loader

एक्शन में कांग्रेस, बैठक में नहीं आए पायलट व अन्य के ख़िलाफ़ कार्रवाई का प्रस्ताव पास

सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों के बग़ावती तेवरों के बाद कांग्रेस आलाकमान भी सख़्त होता दिख रहा है। कांग्रेस विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट और ग़ैर-हाज़िर रहे विधायकों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने के संबंध में प्रस्ताव पास किया गया है। 

इसके अलावा पार्टी बैठक से ग़ैर-हाजिर रहे विधायकों को कारण बताओ नोटिस भी जारी करने जा रही है। यह भी ख़बर है कि बैठक में मौजूद सभी विधायकों ने एकमत से विधायक दल के नेता के रूप में अशोक गहलोत का ही समर्थन किया है। 

सोमवार को हुई बैठक से भी सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक ग़ैर-हाजिर रहे थे। सोमवार को गहलोत खेमे की ओर से दावा किया गया था कि उनके पास 109 विधायकों का समर्थन है जबकि उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के गुट का कहना है कि यह दावा झूठा है। ख़बरों के मुताबिक़, पायलट समर्थकों ने विधानसभा में फ़्लोर टेस्ट कराने की मांग की है। 

पायलट के समर्थक विधायक मुकेश भाकर के ट्वीट ने कहानी बहुत हद तक साफ कर दी है कि पायलट झुकने के मूड में नहीं हैं। भाकर ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘जिंदा हो तो जिंदा नजर आना जरूरी है, उसूलों पर आंच आए तो टकराना जरूरी है।’ 

Congress called another meeting of MLAs pilot rigid - Satya Hindi

पायलट समर्थकों का वीडियो

सोमवार रात को पायलट के समर्थकों का एक वीडियो भी सामने आया जिसमें लगभग 15 विधायक दिखाई दिए। हालांकि इस वीडियो में पायलट नहीं दिखे हैं। बताया गया है कि यह वीडियो हरियाणा के मानेसर में स्थित किसी रिसॉर्ट का है। पायलट गुट के 30 विधायकों के समर्थन के दावे के उलट कांग्रेस का कहना है कि यह आंकड़ा 10 से 12 विधायकों का है। 

पायलट को मनाने की कोशिश

सोमवार को कांग्रेस आलाकमान ने पायलट को मनाने की पुरजोर कोशिश की थी। पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल, महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल, पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने भी पायलट से बात की थी। 
ताज़ा ख़बरें

अशोक गहलोत को झटका 

उधर, उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट की बग़ावत के कारण परेशान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को एक और झटका लगा है। राज्य सरकार को समर्थन दे रही भारतीय ट्राइबल पार्टी ने अपने दोनों विधायकों को पत्र जारी कर कहा है कि वे सदन में फ़्लोर टेस्ट के लिए वोटिंग के दौरान तटस्थ रहें। ऐसे में यह गहलोत सरकार के लिए एक नई मुश्किल का सबब बन सकता है क्योंकि बीजेपी के कई नेताओं ने कहा है कि गहलोत सरकार अल्पमत में है और उन्होंने फ्लोर टेस्ट कराने की मांग की है। 

पार्टी ने विधायकों को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर आप पार्टी के व्हिप की अनदेखी करते पाए जाएंगे तो पार्टी की ओर से अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। 

इस मुद्दे पर देखिए, वरिष्ठ पत्रकारों की चर्चा। 

कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने सोमवार शाम को कहा था, 'हम सचिन पायलट और सभी विधायकों से बैठक में आने का और राजनीतिक हालात पर चर्चा करने का अनुरोध करते हैं।' 

सुरजेवाला ने कहा कि अगर किसी के किसी के साथ मतभेद हैं तो उसे उन बातों को खुलकर रखना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘सोनिया गांधी और राहुल गांधी हर एक व्यक्ति की बात को सुनने और विवाद का हल निकालने के लिए तैयार हैं। आइए, बैठकर बातचीत कीजिए, हम समस्या का निदान निकाल लेंगे।’ 

राजस्थान से और ख़बरें

क्या है राजस्थान का सियासी गणित 

राजस्थान में विधानसभा की 200 सीटें हैं। कांग्रेस के पास 107 विधायक हैं। इन 107 में से 6 विधायक बीएसपी के भी हैं, ये सभी विधायक पाला बदल कर पिछले साल कांग्रेस में शामिल हुए थे। कांग्रेस के पास 11 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन है। इसके अलावा मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के दो और राष्ट्रीय लोकदल के एक विधायक का समर्थन कांग्रेस के पास है। निर्दलीय और छोटी पार्टियों के कुल 14 विधायकों के समर्थन के कारण 121 विधायकों का समर्थन कांग्रेस को हासिल है। पहले यह आंकड़ा 123 था लेकिन भारतीय ट्राइबल पार्टी की ओर से जारी पत्र के बाद यह आंकड़ा 121 रह गया है। 

दूसरी ओर, बीजेपी के पास 72 विधायक हैं और उसे राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के तीन और दो निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल है। यह संख्या 77 बैठती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें