loader

केसीआर ने उद्धव से की मुलाकात, पवार से भी मिले

प्रधानमंत्री को अदूरदर्शी और बीजेपी पर नफरत की राजनीति का आरोप लगाने वाले तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव आज अपने राजनीतिक मिशन (बीजेपी विरोधी फ्रंट) पर महाराष्ट्र पहुंच गए। इस मिशन को राव के 2024 के आम चुनाव में बीजेपी से मुकाबला करने के लिए बीजेपी विरोधी मोर्चा बनाने के प्रयासों के हिस्से के रूप में देखा जा रहा है। इस सिलसिले में वो क्षेत्रीय दलों के नेताओं के साथ बैठक करते रहे हैं।इस सिलसिले में मुंबई से जो तस्वीर सामने आई है, उसमें तेलंगाना सीएम केसीआर महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे के साथ एक गार्डन में बैठे नजर आ रहे हैं। इस मुलाकात में शिवसेना प्रमुख के छोटे बेटे तेजस ठाकरे भी नजर आ रहे हैं। 
ताजा ख़बरें
एक वीडियो क्लिप सामने आई है, जिसमें ठाकरे को केसीआर के साथ आए तेलंगाना राष्ट्र समिति के नेताओं का अभिवादन करते नजर आ रहे हैं। क्लिप में शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत भी नजर आ रहे हैं। बीजेपी विरोधी रुख के लिए मशहूर अभिनेता से नेता बने प्रकाश राज भी बैठक में नजर आए।

केसीआर के कार्यालय ने बताया कि राव को ठाकरे ने अपने घर पर दोपहर को लंच पर आमंत्रित किया था। केसीआर ने मुंबई में एनसीपी चीफ शरद पवार से भी मुलाकात की।  मुंबई में जगह-जगह तेलंगाना के मुख्यमंत्री के स्वागत में पोस्टर लगाए गए हैं। पोस्टरों में केसीआर, ठाकरे, पवार और शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे की तस्वीरें हैं।

सीएम राव के दफ्तर ने कहा है कि उद्धव ठाकरे ने उन्हें पिछले सप्ताह फोन किया और उन्हें मुंबई आमंत्रित किया और बीजेपी की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ उनके संघर्ष को पूरा समर्थन देने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि ठाकरे ने कहा था कि केसीआर ने देश को विभाजनकारी ताकतों से बचाने के लिए सही समय पर आवाज उठाई है। राव के साथ उनकी बेटी और विधान परिषद सदस्य के. कविता और पार्टी सांसद जे. संतोष कुमार, रंजीत रेड्डी और बी बी पाटिल भी गए हैं।शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' ने आज इस संबंध में विशेष टिप्पणी प्रकाशित की है। उसमें कहा गया है कि ठाकरे और केसीआर के बीच बैठक बीजेपी के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर राजनीतिक एकता को मजबूत करेगी। केसीआर केंद्र की बीजेपी सरकार पर राज्यों के साथ सौतेले व्यवहार का आरोप लगा चुके हैं। 

राजनीति से और खबरें
पार्टी सूत्रों ने बताया कि आज की बैठकों के केंद्र में राज्यों के हितों की रक्षा के लिए मिलकर साथ काम करने की रणनीति तैयार करना होगा। केसीआर कह चुके हैं कि राज्यों के अधिकार क्षेत्र और शक्तियों की रक्षा के लिए एक नए संविधान पर बहस की जरूरत है।
मुंबई की इन दो महत्वपूर्ण बैठकों के बाद केसीआर बेंगलुरु में जनता दल (सेक्युलर) के अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा से मिलने की भी योजना है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी कह चुकी हैं कि वो राव से मिलने के लिए जल्द ही हैदराबाद आएंगी। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और द्रविड़ मुनेत्र कड़गम के प्रमुख एम. के. स्टालिन ने हाल ही में ममता बनर्जी के साथ अपनी हालिया बातचीत के बाद विपक्षी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की दिल्ली में इस तरह की बैठक की योजना के बारे में ट्वीट किया था। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें