loader

पंजाब सरकार: कोरोना सर्टिफिकेट नहीं तो वेतन नहीं

कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच पंजाब सरकार ने एक पहल की है, जिसका अनुकरण दूसरे राज्य भी कर सकते हैं। इससे यह भी पता चलता है कि राज्य सरकार कोरोना की रोकथाम के लिए कितनी गंभीर है।

पंजाब सरकार ने कहा है कि जो कर्मचारी कोरोना टीकाकरण सर्टिफिकेट पेश नहीं करेंगे, उनका वेतन रोक लिया जाएगा। इसके साथ ही कर्मचारियों से कहा गया है कि वे अपना कोरोना टीका सर्टिफिकेट राज्य सरकार की वेबसाइट पर अपलोड कर दें। जिन कर्मचारियों ने एक ही खुराक ली है, वे उसी खुराक की सर्टिफिकेट अपलोड करें, यह छूट दी गई है। पर जो सर्टिफिकेट अपलोड नहीं करेंगे, उनका वेतन रोक लिया जाएगा। उन्हें भुगतान तब तक नहीं किया जाएगा जब तक वे सर्टिफिकेट अपलोड नहीं करेंगे। 

पंजाब से और खबरें

कर्मचारियों को वैक्‍सीनेशन सर्टिफिकेट पंजाब सरकार की आईएचआरएमएस (इंटीग्रेटेड ह्यूमन रीसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम) की वेबसाइट पर अपलोड करना होगा। यह सॉफ्टवेयर, वेतन भुगतान और रिटायरमेंट बैनेफिट निकासी को व्‍यवस्थित करता है।

लोगों को टीका लगाने केलिए प्रेरित करने को लेकर पंजाब सरकार की यह सख्‍त नीति ऐसे समय सामने आई है जब कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले बढ़ रहे हैं। इस वेरिएंट को बेहद संक्रामक माना जा रहा है।

punjab makes corona vaccination certificate mandatory to fight coronavirus - Satya Hindi

इस बीच देश में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट के 213 मामले सामने आ गए हैं। इसमें से 90 लोग पूरी तरीके से स्वस्थ होकर अस्पताल से घर जा चुके हैं, 123 मामले अभी सक्रिय हैं। दिल्ली और महाराष्ट्र में आधे से अधिक संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं।

दिल्ली में 57 ओमिक्रॉन के मामलों के अलावा महाराष्ट्र में 54, तेलंगाना में 24, कर्नाटक में 19, राजस्थान में 18, केरल में 15, गुजरात में 14, जम्मू-कश्मीर में तीन मामले रिपोर्ट किए गए हैं। इसी तरह ओडिशा और उत्तर प्रदेश में दो-दो, आंध्र प्रदेश, चंडीगढ़, लद्दाख, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में एक-एक मामला सामने आया है।

punjab makes corona vaccination certificate mandatory to fight coronavirus - Satya Hindi

पाबंदी

बृहन्मुंबई महानगरपालिका ने मंगलवार को सार्वजनिक समारोहों के लिए नए सख्त आदेश जारी किए हैं।

बीएमसी द्वारा जारी किए गए नए दिशानिर्देशों के मुताबिक़ शहर में पार्टी के आयोजकों के लिए 200 से अधिक लोगों को आमंत्रित किए जाने पर अधिकारियों से लिखित अनुमति लेना अनिवार्य होगा। खुले स्थानों वाले आयोजनों में 6 फीट की दूरी बनाए रखना अनिवार्य होगा। 

इसके अलावा क्षमता के केवल 25 प्रतिशत लोगों को उपस्थित रहने की अनुमति दी जाएगी। बंद स्थानों में 6 फीट की दूरी को सख्ती से बनाए रखना होगा और 50 प्रतिशत क्षमता तक ही लोगों को उपस्थित रहने की अनुमति होगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें