loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2022

हिमाचल प्रदेश 68 / 68

बीजेपी
27
कांग्रेस
38
अन्य
3

गुजरात 182 / 182

बीजेपी
152
कांग्रेस
19
आप
7
अन्य
4

चुनाव में दिग्गज

राजस्थान संकट: सोनिया गांधी के फैसले का है इंतजार 

राजस्थान में हुए सियासी घटनाक्रम के बाद सभी की नजरें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर टिकी हैं कि वह आखिर इस मामले में क्या फैसला लेती हैं। मीडिया में आई तमाम खबरों के मुताबिक, गांधी परिवार राजस्थान में हुए सियासी घटनाक्रम के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से नाराज है।

राजस्थान भेजे गए पर्यवेक्षकों ने वहां से लौटकर सोमवार शाम को कांग्रेस अध्यक्ष से मुलाकात की थी और इस बारे में वह अपनी रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष को सौंपेंगे। 

एनडीटीवी के मुताबिक, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर राजस्थान आए वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे से रविवार को हुए सियासी घटनाक्रम के लिए माफी मांगी है। गहलोत ने कहा है कि ऐसा नहीं होना चाहिए था और उनका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें
दूसरे पर्यवेक्षक अजय माकन ने विधायक दल की बैठक के समानांतर बैठक बुलाए जाने को अनुशासनहीनता करार दिया था। इस बीच, गहलोत के करीबी मंत्री शांति धारीवाल ने जिस तरह अजय माकन पर सीधा हमला बोला है, उससे निश्चित रूप से राजस्थान की लड़ाई और बढ़ गई है। 
Sonia Gandhi on Rajasthan congress Crisis 2022 - Satya Hindi
बताना होगा कि शांति धारीवाल के आवास पर ही गहलोत समर्थक विधायक रविवार शाम को जुटे थे और बाद में उन्होंने स्पीकर सीपी जोशी के आवास पर जाकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया था। 
कांग्रेस अध्यक्ष इस मामले में क्या फैसला लेंगी, इसे लेकर तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। सचिन पायलट गुट को भी सोनिया गांधी के फैसले का इंतजार है।

क्या चाहते हैं गहलोत समर्थक विधायक?

गहलोत समर्थक विधायकों का कहना है कि साल 2020 में कांग्रेस से बगावत करने वाले पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट और उनके समर्थकों को मुख्यमंत्री नहीं बनाया जाना चाहिए। इस बात को गहलोत खेमे के तमाम नेता कह चुके हैं। राजस्थान में हुई इस बड़ी बगावत को देखते हुए राहुल गांधी के साथ भारत जोड़ो यात्रा में शामिल संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल भी दिल्ली पहुंचे हैं और उन्होंने इस सियासी संकट को लेकर तमाम आला नेताओं से बातचीत की है।  

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस मामले में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, केसी वेणुगोपाल, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से भी बातचीत की है। सूत्रों के मुताबिक कमलनाथ से कहा गया है कि वह सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच चल रही सियासी लड़ाई को खत्म कराएं। 

राजस्थान से और खबरें

गहलोत दौड़ से बाहर

कांग्रेस अध्यक्ष के नामांकन के लिए अब 4 दिन का वक्त बचा है, ऐसे में देखना होगा कि गहलोत नामांकन करेंगे या नहीं और कौन से नेता इस चुनाव में नामांकन करेंगे। इंडिया टुडे के मुताबिक, कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि अशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव की दौड़ से बाहर हो गए हैं। आने वाले दिनों में मुकुल वासनिक, मल्लिकार्जुन खड़गे, दिग्विजय सिंह अध्यक्ष के चुनाव में नामांकन कर सकते हैं। कांग्रेस नेता ने बताया कि राजस्थान के घटनाक्रम से पार्टी का शीर्ष नेतृत्व अशोक गहलोत से नाराज है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें