loader

आरसीपी सिंह बीजेपी में शामिल हुए या नहीं? जानिए हकीकत

केंद्रीय मंत्री राम चंद्र प्रसाद सिंह यानी आरसीपी सिंह सोमवार को बीजेपी में शामिल हुए या नहीं, इस पर सोमवार को असमंजस की स्थिति बनी रही। कहा जा रहा है कि बीजेपी तेलंगाना के एक ट्वीट के कारण सियासी गलियारों में उनके बीजेपी में शामिल होने की चर्चा होने लगी। तेलंगाना बीजेपी ने 2 जुलाई को एक तसवीर साझा करते हुए ट्वीट किया था, 'आरसीपी सिंह के बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल होने के लिए एयरपोर्ट पर आगमन पर भव्य स्वागत किया गया।'

इस ट्वीट के बाद जब उनके बीजेपी में शामिल होने के कयास लगाए जाने लगे तो मीडिया रिपोर्टों में सफाई आई कि आरसीपी सिंह बीजेपी में शामिल नहीं हुए हैं और वह हैदराबाद में एक कमेटी की बैठक में शामिल होने पहुंचे थे। बता दें कि कई दिनों से उनके बीजेपी में शामिल होने की अटकलें लग रही थीं। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस बार आरसीपी सिंह को राज्यसभा चुनाव में टिकट नहीं दिया था। 

नीतीश के करीबी थे आरसीपी 

आईएएस और आईआरएस रहे आरसीपी सिंह लंबे वक्त तक नीतीश के साथ रहे। जब नीतीश कुमार अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में रेल मंत्री बने थे, आरसीपी सिंह उनके निजी सहयोगी बने थे। उस समय से वे लगातार उनके साथ काम करते रहे। नीतीश कुमार जब 2005 में मुख्यमंत्री बने, आरसीपी सिंह प्रधान सचिव बनाए गए थे। नीतीश ने उन्हें जेडीयू का अध्यक्ष भी बनाया था। 

ताज़ा ख़बरें

आरसीपी सिंह नीतीश कुमार की ही कुर्मी बिरादरी से आते हैं और उन्होंने बीए की पढ़ाई पटना कॉलेज जबकि एमए जेएनयू से किया है। जेडीयू का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने के बाद आरसीपी सिंह को बीजेपी से समन्वय का काम दिया गया था। आरसीपी सिंह मोदी सरकार में जेडीयू की ओर से अकेले मंत्री थे। 

लेकिन ऐसा आरोप था कि उनकी बीजेपी से नजदीकियां बढ़ रही हैं। आरसीपी सिंह के बीजेपी में आने से बीजेपी को बिहार में कुर्मी-कोईरी बिरादरी के वोटों का फायदा मिल सकता है। 

राजनीति से और खबरें
दूसरी ओर, बिहार की सियासत में चर्चा इस बात की भी है कि जेडीयू और आरजेडी एक बार फिर से साथ आ सकते हैं लेकिन बीजेपी ने कहा है कि नीतीश कुमार ही 5 साल तक मुख्यमंत्री रहेंगे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें