने को कहा था। उन्हें ऑफर किया गया था कि बीजेपी समर्थित सरकार बनने पर उन्हें मंत्री पद और दस करोड़ रुपये मिलेंगे। सरमा का बयान इस आरोप के बाद आया है।

कोलकाता में एक गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए, पश्चिम बंगाल पुलिस ने शनिवार शाम को एक एसयूवी को रोका था, जिसमें कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और नमन बिक्सल कोंगारी यात्रा कर रहे थे, और कथित तौर पर वाहन में भारी मात्रा में कैश मिला। रात भर पूछताछ के बाद पुलिस ने रविवार दोपहर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। 
राजनीति से और खबरें
कांग्रेस ने दावा किया कि बीजेपी झारखंड में झामुमो-कांग्रेस गठबंधन सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है। हर विधायक को 10 करोड़ रुपये की पेशकश कर रही है, साथ ही मंत्री पद का वादा भी कर रही है।

इस पर पुलिस में शिकायत दर्ज कराने के बाद झारखंड कांग्रेस विधायक कुमार जयमंगल ने दावा किया, राजेश कच्छप और नमन बिक्सल कोंगारी मुझे कोलकाता जाने के लिए कह रहे थे और प्रति विधायक 10 करोड़ रुपये देने का वादा कर रहे थे। इफरान अंसारी और राजेश कच्छप मुझे ले जाना चाहते थे। कोलकाता से गुवाहाटी जहां उनके अनुसार असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा के साथ एक बैठक तय की गई थी। 
महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार गिरने से पहले, अब मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के बागी विधायक गुवाहाटी के एक होटल में लंबे समय तक रहे थे, जो कथित तौर पर हिमंत बिस्वा सरमा के नेतृत्व वाली असम सरकार के संरक्षण में था। जिस दिन महाराष्ट्र के विधायक शहर पहुंचे थे, उस दिन सरमा खुद लग्जरी होटल गए थे, जबकि राज्य के वरिष्ठ मंत्री और पुलिस अधिकारी अपने प्रवास के दौरान नियमित रूप से होटल में देखे जाते थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें