loader

काबुल: गुरूद्वारे में घुसे थे हथियारबंद लड़ाके, चन्नी, बादल ने की निंदा

काबुल में स्थित गुरूद्वारे में हथियारबंद लड़ाकों के जबरन घुसने की पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने निंदा की है। हथियारबंद ये लड़ाके काबुल के करते परवान इलाक़े में स्थित गुरूद्वारा दशमेश पिता में घुस गए थे। 

उस दौरान गुरूद्वारे में सिख समुदाय के 20 लोग मौजूद थे। हथियारबंदों के गुरूद्वारे में घुसने की यह वारदात बीते शुक्रवार को दिन में 2 बजे हुई थी। इनके बारे में कहा गया था कि ये तालिबान की विशेष यूनिट के लड़ाके हैं। 

चन्नी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की है कि वह विदेश मंत्रालय को निर्देश दें कि वह सिखों और उनके धार्मिक स्थलों की सुरक्षा के लिए इस मामले को अफ़ग़ानिस्तान की हुक़ूमत के सामने उठाए। 

ताज़ा ख़बरें

जबकि सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि भारत को इस मामले को अंतरराष्ट्रीय फ़ोरम में उठाना चाहिए। पंजाब के पूर्व उप मुख्यमंत्री बादल ने कहा कि किसी भी देश को तालिबान को मान्यता नहीं देनी चाहिए। 

इंडियन वर्ल्ड फ़ोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चंडोक ने कहा था कि हथियारबंद लड़ाकों ने वहां मौजूद सिख समुदाय के लोगों को डराया-धमकाया था। चंडोक का कहना है कि सिख समुदाय के लोगों ने फ़ोन कर अपने हालात के बारे में उन्हें बताया है और यह बेहद परेशान करने वाला है। 

पंजाब से और ख़बरें

चंडोक ने बताया था कि धमकाने के अलावा हथियारबंद लोगों ने इस जगह को लेकर अपशब्द भी कहे थे और वे गुरूद्वारे के साथ ही इससे सटे हुए स्कूल के बाहर भी लगातार गश्त कर रहे हैं। 

10 दिनों में दूसरा वाकया 

बीते 10 दिनों में यह ऐसा दूसरा वाकया है। 5 अक्टूबर को भी हथियारबंद लोग गुरूद्वारे के अंदर घुस गए थे और उन्होंने गुरूद्वारे के परिसर में तोड़फोड़ की थी। इन लोगों ने सीसीटीवी कैमरों को तोड़ दिया था और गुरूद्वारे में तैनात सुरक्षा कर्मियों को भी धमकाया था। तब भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि यह घटना भारत के लिए ही नहीं बल्कि दुनिया भर के लिए चिंता का सबब है। 

शुक्रवार को ही कंधार की शिया मसजिद में बम धमाके हुए थे, जिसमें 47 लोग मारे गए थे और 70 लोग घायल हो गए थे। ये धमाके जुमे की नमाज़ के दौरान मसजिद में हुए थे।

अमेरिकी और नाटो सेनाओं के अफ़ग़ानिस्तान छोड़ने से पहले तालिबान ने भरोसा दिलाया था कि वह मुल्क़ के सभी समुदायों की हिफ़ाजत करेगा। लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें