loader

पंजाब को मिलेगा नया अध्यक्ष, अमरिंदर बने रहेंगे सीएम: रावत 

लंबे वक़्त तक कांग्रेस आलाकमान के लिए सिरदर्द बना रहा पंजाब कांग्रेस का झगड़ा शायद जल्द ही ख़त्म हो सकता है। कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने कहा है कि पार्टी जल्द ही सुनील जाखड़ की जगह किसी दूसरे नेता को प्रदेश अध्यक्ष के पद पर नियुक्त करेगी और उसके बाद अमरिंदर कैबिनेट में भी कुछ नए चेहरों को शामिल किया जाएगा। रावत ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि ऐसा 2-3 दिन के अंदर हो जाएगा। 

रावत ने कहा कि किसी ने भी मुख्यमंत्री को बदलने की मांग नहीं की है, कुछ मुद्दे थे जिन्हें जल्द ही सुलझा लिया जाएगा। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रावत ने कहा कि उन्हें भरोसा था कि सब कुछ 8 जुलाई से पहले ठीक हो जाएगा। 

ताज़ा ख़बरें

सोनिया से मिले थे कैप्टन 

पंजाब कांग्रेस में चल रही कलह के बीच मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कुछ दिन पहले कांग्रेस आलाकमान के दरबार में हाज़िरी लगाई थी। पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ हुई मुलाक़ात के बाद कैप्टन ने कहा था कि उन्हें आलाकमान का हर फ़ैसला मंजूर है। 

कैप्टन ने यह भी कहा था कि पार्टी पंजाब में चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है। पंजाब में फरवरी-मार्च, 2022 में विधानसभा के चुनाव होने हैं। 

हरीश रावत ने उम्मीद जताई कि नए प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा और कैबिनेट में बदलाव के बाद पंजाब कांग्रेस में सब कुछ ठीक होगा और सभी की नाराज़गी दूर होगी।

रावत ने बाग़ी नेता नवजोत सिंह सिद्धू का नाम लेते हुए कहा कि सिद्धू ने अपनी बंदूक को सही जगह मोड़ दिया है। उनका इशारा सिद्धू के हालिया ट्वीट्स को लेकर था, जिनमें सिद्धू ने अमरिंदर सिंह के बजाए पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और उनके बेटे सुखबीर सिंह बादल पर हमला बोला है। 

ताज़ा ख़बरें

रावत ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से फ़ोन पर कहा कि कैबिनेट में वाल्मीकि समुदाय से भी एक चेहरे को शामिल किया जाएगा। पंजाब में इस बार दलित सीएम या डिप्टी सीएम की मांग तेज़ है और इसे देखते हुए माना जा रहा है कि कैप्टन अपनी कैबिनेट में दलित समुदाय के लोगों को भी जगह देंगे। इसके साथ ही पिछड़े समाज को भी जगह मिलने की बात कही जा रही है। 

पंजाब से और ख़बरें

‘हिंदू अध्यक्ष’ का तीर 

सिद्धू की हाल ही में राहुल और प्रियंका से हुई मुलाक़ात के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने समर्थकों को लंच पर बुलाया था और इसके बाद यह बात सामने आई थी कि पंजाब में कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी पर हिंदू समुदाय से ही किसी को नियुक्त किया जाना चाहिए। ज़ाहिर तौर पर कैप्टन समर्थकों की ओर से ‘हिंदू अध्यक्ष’ का यह तीर सिद्धू की इस पद पर ताजपोशी रोकने के लिए छोड़ा गया था। 

इस बात की उम्मीद कम है कि नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया जाएगा क्योंकि अमरिंदर सिंह सिद्धू को अध्यक्ष बनाने का विरोध कर चुके हैं। सिद्धू फिर से अमरिंदर कैबिनेट में आएंगे या नहीं, इस पर सभी की निगाहें रहेंगी।

हिंदू-सिख की जोड़ी रहेगी बेहतर

सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाना पार्टी के लिए भी मुफ़ीद सौदा नहीं होगा। पंजाब में 40 फ़ीसदी आबादी हिंदू है और मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष दोनों अहम पदों पर सिख समुदाय के शख़्स के काबिज होने से हिंदू समुदाय के साथ-साथ सिख मतदाताओं के बीच भी सियासी नुक़सान हो सकता है। जबकि हिंदू और सिख का कॉम्बिनेशन पार्टी के लिए बेहतर साबित होगा। 

पंजाब के झगड़े को ख़त्म करने के लिए आलाकमान ने जो तीन सदस्यों का पैनल बनाया था, उसने अपनी सिफ़ारिश में कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू को कोई अहम पद दिया जाना चाहिए। देखना होगा कि सिद्धू को कांग्रेस आलाकमान की ओर से क्या नई जिम्मेदारी मिलती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें