loader

पंजाब सरकार में फेरबदल, अमरिंदर के पाँच मंत्री बाहर

कांग्रेस पार्टी ने पंजाब कैबिनेट में बड़ा फेरबदल करते हुए सात नए मंत्रियों को सरकार में शामिल करने का फ़ैसला किया है। इसके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के पाँच समर्थकों को सरकार से बाहर करने पर मुहर लग चुकी है। 

याद दिला दें कि बीते दिनों कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया, जिसके बाद चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया गया।

अमरिंदर सरकार के जिन मंत्रियों को बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है, वे हैं- स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह, राजस्व मंत्री गुरप्रीत सिंह कांगर, उद्योग मंत्री सुंदर श्याम अरोड़ा, सामाजिक कल्याण मंत्री संधू सिंह धरमसोट और खेलकूद मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी।

नए मंत्री

जिन सात लोगों को सरकार में शामिल किए जाने पर फ़ैसला हुआ है, उनमें से ज़्यादातर मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के विश्वस्त हैं। वे हैं- राजकुमार वर्क, कुलजीत नागरा, परगट सिंह, अमरिेंदर सिंह, राजा वारिंग, राणा गुरजीत और सुरजीत सिंह धीमान। रविवार शाम साढ़े चार बजे इन्हें पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई जाएगी।

ख़ास ख़बरें
पंजाब कांग्रेस ने यह भी तय किया है कि ब्रह्म मोहिंदर, मनप्रीत बादल, सुखबिंदर सरकारिया, तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा, विजय इंदर सिंगला, अरुणा चौधरी, रज़िया सुलतान और भूषण आशु को पद पर बने रहने दिया जाएगा। 
इसके पहले चन्नी दिल्ली गए थे, जहां केंद्रीय नेतृत्व के साथ उनकी लंबी बैठकें हुईं और हर नाम पर अलग- अलग चर्चा की गई। इन बैठकों में पंजाब प्रभारी हरीश रावत और अजय माकन भी मौजूद थे।

नए चेहरे

समझा जाता है कि राहुल गांधी ने हर नाम पर हरी झंडी दिखाई और उसके बाद चन्नी चंडीगढ़ लौट गए।  इसके पहले चन्नी ने मुख्यमंत्री बनते ही पूर्व मुख्यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के प्रमुख सचिव और विशेष प्रमुख सचिव को बदल दिया था। 

इनवेस्‍टमेंट प्रमोशन में प्रिंसिपल सेक्रेटरी हुसन लाल और खाद्य मामलों में सचिव राहुल तिवारी को उनकी जगह दी गई थी।

इनके अलावा रवीन ठुकराल ने मीडिया सलाहकार का पद छोड़ दिया। राजनीतिक सलाहकर कैप्टन संदीप संधू, क़ानूनी सलाहकार एडवोकेट जनरल अतुल नंदा ने भी त्यागपत्र दे दिया था। 

चरणजीत सिंह चन्नी 2007 से पंजाब विधानसभा के सदस्य और वह रामदसिया सिख समुदाय से संबंधित है। यह पंजाब का दलित समुदाय है और कांग्रेस ने पंजाब में दलित समुदाय को साधने तथा सभी वर्गों को साथ लेने की कोशिश करते हुए चन्नी को यह दायित्व सौंपा है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें