loader

पंजाब: छापे के बाद आढ़तियों का आन्दोलन, मंडियाँ रहेंगी बंद

पंजाब के आढ़तियों ने 22 से 25 दिसंबर तक राज्य की सभी कृषि मंडियों को बंद रखने का एलान किया है। राज्य के शीर्ष आढ़तियों के घरों, दफ़्तरों और दूसरे ठिकानों पर आय कर विभाग के छापों के ख़िलाफ़ यह फ़ैसला किया गया है। कृषि क़ानूनों के विरुद्ध आन्दोलन कर रहे किसान संगठनों ने इस बंद का समर्थन करने का एलान किया है।

'इंडियन एक्सप्रेस' ने ख़बर दी है कि आयकर विभाग ने पंजाब के शीर्ष 14 आढ़तियों को नोटिस दिया है। इसके अलावा 18-19 दिसंबर को छह के परिसरों पर छापे मारे गए। इन छापों को लेकर भारतीय किसान यूनियन के नेताओं ने कड़ी नाराज़गी ज़ाहिर की है। 

ख़ास ख़बरें

आढ़तियों के शीर्ष संगठन फ़ेडरेशन ऑफ़ आढ़तिया एसोसिएशन्स ऑफ़ पंजाब ने आरोप लगाया है कि आढ़तियों को आयकर नोटिस और छापों के जरिए निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि वे कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ हैं और किसानों के आन्दोलन का भरपूर समर्थन कर रहे हैं। राज्य की कृषि मंडियों को 22-25 दिसंबर तक बंद रखा जाएगा और इस दौरान आयकर विभाग के अफ़सरों का घेराव किया जाएगा। फ़ेडरेशन की बैठक होगी और इसमें आन्दोलन की रूपरेखा तय की जाएगी।

सिंघु बॉर्डर पर आन्दोलन कर रहे किसान संगठनों ने आढ़तियों का समर्थन करते हुए कहा है कि आयकर विभाग के छापों के ख़िलाफ़ आन्दोलन किया जाएगा। उन्होंने सोमवार को 24 घंटे की भूख हड़ताल का भी एलान किया।

पंजाब किसान मोर्चा के रुल्दू सिंह मन्सा ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से कहा, "हम आढ़तियों के साथ हैं, हम आयकर विभाग के अफ़सरों का घेराव करेंगे, उन्होंने छापे के दौरान जो कुछ भी कब्जा किया है, वह किसानों को वापस करना होगा। कृषि क़ानूनों से आढ़तिए भी बर्बाद होंगे, लिहाज़ा, वे भी हमारे साथ हैं। उन पर दबाव डालने के लिए ही उनके यहाँ आयकर के छापे डाले गए हैं।"

इसके साथ ही आढ़तियों ने किसान आन्दोलन में और सक्रिय भूमिका निभाने की तैयारी की है। फ़ेडरेशन ऑफ़ आढ़तिया एसोसिएशन्स ऑफ़ पंजाब के उपाध्यक्ष जतिंदर गर्ग ने कहा है कि पाँच सदस्यों की एक कमिटी गठित की जाएगी जो किसान आन्दोलन के साथ समन्वय करेगी।

कमेटी आन्दोलन में ज़्यादा से ज़्यादा अहम भूमिका निभाने के लिए फ़ैसले लेगी। संगठन के लोग किसान संगठनों के नेताओं से सोमवार या मंगलवार को मिलेंगे।

फ़ेडरेशन के मोगा प्रमुख अमरजीत सिंह ब्रार ने कहा कि पंजाब में 400 से ज़्यादा कृषि मंडियाँ हैं, 40,000 से अधिक आढ़तिए हैं, जिसमें से 28,000 से ज़्यादा के पास लाइसेंस है।

adhaitya agitation after income tax raids on adhatiyas in punjab - Satya Hindi

फ़ेडरेशन ऑफ़ आढ़तिया एसोसिएशन्स ऑफ़ पंजाब के अध्यक्ष विजय कालरा ने कहा कि उनके और उपाध्यक्ष के घरों और दफ़्तरों पर 18 दिसंबर को छापे मारे गए। आयकर विभाग के लोगों ने उनके पेट्रोल पंप पर भी छापा मारा। इस छापामारी अभियान में आयकर अधिकारियों के अलावा पुलिस वाले और 50 से अधिक सीआरपीएफ के जवान शामिल थे। उन्होंने काग़ज़ात मांगे, जो उन्हें दे दिए गए। इसके बाद उन्होंने दफ़्तर की चाबी मांगी, चाबी नहीं मिलने पर ताला तोड़ दिया गया।

इसके अलावा पवन गोयल, जसविंदर सिंह राणा, मनजिंदर सिंह वालिया, हरजिंदर सिंह लड्डा और दूसरे सदस्यों के ठिकानों पर भी छापे मारे गए।

फ़ेडरेशन ने कहा है कि यदि आयकर विभाग ने उन पर जुर्माना लगाया तो संगठन चंदा कर उसका भुगतान कर देगी। लेकिन किसान आन्दोलन को समर्थन देना बंद नहीं होगा। उन्हें पहले से अधिक मदद दी जाएगी और इसके लिए ज़रूरी उपाय किए जाएंगे।

वीडियो चर्चा में देखिए, किसानों को कम आँकना क्यों ख़तरनाक?

बता दें कि कृषि क़ानूनों पर सरकार का कहना है कि वह आढ़तियों जैसे बिचौलियों को हटाना चाहती है ताकि किसान सीधे बड़ी कंपनियों को उचित कीमत पर अपने उत्पाद बेच सकें। लेकिन किसानों का कहना है कि आढ़तियों की महत्वपूर्ण भूमिका है, उन्हें उनसे मदद मिलती है। उनके न रहने से किसान बड़ी कंपनियों पर ज़्यादा निर्भर होंगे और अपने उत्पाद औने पौने दाम पर बेचने को मज़बूर होंगे।

कृषि क़ानून में यह प्रावधान भी है कि निजी क्षेत्र में मंडियाँ खोलने की इज़ाज़त होगी, जहां किसानों को कर नहीं देना होगा। किसानों का कहना है कि इससे मौजूदा मंडियां बेकार हो जाएंगी। आढ़तिए इन मंडियों से जुड़े हुए हैं और उनके हाथ से कामकाज निकल जाएगा, वे नई मंडियों में काम नहीं कर पाएंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें