loader
फ़्लैग मार्च निकालती पुलिस। @Ludhiana_Police

पत्रकार ने ख़बर के लिए कर दी गुरू ग्रंथ साहिब की बेअदबी

लुधियाना में ऐसी घटना हुई है, जिससे पंजाब का माहौल ख़राब होने का डर था। लुधियाना के जोधेवाला में सिखों के धार्मिक ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी हुई है। लेकिन लुधियाना पुलिस ने मुस्तैदी दिखाते हुए दोषी को पकड़ लिया। हैरानी की बात है कि दोषी वही व्यक्ति निकला जिसने इस बात की सूचना दी थी। 

लुधियाना के पुलिस कमिश्नर ने बताया है कि 2 नवंबर को पुलिस को सरदार बलदेव सिंह ने सूचना दी थी कि उनके मोहल्ले के रहने वाले सेवा सिंह ने उन्हें बताया कि उसने दो लोगों को देखा, वे गुरू ग्रंथ साहिब की बेअदबी कर मोटरसाइकिल से भाग गए। उन्होंने बताया कि सूचना पर पुलिस ने मुक़दमा दर्ज कर जांच शुरू की। पुलिस कमिश्नर ने कहा कि जब इलाक़े के सीसीटीवी कैमरों की फ़ुटेज को खंगाला तो ऐसी किसी मोटरसाइकिल का पता ही नहीं चला। 

ताज़ा ख़बरें

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि जब सेवा सिंह से इस बारे में पूछताछ की गई तो उसने अपनी ग़लती मान ली और कहा कि उसने चर्चा में आने के लिए यह काम किया है और उसे इस पर पछतावा है। कमिश्नर ने बताया, ‘सेवा सिंह किसी स्थानीय न्यूज़ चैनल में काम करता है और उसकी ख़बरें चैनल में नहीं लग रही थीं। इसने एक बड़ी ख़बर बनाने और ख़ुद को हाईलाइट करने के लिए इस घटना को अंजाम दिया।’ उन्होंने कहा कि पुलिस सेवा सिंह की रिमांड लेगी और उसे सजा दिलाने की पूरी कोशिश करेगी। 

उन्होंने लोगों से अपील है कि वे शांति बनाकर रखें और पुलिस को सहयोग दें। पुलिस ने शहर के कई इलाक़ों में फ़्लैग मार्च भी निकाला। 

बरगाड़ी कांड 

यह घटना चार साल पहले हुए बरगाड़ी कांड की याद दिलाती है। अक्टूबर, 2015 में गांव बरगाड़ी के गुरुद्वारा साहिब के बाहर श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी का मामला सामने आया था। इस घटना के बाद सिख समाज ने पंजाब में सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन किया था। साथ ही विदेशों में रहने वाले सिखों ने भी इस घटना को लेकर रोष का इजहार किया था। 

घटना के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे सिखों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। धरने के दौरान पुलिस की गोलीबारी में दो लोगों की मौत हो गई थी और इसके बाद यह मामला बेहद तूल पकड़ गया था। 

2017 के विधानसभा चुनाव में यह बड़ा मुद्दा बना था और इस घटना को लेकर सिख समुदाय तब की शिरोमणि अकाली दल सरकार से ख़ासा नाराज़ था। 2017 में अकाली दल की सत्ता से विदाई हो गई थी। इस मामले में डेरा सच्चा सौदा के अनुयायियों को गिरफ़्तार किया गया था।

पंजाब से और ख़बरें

आईएसआई की नापाक कोशिश

बीते कुछ समय से पंजाब को अशांत करने की नापाक कोशिशें तेज हुई हैं और इसके पीछे पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी इंटर सर्विसेज़ इंटेलिजेंस यानी आईएसआई का हाथ बताया जाता है। पाकिस्तान में सक्रिय आतंकवादी संगठन खालिस्तान ज़िंदाबाद फ़ोर्स (केज़ेडएफ़) ने बीते साल सितंबर में पंजाब में ड्रोन से हथियार गिराए थे। पुलिस ने आठ ड्रोन से क़रीब 80 किलोग्राम हथियार गिराए जाने का दावा किया था। पंजाब के पुलिस प्रमुख दिनकर गुप्ता ने कहा था कि पाकिस्तानी सेना और आईएसआई केज़ेडएफ़ का समर्थन कर रही है। 

Guru Granth Sahib insult in Ludhiana accused held - Satya Hindi
बरगाड़ी कांड के दोषियों को सजा दिलाने के लिए पंजाब में ख़ूब प्रदर्शन हुए थे।
जैसे ही यह घटना सामने आई तो इसमें भी सिख समाज को लगा कि आईएसआई का हाथ इस मामले में हो सकता है। लेकिन लुधियाना पुलिस का कहना है कि युवक ने अपना दोष कबूल कर लिया है कि उसी ने इस वारदात को अंजाम दिया है। पुलिस को युवक से पूरी तफ़्तीश करनी चाहिए कि जो कारण वह बता रहा है, वही है या ये पंजाब के माहौल को ख़राब करने की कोई कोशिश है। धार्मिक रूप से संवेदनशील पंजाब में इस तरह की हरक़तों का जबरदस्त विरोध होता है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें