loader

केंद्रीय कैबिनेट का विस्तार जल्द!, मोदी-शाह और नड्डा ने की 5 घंटे तक बैठक 

उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों के सामने आ रहे विधानसभा चुनावों को देखते हुए बीजेपी संगठन और केंद्र सरकार ने सियासी कसरत शुरू कर दी है। शुक्रवार शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के बीच 5 घंटे तक बैठक चली। यह बैठक प्रधानमंत्री के आवास पर हुई और इतनी लंबी बैठक होने के पीछे केंद्रीय कैबिनेट के विस्तार को अहम वज़ह माना जा रहा है। 

इसके अलावा भी प्रधानमंत्री मोदी ने बीते दिनों कई केंद्रीय मंत्रियों से अलग-अलग मुलाक़ात की है और उनके विभागों की समीक्षा की गई है। माना जा रहा है कि इसी महीने केंद्रीय कैबिनेट का विस्तार हो सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

पहले विस्तार का इंतजार 

मई, 2019 में दूसरी बार सरकार बनने के बाद से दो साल का वक़्त गुजर चुका है और अब तक केंद्रीय कैबिनेट का विस्तार नहीं हुआ है। लेकिन पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों को देखते हुए इसकी ज़रूरत समझी जा रही है और मोदी सरकार और संगठन इस काम में जुटे हुए हैं। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में तीन बार कैबिनेट का विस्तार किया गया था। 

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में बीजेपी के दो बड़े सहयोगी छिटक कर जा चुके हैं। ये सहयोगी शिव सेना और शिरोमणि अकाली दल हैं। इनके मंत्रियों के इस्तीफ़े के अलावा भी दो दर्जन से ज़्यादा पद खाली पड़े हैं और कुछ वरिष्ठ मंत्रियों के पास ज़्यादा विभाग हैं।

जगन की ओर से ना!

मोदी सरकार नए सहयोगियों की तलाश में आंध्र में सरकार चला रही वाईएसआर कांग्रेस पर डोरे डाल चुकी है लेकिन शायद पार्टी के मुखिया जगन मोहन रेड्डी अभी इसके लिए तैयार नहीं हैं। इसके अलावा बीजेपी के सहयोगी दल जेडीयू के दो सांसदों को मंत्री बनाया जा सकता है। उत्तर प्रदेश के अपना दल (एस) को भी कैबिनेट में जगह दी जा सकती है। अपना दल (एस) की नेता अनुप्रिया पटेल ने दो दिन पहले ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाक़ात की थी। 

Modi Cabinet expansion 2021 - Satya Hindi

यूपी को लेकर संघ गंभीर 

हाल ही में पश्चिम बंगाल में मिली जबरदस्त हार के बाद बीजेपी के मातृ संगठन आरएसएस ने उत्तर प्रदेश के चुनाव को लेकर बेहद गंभीरता से तैयारियां शुरू कर दी हैं। संघ के आला पदाधिकारियों ने लखनऊ का दौरा किया है और दिल्ली में संघ की तीन दिन तक चली बैठक में भी उत्तर प्रदेश का चुनाव छाया रहा। 

यूपी को मिलेगी तरजीह 

2022 की शुरुआत में पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इनमें उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, मणिपुर और गोवा शामिल हैं। उसके बाद साल के आख़िर में हिमाचल प्रदेश और गुजरात में भी विधानसभा के चुनाव होने हैं। बीजेपी और संघ जानते हैं कि इन राज्यों में फ़तेह हासिल करने के बाद ही 2024 का रास्ता आसान होगा। 

राजनीति से और ख़बरें

इनमें भी उत्तर प्रदेश काफी अहम है। ऐसे में उत्तर प्रदेश को कैबिनेट विस्तार में तरजीह दी जा सकती है और पश्चिमी उत्तर प्रदेश जहां किसान आंदोलन के कारण बीजेपी मुश्किलों का सामना कर रही है, वहां के कुछ चेहरों को कैबिनेट विस्तार में जगह मिल सकती है। पार्टी आलाकमान सहित मोदी और शाह योगी आदित्यनाथ के साथ भी बैठक कर काफी मंथन कर चुके हैं। 

ये चेहरे हो सकते हैं शामिल

जिन चेहरों के कैबिनेट में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही हैं, उनमें ज्योतिरादित्य सिंधिया, असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के अलावा एलजेपी सांसद चिराग पासवान को मंत्री बनाए जाने की संभावना है। बंगाल से भी कुछ बीजेपी नेताओं को कैबिनेट में जगह मिल सकती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें