loader

अमरिंदर बोले- सेक्युलरिज्म पर बात करना बंद करें हरीश रावत

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत के बयान पर पलटवार किया है। अमरिंदर ने कहा था कि अगर कृषि क़ानूनों का मसला हल हो जाता है तो वे पंजाब चुनाव में बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ सकते हैं। इस पर रावत ने कहा था कि अमरिंदर सिंह ने अपने भीतर के सेक्युलर अमरिंदर सिंह को मार दिया है। 

अमरिंदर सिंह के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर पूर्व मुख्यमंत्री का पक्ष रखा है। ट्वीट में अमरिंदर सिंह ने कहा, “हरीश रावत सेक्युलरिज्म के बारे में बात करना बंद करें। इस बात को नहीं भूलना चाहिए कि कांग्रेस ने 14 साल तक बीजेपी में रहे नवजोत सिंह सिद्धू को पार्टी में शामिल किया।” 

अमरिंदर सिंह ने सवाल उठाया है कि नाना पटोले और रेवनाथ रेड्डी कहां से आए हैं, क्या वे आरएसएस से नहीं आए हैं। इसके अलावा परगट सिंह चार साल तक अकाली दल के साथ थे। नाना पटोले महाराष्ट्र और रेवनाथ रेड्डी तेलंगाना कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। 

ताज़ा ख़बरें
अमरिंदर ने जब इस्तीफ़ा दिया था तो उन्होंने कांग्रेस नेतृत्व पर उन्हें अपमानित करने का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि उन्हें बिना बताए बार-बार विधायकों की बैठक बुलाई जा रही है। कांग्रेस नेतृत्व ने अमरिंदर की जगह पर दलित सिख समुदाय से आने वाले चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया है। लेकिन बड़बोले नेता नवजोत सिंह सिद्धू के तेवरों के कारण पार्टी परेशान है। 
Amarinder Singh attack on harish rawat  - Satya Hindi

अमरिंदर सिंह ने सवाल उठाया है कि कांग्रेस महाराष्ट्र में शिव सेना के साथ क्या कर रही है। उन्होंने पूछा है कि क्या यह राजनीतिक अवसरवाद नहीं है। 

तजुर्बेकार नेता अमरिंदर सिंह ने रावत को निशाने पर लेते हुए पूछा है, “आप मुझ पर यह आरोप लगा रहे हैं कि मैं चार-साढ़े चार साल तक अकाली दल की मदद करता रहा। ऐसा होता तो क्या मैं उनके ख़िलाफ़ 10 साल तक अदालतों में मुक़दमे लड़ता और मैं क्यों कांग्रेस के लिए पंजाब में 2017 के बाद हुए सारे चुनाव जीता?”

अमरिंदर सिंह ने कहा है कि कांग्रेस ने पंजाब में उन पर भरोसा न कर और पंजाब में कांग्रेस को एक अस्थिर व्यक्ति सिद्धू के हाथ में सौंपकर ख़ुद का नुक़सान किया है। अमरिंदर सिंह ने सिद्धू पर हमला बोला और कहा कि सिद्धू केवल ख़ुद के लिए ही ईमानदार हैं। 

पंजाब से और ख़बरें

अमरिंदर सिंह पर हमले तेज़

बीते दिनों में अमरिंदर सिंह पर सियासी वार करने के लिए कांग्रेस ने कई नेताओं को मैदान में उतारा है। हरीश रावत के अलावा पंजाब के कैबिनेट मंत्री परगट सिंह और सुखजिंदर सिंह रंधावा ने भी अमरिंदर सिंह पर हमले तेज़ किए हैं। परगट सिंह ने कहा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह की बीजेपी और अकाली दल के साथ मिलीभगत है और उन्हें अपना एजेंडा बीजेपी से मिलता था। इसी तरह सुखजिंदर सिंह रंधावा ने भी अमरिंदर सिंह पर तमाम सवाल खड़े किए। 

ख़ैर, अमरिंदर सिंह अब जब अलग पार्टी बनाने का और किसान आंदोलन का मसला हल होने पर बीजेपी के साथ जाने का एलान कर चुके हैं तो वह कांग्रेस की जीत की संभावनाओं को थोड़ा कमजोर तो करेंगे ही। इसके अलावा सिद्धू की बयानबाज़ी से भी पार्टी को पंजाब चुनाव में सियासी नुक़सान हो सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें