loader

किसानों ने कंगना रनौत का किया घेराव, माफ़ी माँगने को कहा

फ़िल्म अभिनेत्री कंगना रनौत एक बार फिर ख़बरों में हैं। कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ साल भर से आन्दोलन कर रहे किसानों ने पंजाब के कीरतपुर साहिब में उनका घेराव किया और उनके ख़िलाफ़ नारे लगाए। लेकिन कंगना की सफाई देने पर उन्होंने घेराव हटा लिया और उन्हें जाने दिया।

ख़बरों के मुताबिक़, कंगना रनौत जब उस इलाक़े से जा रही थीं तो प्रदर्शनकारियों ने उनकी गाड़ी को घेर लिया, उनके ख़िलाफ़ नारेबाजी की और उनसे माफ़ी माँगने को कहा। 

बता दें कि कंगना रनौत शुरू से ही किसान आन्दोलन के ख़िलाफ़ तो हैं ही, उन्होंने इन किसानों को 'आतंकवादी', 'खालिस्तानी और 'देशद्रोही' तक कहा है। उन्होंने कुछ दिन पहले यहां तक कह दिया था कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 'इन सिखों को मच्छरों की तरह कुचल दिया था।' इसके बाद उनके ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत कराई गई और मामला दर्ज किया गया।

ख़ास ख़बरें

शुक्रवार की वारदात की जानकारी देते हुए कंगना ने इंस्टाग्राम पर कहा कि 'किसानों ने उनके साथ गाली- गलौज की और उन्हें जान से मार देने की धमकी दी।' 

उन्होंने इंस्टाग्राम स्टोरीज में इसके आगे कहा,

खुले आम लोगों को पीट-पीट कर मार दिया जाता है। यदि मेरे साथ सुरक्षा कर्मी नहीं होते तो मेरा भी यही हाल होता।


कंगना रनौत, फ़िल्म अभिनेत्री

उन्होंने इसके आगे कहा, "यहाँ की स्थिति अविश्वसनीय है। क्या मैं राजनेता हूँ? मेरे साथ ऐसा क्यों किया जा रहा है?"

मामला क्या है?

लेकिन 'एनडीटीवी' के स्थानीय पत्रकार ने कुछ और कहा। उन्होंने कहा कि भीड़ ने कंगना रनौत के ख़िलाफ़ नारेबाजी की। कंगना गाड़ी से बाहर आईं और वहाँ मौजूद महिला प्रदर्शनकारियों से कहा कि उन्होंने पहले जो कुछ कहा था, वह शाहीन बाग के आन्दोलनकारियों के लिए था, किसानो के नहीं। इसके बाद वह गाडी में बैठ गईं और लोगों ने उन्हें जाने दिया।

इस टेलीविजऩ चैनल पर जो वोडियो दिखाया गया है, उसमें कंगना रनौत लोगों से बात करती हुई, हंसती हुई, खुश और हाथ हिलाती हुई दिख रही हैं। यह वीडियो देखने से ऐसा नहीं लगता है कि लोगों ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी होगी। 

क्या कहा था कंगना ने?

याद दिला दें कि पिछले हफ़्ते कंगना रनौत ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में लिखा था, 'खालिस्तानी आतंकवादी आज सरकार की बांहें मरोड़ सकते हैं... लेकिन हमें एक महिला को नहीं भूलना चाहिए। वह अकेली महिला प्रधानमंत्री थी, जिसने इन्हें अपनी जूतियों के नीचे कुचल दिया था। ... अपनी जान की कीमत पर उन्हें मच्छरों की तरह कुचल दिया... लेकिन देश को टुकड़े-टुकड़े नहीं होने दिया... उनकी मृत्यु के दशकों बाद भी...उनका नाम सुनकर कांपते हैं... उन्हें उनके जैसे गुरुओं की ज़रूरत है।'

कंगना के इस बयान पर दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने कहा था कि कंगना रनौत ने जानबूझ कर ऐसा किया है और पूरे सिख समुदाय को अपमानित किया है। इसके अध्यक्ष और अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने भी इस अभिनेत्री के ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत की थी। 

दिल्ली के मंदिर मार्ग थाने में दर्ज कराई गई शिकायत में मनजिंदर सिंह ने कहा था कि कंगना रनौत ने सिखों के ख़िलाफ़ असम्मानजक, नफ़रत फैलाने वाली और अपमानजनक बातें कही हैं।
कंगना रनौत ने पहले जो कुछ कहा है, उस पर क्या सोचते हैं वरिष्ठ पत्रकार आलोक जोशी, देखें यह वीडियो। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें