loader

क्या पंजाब चुनाव में होगा लखीमपुर की घटना का सियासी असर?

लखीमपुर खीरी में चार किसानों सहित 8 लोगों की मौत हो गई। इस घटना ने उत्तर प्रदेश का राजनीतिक तापमान तो बढ़ाया ही, इस चुनावी राज्य में इस घटना का बड़ा असर होने से भी इनकार नहीं किया जा सकता। 

लेकिन एक और राज्य है, जहां लखीमपुर की इस घटना का सियासी असर हो सकता है। ये राज्य है पंजाब। उत्तर प्रदेश की ही तरह पंजाब में भी 5 महीने के अंदर विधानसभा चुनाव होने हैं। 

पंजाब उन ग़िने-चुने राज्यों में है, जहां कांग्रेस सत्ता में है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि कांग्रेस ने किसानों की इस लड़ाई में पूरी ताक़त से उनका साथ दिया है। लेकिन कांग्रेस को भी पंजाब में अपनी पार्टी के भीतर चल रहे झगड़ों के बीच शायद लखीमपुर की इस घटना से बड़ी उम्मीद है। 

ताज़ा ख़बरें
लखीमपुर की इस घटना में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की जबरदस्त सक्रियता रही, यह स्वाभाविक भी था क्योंकि उत्तर प्रदेश में पार्टी की प्रभारी और इस राज्य में एकमात्र बड़ा चेहरा होने के नाते उन्हें इस मुद्दे पर फ्रंटफुट पर रहना ही था। 
lakhimpur kheri violence and punjab election 2022 - Satya Hindi

लेकिन यहां ध्यान देना होगा कि राहुल गांधी लखीमपुर जाते वक़्त पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को अपने साथ ले गए हैं। इसके पीछे भी बड़ी वजह है। किसान आंदोलन की शुरुआत पंजाब से हुई थी और इस लड़ाई में बड़ी भागीदारी सिखों की है।

लखीमपुर की इस घटना में मारे गए चारों किसान सिख ही हैं। इसलिए कांग्रेस ने शायद इस मामले में पूरी ताक़त के साथ मैदान में उतरने का फ़ैसला किया, जिससे उत्तर प्रदेश के साथ ही पंजाब में भी इसका सीधा संदेश जाए कि कांग्रेस किसानों की इस लड़ाई में उनके साथ खड़ी है।

lakhimpur kheri violence and punjab election 2022 - Satya Hindi
लखीमपुर की घटना के विरोध में पंजाब में बीजेपी सरकार का पुतला फूंकते कांग्रेसी।

चन्नी, सिद्धू का क़दम 

यह भी याद रखना होगा कि लखीमपुर की इस घटना को लेकर चरणजीत सिंह चन्नी तुरंत केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने दिल्ली आ गए थे। पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देने वाले नवजोत सिंह सिद्धू भी इस मामले में सड़क पर उतरे और एलान किया कि बुधवार तक प्रियंका गांधी को रिहा नहीं किया जाता है तो पंजाब कांग्रेस लखीमपुर की ओर मार्च करेगी। कांग्रेस की ओर से यह भी पंजाब में एक संदेश देने की कोशिश थी।  

आम आदमी पार्टी की सक्रियता

कांग्रेस के अलावा एक और दल है, जिसने लखीमपुर की इस घटना में ख़ुद को किसानों का सबसे बड़ा हमदर्द साबित करने की कोशिश की। यह दल है आम आदमी पार्टी। आम आदमी पार्टी को उम्मीद है कि इस बार वह पंजाब में अपनी सरकार बना लेगी। 

lakhimpur kheri violence and punjab election 2022 - Satya Hindi
यह पार्टी उत्तर प्रदेश में अकेले दम पर चुनाव मैदान में उतर रही है। पार्टी ने सोशल मीडिया पर यह दिखाने की कोशिश की कि उत्तर प्रदेश में पार्टी के प्रभारी संजय सिंह प्रियंका गांधी से ज़्यादा ताक़त के साथ लखीमपुर की इस घटना में किसानों को इंसाफ़ दिलाने के लिए लड़े। 
पंजाब से और ख़बरें

चूंकि लखीमपुर की घटना में मारे गए चारों किसान सिख थे, इसलिए आम आदमी पार्टी ने पंजाब से अपने विधायकों, नेताओं को लखीमपुर भेज दिया। पार्टी की कोशिश थी कि इस मामले में कांग्रेस से ज़्यादा सक्रियता दिखाकर पंजाब और उत्तर प्रदेश में यही संदेश देना है कि वह किसानों की सबसे बड़ी (कांग्रेस से ज़्यादा) ख़ैरख़्वाह है। 

जहां तक बीजेपी की बात है, उसे इस घटना से उत्तर प्रदेश के अलावा पंजाब में भी सियासी नुक़सान होने की संभावना से क़तई इनकार नहीं किया जा सकता। पंजाब में बीजेपी के पास खोने के लिए कुछ है भी नहीं।
देखना होगा कि किसानों का सबसे बड़ा हितैषी होने की इस लड़ाई में आगे कौन निकलता है, कांग्रेस या आम आदमी पार्टी और उन्हें पंजाब के विधानसभा चुनाव में इसका कितना सियासी फ़ायदा मिलता है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें