loader

यूपी में दूसरे चरण का और उत्तराखंड व गोवा में थम गया चुनाव प्रचार

उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण के लिए और उत्तराखंड और गोवा में चुनाव प्रचार आज थम गया। उत्तर प्रदेश में 14 फ़रवरी को दूसरे चरण में 55 सीटों पर मतदान होना है जबकि पहले चरण में 58 सीटों पर वोटिंग हुई थी। पहले चरण में धीमी रफ्तार के बाद मतदान तेज हुआ था और साठ फीसद वोटिंग हुई थी। उत्तराखंड और गोवा में एक ही चरण में मतदान होना है। 

उत्तराखंड की 70 विधानसभा सीटों पर कुल 632 उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे। यहाँ कोई भी पार्टी एक के बाद एक लगातार दूसरा चुनाव जीतने में कामयाब नहीं हुई है। वोटों की गिनती 10 मार्च को होगी। 2017 के पिछले विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने 56 सीटों पर जीत हासिल की थी, जबकि कांग्रेस ने 11 सीटें हासिल की थीं। 

ताज़ा ख़बरें

गोवा में 40 सीटों के लिए इस बार 332 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। प्रमोद सावंत बीजेपी के मुख्यमंत्री पद का चेहरा बने हुए हैं और आप ने अमित पालेकर को अपना सीएम उम्मीदवार चुना है। हालाँकि कांग्रेस ने किसी भी नेता को मुख्यमंत्री पद के चेहरे के रूप में पेश नहीं किया है। इस बार राज्य में मुक़ाबला रोचक रहने की संभावना है क्योंकि बीजेपी और कांग्रेस के साथ ही आम आदमी पार्टी भी पूरे जोर शोर से मैदान में उतरी है।

उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण के मतदान के लिए उत्तर प्रदेश में बीजेपी और समाजवादी पार्टी के गठबंधन ने पूरा जोर लगाया। इसी तरह उत्तराखंड और गोवा में भी बीजेपी और कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंकी। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज उत्तराखंड में चुनाव प्रचार किया। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी खटीमा, हल्द्वानी और श्रीनगर में चुनावी जनसभाओं को संबोधित किया।

उत्तराखंड और गोवा में बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला है। उत्तराखंड में जहां कुछ सीटों पर आम आदमी पार्टी और बीएसपी मजबूती से चुनाव लड़ रहे हैं वहीं गोवा में भी आम आदमी पार्टी और टीएमसी चुनाव मैदान में हैं।

गोवा में कांग्रेस ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी के साथ गठबंधन किया है और बीते दिनों में दूसरे दलों के कई नेता कांग्रेस में शामिल हुए हैं। गोवा में विधानसभा की 40 सीटें हैं और पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ा दल बनी थी लेकिन बीजेपी ने जोड़-तोड़ कर सरकार बना ली थी। इस बार गोवा में बीजेपी के पास मनोहर पर्रिकर जैसा बड़ा नेता नहीं है, ऐसे में क्या वह वहां फिर से सरकार बना पाएगी इस पर सभी की नजरें लगी हुई हैं। 

UP second phase election campaign end - Satya Hindi
लालकुआं से चुनाव लड़ रहे हैं हरीश रावत।
UP second phase election campaign end - Satya Hindi
खटीमा से मैदान में हैं पुष्कर सिंह धामी।

दूसरी ओर, उत्तराखंड में तमाम चुनावी सर्वे बात को दिखा रहे हैं कि बीजेपी और कांग्रेस के बीच बेहद कड़ा मुकाबला है। बीजेपी ने राज्य में कुछ महीनों के अंदर लगातार मुख्यमंत्री बदले हैं और यह सवाल वहां की सियासत में उसे परेशान कर रहा है। उत्तराखंड में मुकाबला बेहद नजदीक और बेहद कड़ा रहेगा, यह बात तमाम राजनीतिक विश्लेषक भी कह रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में पहले चरण में जाट बहुल इलाकों में आरएलडी को बढ़त मिलने की बात कही जा रही है हालांकि बीजेपी का कहना है कि जाट समुदाय इस बार भी उसके साथ खड़ा रहा है।
उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण में सहारनपुर, बिजनौर, मुरादाबाद, संभल, रामपुर, अमरोहा, बदायूं, बरेली व शाहजहांपुर में मतदान होगा। इन जिलों में मुसलिम मतदाता बड़ी संख्या में हैं। पहले चरण के मतदान के दौरान कई जगहों पर ईवीएम के खराब होने की शिकायत भी सामने आई थी। 
राजनीति से और खबरें

यूपी में ये दिग्गज हैं मैदान में 

उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण के चुनाव में योगी सरकार में मंत्री रहे डॉ. धर्म सिंह सैनी नकुड़ सीट से, पूर्व मंत्री मोहम्मद आजम खां रामपुर से, उनके बेटे अब्दुल्ला आजम स्वार सीट से चुनाव मैदान में हैं। संभल से पूर्व मंत्री इकबाल महमूद व अमरोहा से पूर्व मंत्री महबूब अली भी चुनाव लड़ रहे हैं। बरेली कैंट से पूर्व मेयर सुप्रिया ऐरन चुनाव लड़ रही हैं।

इसके अलावा शाहजहांपुर सीट से वित्त मंत्री सुरेश खन्ना, बिलासपुर से जलशक्ति राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख, बदायूं से नगर विकास राज्य मंत्री महेश चन्द्र गुप्ता, चंदौसी से राज्यमंत्री गुलाब देवी चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें