loader

विपक्षी एकता: 2024 के चुनाव से पहले ममता की दिल्ली के लिए उड़ान!

ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल से दिल्ली के लिए उड़ान भरने के फिराक में हैं! वह आज दिल्ली आएँगी। कहा जा रहा है कि उनका निशाना 2024 का लोकसभा चुनाव है। संकेत हैं कि वह दो साल बाद होने वाले चुनाव के लिए विपक्ष को एकजुट करने के प्रयास में हैं। 

दिल्ली की उनकी यात्रा को इसलिए भी अगले लोकसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है कि हफ़्ते भर पहले ही ममता ने कहा है कि जब तक बीजेपी पूरे देश से साफ़ नहीं हो जाती है तब तक 'खेला' जारी रहेगा। उन्होंने तब विपक्षी दलों को एकजुट करने का आह्वान किया था। इसमें भी संदेश साफ़ था। 2024 में मोदी के सामने ख़ुद को चुनौती के रूप में पेश करना। बंगाल चुनाव में 'खेला होबे' शब्द काफ़ी प्रचलित हुआ था। 

ताज़ा ख़बरें

हाल ही में विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री मोदी की पार्टी बीजेपी को जबर्दस्त पटखनी देने के बाद से ममता उत्साह से लबरेज हैं। 

चुनाव में जीत पर मुख्यमंत्री बनने के बाद ममता बनर्जी की दिल्ली की उनकी यह पहली यात्रा होगी। उनका एक घोषित उद्देश्य 2024 के आम चुनाव से पहले विपक्षी दलों को एकजुट करने के प्रयास को शुरू करना है। कहा जा रहा है कि ममता ने 28 जुलाई को दोपहर 3 बजे विपक्षी नेताओं को चाय बुलाया है और उन सभी नेताओं के मिलने की उम्मीद है। रिपोर्ट है कि यह मुलाक़ात संभवतः ममता के भतीजे व तृणमूल कांग्रेस के सांसद और पार्टी महासचिव अभिषेक बनर्जी के घर पर होगी।

विपक्षी दलों को एकजुट करने की शुरुआत क़रीब हफ़्ते भर पहले ही एक कार्यक्रम में हो गई थी। तब 21 जुलाई को ममता बनर्जी शहीद दिवस रैली को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने एक साथ उत्तर प्रदेश, दिल्ली और गुजरात समेत कई राज्यों में वर्चुअल रैली को संबोधित किया था। 

ममता के कार्यक्रम में पी चिदंबरम, शरद पवार, दिग्विजय सिंह, एनसीपी की सुप्रिया सुले, डीएमके के तिरुचि सिवा, टीआरएस के केशव राव, आरजेडी के मनोज झा, शिवसेना की प्रियंका चतुर्वेदी, सपा के राम गोपाल यादव व जया बच्चन, आप के संजय सिंह और अकाली दल के बलविंदर सिंह भी शामिल थे।

ममता ने शहीद दिवस वाले दिन अपने भाषण में कहा था, “हमारे पास बर्बाद करने के लिए वक़्त नहीं है। कम से कम हम लोग साथ बैठ सकते हैं और 27, 28 या 29 जुलाई को विपक्षी नेताओं की बैठक बुलाई जानी चाहिए। हमारे पास ढाई से तीन साल का वक़्त है लेकिन हमें मिलकर लड़ना होगा और अपने लोकतंत्र को बचाना होगा।” 

ममता बनर्जी के इस प्रयास में कांग्रेस नेता भी शामिल हुए थे और अब कांग्रेस के एक ट्वीट को भी उस एकजुटता से जोड़कर देखा जा रहा है। कांग्रेस ने ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी को पेगासस से निशाना बनाए जाने की आलोचना करते हुए उनकी एक तसवीर को ट्वीट किया है। इस ट्वीट को तृणमूल नेता डेरेक ओ ब्रायन ने रिट्वीट करते हुए टिप्पणी में लिखा है- 'खेला होबे'। तृणमूल कांग्रेस 'खेला होबे' को बीजेपी के ख़िलाफ़ चुनावी नारे के तौर पर इस्तेमाल करती रही है। 

तृणमूल सांसद सौगाता राय ने कांग्रेस के ट्वीट का स्वागत किया और कहा कि यह कांग्रेस की तरफ़ से एकता का संकेत है। उन्होंने कहा कि 'इसे विपक्षी दलों के बीच संबंधों को मज़बूत करना चाहिए।'

बता दें कि हाल के दिनों में ऐसी विपक्षी एकता को लेकर तब से हलचल है जब चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर शरद पवार से लेकर गाँधी परिवार तक से मुलाक़ात की है। प्रशांत किशोर ने ही ममता बनर्जी के लिए पश्चिम बंगाल चुनाव में रणनीति तैयार की थी। बाद में वह कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ भी जुड़े। लेकिन विपक्षी एकता होगी या नहीं और होगी तो इसका कैसा स्वरूप होगा इसमें ममता की इस दिल्ली यात्रा पर भी काफ़ी कुछ निर्भर करेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें