loader

2024 के चुनाव में नहीं करेंगे किसी से गठबंधन: केजरीवाल

आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि 2024 के आम चुनाव में उनकी पार्टी किसी भी दल के साथ गठबंधन नहीं करेगी। केजरीवाल रविवार को नागपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। केजरीवाल ने कहा कि वह हिंदुस्तान के 130 करोड़ लोगों के साथ गठबंधन करेंगे।

केजरीवाल ने कहा कि वह कभी भी कई राजनीतिक दलों के गठबंधन की सियासत को नहीं समझ सके हैं और किसी तरह के गठबंधन के लिए तैयार भी नहीं हैं।

पंजाब के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को मिली जीत के बाद अरविंद केजरीवाल ने कई चुनावी राज्यों में अपनी सक्रियता बढ़ाई है। बीते 2 महीनों में उन्होंने गुजरात से लेकर हिमाचल प्रदेश और कर्नाटक से लेकर राजस्थान का दौरा किया है। 

ताज़ा ख़बरें

केजरीवाल की कुछ दिन पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ भी बातचीत हुई थी। तब यह कहा गया था कि कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए से हटकर ममता बनर्जी और केजरीवाल कोई नया गठबंधन तैयार करने के बारे में सोच रहे हैं।

ममता और केसीआर

ममता बनर्जी के अलावा तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव यानी केसीआर भी यूपीए से हटकर विपक्षी दलों का एक गठबंधन तैयार करना चाहते हैं। ममता बनर्जी और केसीआर कई बार विपक्षी दलों के नेताओं से इस संबंध में मुलाकात भी कर चुके हैं। 

No grand alliance for 2024 election arvind Kejriwal - Satya Hindi

लेकिन अरविंद केजरीवाल ने यह कहकर कि वह 2024 के चुनाव के लिए कोई गठबंधन नहीं करेंगे, ममता और केसीआर की कोशिशों को झटका दिया है।

पंजाब में सरकार बनने के बाद वहां की पुलिस के द्वारा दिल्ली-एनसीआर में विपक्षी दलों के नेताओं पर हो रही कार्रवाई को लेकर अरविंद केजरीवाल आलोचना का सामना कर रहे हैं। केजरीवाल ने आम चुनाव के लिए गठबंधन की बात को नकार कर यह साफ कर दिया है कि आने वाले दिनों में आम आदमी पार्टी अकेले ही अपने सियासी सफर पर आगे बढ़ेगी। 

राजनीति से और खबरें

कांग्रेस का विकल्प बनने की चाहत

केजरीवाल की सियासी महत्वाकांक्षाएं किसी से छिपी नहीं हैं। केजरीवाल ने लगातार तीसरी बार दिल्ली में सरकार बनाकर अपनी सियासी क्षमता को साबित भी किया है। यह कहा जाता है कि अरविंद केजरीवाल आम आदमी पार्टी को कांग्रेस का विकल्प बनाना चाहते हैं। लेकिन क्या वह ऐसा कर पाएंगे और 2024 के चुनाव तक आम आदमी पार्टी क्या राष्ट्रीय स्तर पर इतनी मजबूत हो पाएगी कि वह अकेले दम पर चुनाव लड़कर कुछ असर पैदा कर सके, यह देखने वाली बात होगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें