loader

राजस्थान: पायलट गुट के विधायक का इस्तीफ़ा, फिर शुरू होगा संग्राम?

केंद्रीय स्तर पर G-23 गुट और पंजाब में पार्टी नेताओं के बीच चल रहे घमासान से जूझ रही कांग्रेस के लिए राजस्थान में फिर से मुसीबत खड़ी हो सकती है। हुआ यूं है कि बाड़मेर जिले की गुड़ामलानी सीट से विधायक हेमाराम चौधरी ने मंगलवार को स्पीकर सीपी जोशी को अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया है। चौधरी को पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट का करीबी माना जाता है। 

चौधरी ने कहा है कि इस्तीफ़ा स्वीकार होने के बाद ही वह इसका कारण बताएंगे। माना जा रहा है कि अब राजस्थान कांग्रेस में पिछले साल गहलोत-पायलट के गुटों के बीच चला जोरदार सियासी संघर्ष फिर से जिंदा हो सकता है।

ताज़ा ख़बरें

पायलट का दिया था साथ 

हेमाराम चौधरी छठी बार विधायक बने हैं और राज्य सरकार की आलोचना करते रहे हैं। चौधरी उन 19 विधायकों में शामिल थे, जिन्होंने पिछले साल सचिन पायलट का खुलकर साथ दिया था। 

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा है कि हेमाराम चौधरी पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं और उनकी चौधरी से बात हुई है। डोटासरा ने हालात को संभालते हुए कहा कि यह घर का मामला है और इसे सुलझा लिया जाएगा। 

चौधरी ने बीते मार्च में राजस्थान की विधानसभा में अपने निर्वाचन क्षेत्र की ख़राब सड़कों का मुद्दा उठाया था और पूछा था कि कांग्रेस और बीजेपी में क्या अंतर है। उन्होंने आरोप लगाया था कि उनके इलाक़े में सड़क बनने में 2 से 2.5 करोड़ का घपला हुआ है और इस मामले की सीबीआई जांच कराई जानी चाहिए। 

Hemaram Choudhary resigned from rajasthan Assembly  - Satya Hindi

निकाय चुनाव पर पड़ा था असर

गहलोत-पायलट के संघर्ष के बीच जब बीते साल दिसंबर में निकाय चुनाव हुए थे तो उसमें कांग्रेस का प्रदर्शन सत्ता में होने के बाद भी ख़राब रहा था और बीजेपी को कांग्रेस से ज़्यादा सीटें मिली थीं। इसका सीधा कारण गहलोत-पायलट खेमों के बीच जारी जंग को माना गया था। 

राजस्थान कांग्रेस में बीते साल हुए घमासान को तो आलाकमान ने जैसे-तैसे संभाल लिया था लेकिन उसके बाद भी गहलोत और पायलट के बीच रिश्ते सामान्य हुए हों, ऐसा कभी नहीं लगा। कोरोना काल में भी दोनों नेताओं के बीच जो तालमेल दिखना चाहिए था, वह नदारद रहा।

कैबिनेट के विस्तार का पेच

गहलोत-पायलट का झगड़ा रोकने के लिए सोनिया गांधी ने तीन नेताओं की एक कमेटी बनाई थी। लेकिन राजस्थान में लंबे वक़्त से रोके गए कैबिनेट के विस्तार को लेकर पेच फंसा हुआ है। गहलोत और पायलट के बीच सामंजस्य बनाने में इस कमेटी को नाकों चने चबाने पड़ रहे हैं। 

राजस्थान से और ख़बरें

पायलट और गहलोत ने अपने ज़्यादा से ज़्यादा समर्थकों को कैबिनेट में शामिल करने और उन्हें वज़नी पद दिलाने के लिए दबाव बनाया हुआ है। इसके अलावा राज्य सरकार के बोर्ड और निगमों में भी खाली पदों को भरा जाना है। सूत्रों के मुताबिक़, पायलट कैंप का कहना है कि कैबिनेट के विस्तार में देरी से पार्टी को और नुक़सान हो रहा है। आने वाले दिनों में इसे लेकर पार्टी में घमासान तेज़ हो सकता है। 

आगे आए आलाकमान 

राजस्थान में 2023 में विधानसभा चुनाव होने हैं और यह उन गिने-चुने राज्यों में है, जहां कांग्रेस सत्ता में है। कांग्रेस की हालत बेहद ख़राब है और हाल ही में चार राज्यों के विधानसभा चुनाव में उसका प्रदर्शन निराशाजनक रहा है। केंद्रीय स्तर पर मचे घमासान के अलावा कई राज्यों में कांग्रेस इकाइयों में नेताओं के बीच जबरदस्त गुटबाज़ी है। ऐसे में आलाकमान को राजस्थान में गहलोत-पायलट गुट का झगड़ा फिर न बढ़ जाए, उससे पहले ही कमान संभालनी होगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें